EPFO Interest Rate: 7 करोड़ लोगों की हो गई मौज, पीएफ पर बढ़ गया इतना ब्याज, जानें डिटेल

EPFO Interest Rate
EPFO Interest Rate: 7 करोड़ लोगों की हो गई मौज, पीएफ पर बढ़ गया इतना ब्याज, जानें डिटेल

EPFO Interest Rate: ईपीएफओ ने कर्मचारियों को बड़ी खुशखबरी देते हुए ऐलान किया कि 2023-24 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि ईपीएफ अकाउंट के लिए ब्याज दर में बढ़ोत्तरी हुई है। ईपीएफओ ने कर्मचारियों के लिए मौजूदा वित्त वर्ष के लिए ब्याज दर में बढ़ोत्तरी की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अब कर्मचारियों को पहले की तुलना में 0.10 फीसदी अधिक ब्याज मिलेगा। अर्थात अब आपके पीएफ अकाउंट पर 8.25 प्रतिशत का ब्याज दर दिया जाएगा। पिछले वर्ष 28 मार्च को ईपीएफओ ने 2022-23 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि खातों के लिए 8.15 प्रतिशत ब्याज दर की घोषणा की थी। उधर ईपीएफओ ने एफवाय22 के लिए 8.10 प्रतिशत का ब्याज दिया था। पीटीआई के अनुसार, ईपीएफओ के शीर्ष निर्णय लेने वाले निकाय सेंट्रल बोर्ड आॅफ ट्रस्टीज ने शनिवार को अपनी बैठक में 2023-24 के लिए ईपीएफ पर 8.25 प्रतिशत ब्याज दर देने का फैसला किया है।

2010 से ईपीएफओ ब्याज दरें | EPFO Interest Rate

2010-11 – 9.50%
2011-12  -8.25%
2012-13  -8.50%
2013-14  -8.75%
2014-15  -8.75%
2015-16  -8.80%
2016-17  -8.65%
2017-18  -8.55%
2018-19  -8.65%
2019-20  -8.5%
2020-21  -8.5%
2021-22 – 8.1%
2022-23  -8.15%
2023-24 – 8.25%

हुडको ने वार्षिक आधार पर शुद्ध लाभ में 33.33 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की

आवास और शहरी विकास निगम लिमिटेड (हुडको) के निदेशक मंडल ने यहां आयोजित अपनी बोर्ड बैठक में दिसंबर 2023 (वित्तीय वर्ष 2023-24) को समाप्त होने वाली तीसरी तिमाही के लिए सीमित समीक्षा किए गए वित्तीय परिणामों को स्वीकृति दे दी।

कंपनी ने वर्ष दर वर्ष (वाईओवाई) कर पश्चात लाभ (पीएटी) में 33.33 प्रतिशत की उल्लेखनीय वृद्धि और तिमाही दर तिमाही (क्यूओक्यू) 14.94 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। परिचालन से राजस्व में सालाना 10.04 प्रतिशत की वृद्धि और क्यूओक्यू में 7.93 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। इस उत्कृष्ट प्रदर्शन का श्रेय ऋण खातों में सालाना आधार पर 79,290 करोड़ रुपये से 84,424 करोड़ रुपये की लगातार वृद्धि और शुद्ध गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) में 0.96 प्रतिशत से 0.44 प्रतिशत सालाना की उल्लेखनीय कमी को दिया जाता है। दिसंबर 2023 में समाप्त तिमाही, वित्तीय वर्ष 2023-24 की तुलना में दिसंबर 2022 में समाप्त तिमाही, वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए मुख्य वित्तीय विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  •  परिचालन से राजस्व: 9 महीनों में सालाना आधार पर 10.04 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 5,197.08 करोड़ रुपये से रु. 5,719.07 करोड़
  •  कर के बाद लाभ: 9 महीनों में सालाना आधार पर 33.33 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 5,197.08 करोड़ रुपये से 5,719.07 करोड़ रुपये
  •  ऋण खाता: 79,290 करोड़ रुपये से 84,424 करोड़ रुपये तक की सालाना वृद्धि।
  •  शुद्ध गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए): सालाना आधार पर 4.27 प्रतिशत से 3.14 प्रतिशत तक उल्लेखनीय कमी
  •  शुद्ध गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए): सालाना आधार पर 0.96 प्रतिशत से 0.44 प्रतिशत तक उल्लेखनीय कमी
  • प्रति शेयर आय: सालाना आधार पर वृद्धि 5.31 रुपये से 7.08 रुपये तक

हुडको के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक संजय कुलश्रेष्ठ ने असाधारण वित्तीय परिणामों पर अपनी संतुष्टि व्यक्त करते हुए कहा,“हुडको गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) और ऋण-इक्विटी के न्यूनतम स्तर और आरामदायक सीएआर के साथ आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के तहत एक सरकारी कंपनी होने के नाते बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को वित्त पोषित करके राष्ट्र के लिए संपत्ति बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की परिकल्पना की गई है।”

उन्होंने हुडको पर भरोसा व्यक्त करने के लिए निवेशकों को धन्यवाद दिया, जिसने 9 महीने की छोटी अवधि के भीतर बाजार पूंजीकरण को मार्च, 2023 में 10,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर दिसंबर, 2023 में 40,000 करोड़ रुपये से अधिक करने में मदद की। ऋण की लागत को अनुकूलित करने के लिए, बाह्य वाणिज्यिक उधार (ईसीबी) मार्ग के माध्यम से धन जुटाया/अन्वेषित किया जा रहा है। वर्तमान वित्तीय बजट में आवास और बुनियादी ढांचे पर बड़े पैमाने पर बल दिया गया है और हुडको इन अवसरों का लाभ उठाने के लिए तैयार है।

कुलश्रेष्ठ ने कंपनी की वृद्धि का श्रेय हितधारकों के विश्वास और सहायता को दिया। उन्होंने केंद्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी,आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के राज्य मंत्री कौशल किशोर, आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव मनोज जोशी तथा निदेशक मंडल को उनके निरंतर समर्थन एवं मार्गदर्शन के लिए आभार व्यक्त किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here