महापौर महिला सफाईकर्मियों पर अभद्र टिप्पणी मामले में माफी मांगें: डॉली शर्मा

Ghaziabad News
महापौर महिला सफाईकर्मियों पर अभद्र टिप्पणी मामले में माफी मांगें: डॉली शर्मा

कांग्रेस पार्टी महिला सफाईकर्मियों की भावनाओं की कद्र करती है और उनकी जायज मांगों के लिए लखनऊ लड़ाई लड़ेगी | Ghaziabad News

गाजियाबाद (सच कहूं/रविंद्र सिंह)। Ghaziabad News: कांग्रेस प्रवक्ता एवं पूर्व लोकसभा प्रत्याशी रही डॉली शर्मा ने गाजियाबाद नगर निगम के हड़ताल रत महिला सफाईकर्मियों को नैतिक समर्थन देते हुए कहा है कि कांग्रेस पार्टी उनकी भावनाओं की कद्र करती है और उनकी जायज मांगों की पूर्ति के लिए गाजियाबाद से लखनऊ तक सियासी लड़ाई लड़ने का आश्वासन देती है। एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए उन्होंने यह बातें कही ।उन्होंने कहा कि गाजियाबाद में जो कुछ हो रहा है, उससे भाजपा नेता और उनकी सरकार का ही चाल, चरित्र और चेहरा स्पष्ट हुआ है। इसलिए अब भी वक्त है कि इस सरकार को उखाड़ फेंकें और आम आदमी की तरफदारी करने वाली कांग्रेस सरकार को सत्ता सौंपें।

कांग्रेस प्रवक्ता डॉली शर्मा ने सवालिया लहजे में कहा कि गाजियाबाद नगर निगम की महापौर सुनीता दयाल खुद एक महिला हैं, और अपने अधीनस्थ महिला कर्मचारियों की समस्याओं को सुनने की बजाय उनका यह कहना कि महिला सफाईकर्मी बिंदी-लिपिस्टिक लगाकर आती हैं, सोने की अंगूठी पहनती हैं, बिल्कुल अभद्र बात है। यह बेहद शर्मनाक टिप्पणी है। उन्हें इसके लिए सभी महिला सफाईकर्मियों से माफी मांगनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि भारतीय समाज में बिंदी-लिपिस्टिक आदि लगाना सुहाग की निशानी है और हर कार्य करते हुए इसे लगाने में किसी को कोई परेशानी नहीं महसूस होनी चाहिए। भाजपा तो भारतीय संस्कृति की रक्षा की बात करती है, लेकिन उसकी ही एक नेत्री अधीनस्थ महिला कर्मचारियों के सनातनी मिजाज की खिल्ली उड़ा रही हैं। यह हैरतअंगेज है। इससे महिला सफाईकर्मियों के रोष स्वाभाविक हैं। Ghaziabad News

उन्होंने कहा कि आज महापौर के गैरजिम्मेदाराना रवैये से गाजियाबाद नगर निगम के 800 से ज्यादा सफाई कर्मचारी गत 48 घण्टे से काम का बहिष्कार करते हुए नगर निगम मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इससे शहर में साफ-सफाई कार्य बाधित है और जगह जगह पर कूड़े का अम्बार लगा हुआ है। इससे आमलोगों को जो परेशानी हो रही है, उसके लिए महापौर सीधे जिम्मेदार हैं।

उन्होंने बताया कि गाजियाबाद नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत 4500 सफाई कर्मचारी कार्यरत हैं। नगर निगम में कार्यरत 2760 बोर्ड प्रस्ताव सफाई कर्मियों और सीएलसी कंपनी में कार्यरत 2400 कर्मियों की नियोक्ता की ओर से देय 10 करोड़ रुपये पीएफ धनराशि का गबन किया गया है। जिसे तत्काल कर्मचारियों के पीएफ खाते में जमा कराया जाये। सभी कर्मियों को स्थायी किया जाए। सभी कार्यवाहक सफाई नायकों को स्थायी सफाई नायक घोषित किया जाए। कूड़े के निष्पादन से हो रही आय का 60 प्रतिशत स्वीपर वेलफेयर फंड में जमा कराया जाए। अन्यथा कांग्रेस इस मुद्दे पर आंदोलन करेगी और सफाईकर्मियों को उनका हक दिलवाएगी। आवश्यकता पड़ी तो इसके लिए गाजियाबाद से लखनऊ तक संघर्ष किया जाएगा, लेकिन सफाईकर्मियों के स्वाभिमान को झुकने नहीं दिया जाएगा। उनका शोषण नहीं होने दिया जाएगा। Ghaziabad News

यह भी पढ़ें:– Aadhar Card Update: यूआईडीएआई ने 14 मार्च तक बढ़ाई फ्री आधार कार्ड अपडेशन की तारीख-उपायुक्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here