फैक्टरी की इमारत ढही, तीन मजदूरों की मौत

0
100
Accident

लुधियाना के बाबा मुकंद सिंह नगर में लेंटर ऊपर उठाने के वक्त हुआ हादसा

(Accident in Mukand Singh Nagar)

  • एनडीआरएफ, एसडीआरएफ सहित दमकल विभाग की टीमें जुटी

  • फैक्ट्री के मालिक व ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज

लुधियाना (सच कहूँ ब्यूरो)। पंजाब के लुधियाना में सोमवार को बाबा मुकंद सिंह नगर में एक फैक्टरी का दो मंजिला लेंटर गिर गया। मलबे के नीचे दबने से तीन मजदूरों की मौत हो गई तथा सात अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने फैक्टरी के मालिक जसविन्द्र और ठेकेदार पर मामला दर्ज कर लिया है। समाचार लिखने जाने तक मलबे में दबे मजदूरों को बाहर निकालने के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ सहित दमकल विभाग की टीमें जुटी हुई थी। एनडीआरएफ द्वारा 40 में से 37 मजदूरों को बाहर निकाल लिया गया था। इनमें से तीन मजदूरों की मौत हो गई थी व सात मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। शेष बचे तीन मजदूरों को निकालने के प्रयास जारी थे।

जानकारी के अनुसार मुकंद सिंह नगर में जसमेल सिंह एंड संस की पुरानी फैक्टरी है। बीते कुछ दिन से फैक्टरी की दूसरी मंजिल के लेंटर को ऊपर उठाने का काम चल रहा था। सोमवार सुबह लगभग चार बजे 40 मजदूर काम में जुटे थे। सारा काम पूरा हो चुका था। सुबह दस बजे जैक हटाया गया तो फैक्टरी की पहली मंजिल की छत नीचे गिर गई। इसके साथ ही इमारत ढह गई। एक दम मिट्टी का गुबार उठा।

  • आसपास के लोग तुरंत घटनास्थल की तरफ भागे और किसी तरह इमारत में फंसे कुछ मजदूरों को वहां से निकाल लिया।
  • घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल, डीसी वरिंदर शर्मा सहित सभी अधिकारी मौके पर पहुंचे।
  • हालात को देखते हुए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीम को तुरंत मौके पर बुलाया गया।

अभियान के बाद होगी जांच: डीसी

जिला उपायुक्त वरिन्द्र शर्मा के अनुसार मलबे में 40 लोग दबे थे जिनमें 37 को निकाला गया और तीन मजदूरों के दबे होने की आशंका है। इनमें से तीन मजदूरों की मौत हो गई तथा सात अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है। घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। फैक्टरी मालिक जसविन्द्र तथा ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया है। शर्मा ने बताया कि बचाव अभियान पूरा होने के बाद ही मामले की आगे की जांच होगी। पुलिस आयुक्त राकेश सिंह अग्रवाल ने कहा कि हादसे में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है तथा उन्हें जल्द गिरफ्तार कर लिया जायेगा। ये अभी फरार हैं। मलबे में दबे मजदूरों को जल्द निकाल लिया जायेगा। राहत तथा बचाव कार्य जारी है।

निगम पर उठे सवाल:

हादसे के बाद फिर नगर निगम पर सवालिया निशान लग गया है कि आखिरकार पुरानी इमारत को दूसरी मंजिल की छत को जैक से उठाने की अनुमति कैसे दी गई। यदि निगम से कोई परमिशन नहीं ली गई है, तो फिर निगम अधिकारियों ने समय रहते हुए कार्रवाई क्यों नहीं की।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।