सरसा के इस किसान ने एक एकड़ से पाई साढ़े 4 लाख की पैदावार 

Indian Plum Cultivation

बागवानी में छाया 28 एप्पल का बेर

अनिल। किसानी का जुनून गर सिर पर सवार हो तो इस क्षेत्र में बड़ा मुनाफा कमाया जा सकता है। ऐसे ही प्रगतिशील हैं श्याम सुंदर सरदाना, जो गांव बिज्जूवाली (जिला सरसा) में रेतीली जमीन व कम सिंचाई पानी के बावजूद भी लाखों रुपए की प्रतिवर्ष पैदावार उठा रहे हैं।  दरअसल, यह किसान अपने खेत की रेतीली भूमि में बेरी का बाग (Indian Plum Cultivation) लगाकर लाखों रुपए की प्रतिवर्ष पैदावार उठा रहा है। किसान द्वारा 2 एकड़ में 28 एप्पल बेरियों का बाग लगाया गया है, जिसमें करीब 300 पौधे फलों से लबालब भरे हुए हैं। किसान ने एक वर्ष में एक एकड़ से साढ़े 4 लाख रुपए की पैदावार हासिल की है।

ऐसे तैयार होती है पोंद | Indian Plum Cultivation

किसान ने बताया कि सर्वप्रथम पोंद तैयार करके कलम तैयार की। करीब एक माह के अंतराल में यह पेंद से पौधे का रूप धारण कर जाती है, जिसे 3 फुट चौड़ा व 3 फुट गहरा गड्ढा तैयार किया जाता है। इस प्रति गड्ढे में 20 किलोग्राम गोबर की खाद व बराबर मात्रा में मिट्टी डालकर उसको भर जाता है। इसमें 28 बेरी की पेंद रोपित की जाती है। एक गड्ढे से दूसरे की दूरी 15 बाई 15 फुट के बीच होनी चाहिए, ताकि पौधे का फैलाव पूरी तरह से हो सके। एक एकड़ में करीब 150 पौधे रोपित किए जाते हैं, जिसमें 3 वर्ष तक निरंतर तीन-तीन माह के अंतराल पर सिंचाई की जाती है। 3 वर्ष के बाद बेरी का पौधा फल देने के लिए बिल्कुल तैयार हो जाता है। एक बेरी के पौधे से करीब दो क्विंटल के लगभग फल पककर तैयार हो जाता है।

बेरी के पौधे में खाद देने की प्रक्रिया 

किसान ने बताया कि एक बार हर गड्ढे में 1 किलो डीएपी, 250 ग्राम पोटाश, 150 ग्राम जिंक व 1 किलो सल्फर वर्ष में यह खाद डाली जाती है। बेरी का पौधा तैयार होने के बाद पौधे की कटाई एक वर्ष में एक बार मई के महीने में की जाती है। उसने बताया कि बेर की वैरायटी अन्य किस्मों से अलग है, क्योंकि 28 एप्पल की किस्म अन्य किस्मों की पैदावार होने से पहले खत्म हो जाती है। अन्य बेरों की किस्म मार्च माह में शुरू होती है, जबकि 28 एप्पल बेर की किस्म जनवरी के अंत तक पककर पूर्णतय: तैयार होकर बाजार में पहुंच जाती है।
बाजार में जो अरमान किस्म के बेरों की वैरायटी बाजार में पहुंचती है। तब तक 28 एप्पल किस्म के बेर की पैदावार समाप्त हो जाती है। इसी कारण यह किस्म किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है। वही किसान ने बताया कि मार्केट में 28 एप्पल किस्म के बेर करीब 30 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिक रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here