पराली प्रबंधन: कैथल के हजारो किसानों के अटके है अभी भी 20 करोड़ रुपए

Kaithal News
कैथल के हजारो किसानों के अटके है अभी भी 20 करोड़ रुपए

सरकार की तरफ से 25 हजार किसानों को मिलनी है प्रोत्साहन राशि

कैथल (सच कहूँ/कुलदीप नैन)। Stubble Management: पराली प्रबंधन में प्रदेश भर में पहले स्थान पर रहने वाले कैथल जिले के लगभग 20 हजार किसानो के अभी भी 20 करोड़ रूपये अटके हुए है। इसका मुख्य कारण जो विभाग के अधिकारिओ ने बताया वो यह है कि प्रत्येक किसान का यूनिक कोड होता है वो चेक करना होता है , उसको पूरी तरह वेरीफाई करके ही आगे की प्रोसेस शुरू होती है, हालाँकि विभाग के कर्मचारी लगातार लगे हुए है लेकिन फिर भी अभी तक बड़ी मात्र में किसान प्रोत्साहन राशी से वंचित है। Kaithal News

इसके साथ ही बहुत से फार्म ऐसे है जिन पर लोकल विलेज कमेटी के सदस्यों के साइन नहीं है। जिस कारण भी दिक्कत आ रही है। बता दे कि पराली प्रबंधन में करने वाले किसानों को सरकार की तरफ से प्रति एकड़ एक हजार रुपए की की प्रोत्साहन राशि दी जाती और कैथल जिले में 25 हजार ऐसे किसान है जिन्होंने पराली प्रबंधन करने के बाद प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन किया था। किसानो के खातो में 25 करोड़ रुपया आना था। लेकिन अभी तक सिर्फ 5 हजार किसान ही ऐसे है जिन्हें अब तक ये प्रोत्साहन राशी प्राप्त हुई है और 20 हजार किसान अभी भी इसके लिए इंतजार में बैठे है

इस प्रकार मिलती है प्रोत्साहन राशि | Kaithal News

हरियाणा सरकार द्वारा पराली प्रबंधन करने वाले किसानो को 1 हजार रूपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दी जाती है जिसके लिए सबसे पहले किसान को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से आवेदन करना होता है। इसके बाद लोकल विलेज कमेटी इसकी वेरिफिकेशन करती है। कमेटी में गांव का नंबरदार, एक कृषि विभाग का कर्मचारी व एक पटवारी शामिल होता है। इसके बाद कमेटी की तरफ से फाइल को डीडीए एग्रीकल्चर को भेजा जाता है| डीडीए एग्रीकल्चर में सहायक कृषि अभियंता डॉ. जगदीश मलिक डीसी से पेमेंट की अप्रूवल लेते हैं, जिसके बाद किसान के खाते में प्रोत्साहन राशि डाली जाती है। Kaithal News

पात्र किसानों को लगातार प्रोत्साहन राशि का भुगतान किया जा रहा है। अब तक लगभग 5 करोड़ की राशि किसानो के खातो में जा चुकी है। पूरी प्रोसेस होने में थोडा समय लगता | उम्मीद हा मार्च तक सभी किसानो के खातो में प्रोत्साहन रास्शी पहुँच जाएगी। किसान भी एक बार अपनी लोकल विलेज कमेटी से आवेदन के फार्म को रि-चेक अवश्य करा लें।                                                              डॉ.जगदीश मलिक, सहायक कृषि अभियंता, कृषि विभाग, कैथल।

यह भी पढ़ें:– Punjab Police: पंजाब पुलिस को मिली बड़ी सफलता, लॉरेंस बिश्नोई गैंग के 8 सदस्य गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here