अपने फर्ज का निर्वाह करो, मगर अति नहीं होनी चाहिए

0
461
Anmol Vachan

सरसा। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि इन्सान इस दुनिया में सुखी रह सकता है, परमानंद की लज्जत ले सकता है, पर उसके लिए सत्संग में आना व सुनकर अमल करना अति जरूरी है। इन्सान सत्संग में आएगा, तभी सुनेगा और तभी अमल कर पाएगा। इसलिए सबसे जरूरी है सत्संग सुनो और अमल करो। पूज्य गुरुजी फरमाते हैं कि सुनकर जब तक इन्सान अमल नहीं करता तब तक मालिक की कृपा का पात्र नहीं बन सकता। दिखावा, ढोंग से कभी भी मालिक को खुश नहीं किया जा सकता। दिमाग कहीं ओर, करना कुछ और व दिखावा कुछ ओर, ऐसा आदमी कभी भी भगवान को नहीं पा सकता। दुनिया में भी लोग उसे पसंद नहीं करते और मालिक की दरगाह में भी उसको धिकार दिया जाता है। इसलिए उस एक के बनो, जो एक था, एक है और हमेशा एक ही रहेगा। और वो है अल्लाह, वाहेगुरु, हरि, खुदा, राम, भगवान, सतगुरू जिसके करोड़ों नाम हैं।

पूज्य गुरु जी ने फरमाया कि रूहानियत में एक रस होना पड़ता है, एक जैसे रहना पड़ता है। मालिक के लिए तड़पते हो तो मालिक के लिए ही तड़पो, यारी-दोस्ती या दुनियावी इश्क से बचना होगा। इसका मतलब ये नहीं है कि आप किसी से प्यार न करो। प्यार करो बेगर्ज, नि:स्वार्थ प्यार करो। जिस रिश्ते के लिए जुड़े हैं, बहन-भाई का रिश्ता, पति-पत्नी का, मां-बेटे का रिश्ता इन रिश्तों के लिए जो भी आपके फर्ज हैं, कर्त्तव्य है उस प्यार का निर्वाह करो, लेकिन अति नहीं होनी चाहिए। अति अगर करना चाहते हो तो भगवान, सतगुरु के प्यार में करो। उससे ज्यों-ज्यों प्यार करते जाओगे, उतनी ही भगवान की दया, मेहर, रहमत आएगी और नूरी स्वरूप के दर्शन होते जाएंगे, खुशियों से लबरेज होते जाओगे।

आप जी फरमाते हैं कि मालिक जिसे देता है, उसे देखता भी है। जिसे प्यार लुटाता है, उसे आजमाता भी है। अगर आजमाने में इन्सान खिसक जाए तो मालिक कहां से मिलेगा? कई लोगों का आपस में इतना प्यार होता है कि रोटी अच्छी नहीं लगती, काम-धंधा अच्छा नहीं लगता। कहीं इतना प्यार मालिक से किया जाए कि मालिक तेरे बिना मुझे चैन नहीं आएगा, नींद नहीं आएगी, सुमिरन करे, तड़पे शायद मालिक आधी तड़प में ही भागा चला आए। पर उसके लिए नहीं तड़पते, लोग दुनियावी प्यार में पागल हुए फिरते हैं।

इंद्रियों के भोग-विलास के लिए अंधे हुए रहते हैं। ऐसा प्यार इन्सान के लिए घातक है, इन्सान कभी सुखी नहीं रह सकता, चैन नहीं आएगा। क्योंकि कहीं न कहीं तकरार होगी, कहीं न कहीं झगड़ा होगा, हमेशा तो विचार मिले नहीं रह सकते। जैसे ही झगड़ा तकरार होगा तो फिर एक-दूसरे की सारी कमियां गाओगे और जब कमियां गा दी तो एक-दूसरे के अंदर जख्म हो जाएंगे और फिर आपस में जुड़ोगे नहीं, क्या फायदा होगा। इसलिए उस अल्लाह, राम, वाहेगुरु, भगवान से सच्चा प्यार जोड़ो, वो इस जहान व अगले जहान दोनों जहानों में आपका साथ नहीं छोड़ेगा, हमेशा हाथ पकड़ कर रखेगा।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।