सेवा की परीक्षा

0
867

अपने शिष्यों की परीक्षा के उद्देश्य से एक बार गुरु नानक देव जी ने कांसे का अपना कटोरा कीचड़ से भरे गड्ढे में फेंक दिया। इसके बाद उन्होंने शिष्यों को आदेश दिया कि वे गड्ढे में घुस कर उनका कटोरा वापस लेकर आएं। कीचड़ में सन जाने के डर से कोई शिष्य कटोरा लाने का साहस नहीं कर सका।

कोई-न-कोई बहाना बनाकर वे निकल गए। गुरु नानक देव जी मुस्कुराए और अंत में उन्होंने भाई लहना से कहा कि कटोरा निकाल लाओ। गुरु-भक्त लहना ने अपने सुंदर लिबास की परवाह नहीं की। वे गड्ढे में उतरे। उनका लिबास काले कीचड़ में सन गया, लेकिन वे गुरु जी का कटोरा निकाल लाए। गुरु नानक देव जी के चेहरे पर संतोष की रेखा दिखाई दी। उन्होंने लहना को आशीर्वाद दिया। यही भाई लहना जी आगे चलकर सिखों के दूसरे गुरु अंगद देव जी के नाम से प्रसिद्ध हुए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlinked in , YouTube  पर फॉलो करें।