हमसे जुड़े

Follow us

Epaper

26.5 C
Chandigarh
More
    Home विचार प्रेरणास्रोत

    प्रेरणास्रोत

    shah mastana ji sach kahoon

    प्यारे सतगुरू जी ने सीआईडी अधिकारियों के भ्रम को किया दूर

    वे बाहर के सीआईडी के लोग हैं, असीं हुए अंदर के सीआईडी।’’ वे लोग चकित रह गए कि इनको कैसे मालूम हुआ क्योंकि उनकी बात गोपनीय थी।

    ‘‘पूर्ण सतगुरू अपने मुरीदों का साथ कभी नहीं छोड़ता’’

    यह बात 18 जुलाई 1970 की है। उस समय मेरा परिवार गांव किला निहाल सिंह वाली(बठिंडा) में रहता था। पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज वहां सत्संग फरमाने आए हुए थे। सत्संग का कार्यक्रम हमारे घर में ही था। कविराज भाई भजन बोल रहे थे। अचानक मेरे घर से रोने-च...
    Mastana Balochistani - Sach Kahoon

    सावण शाही मौज की बख्शिश: बागड़ तारने का आदेश

    पूजनीय बेपरवाह शाह मस्ताना जी महाराज ने अपना सर्वस्व अपने सतगुरु बाबा सावन सिंह जी महाराज के चरणों में अर्पित कर दिया। बेपरवाह शाह मस्ताना जी का अपने मुर्शिद से इतना ज्यादा प्रेम था कि उनके प्यार, वैराग्य में हर समय आँखों से आँसू बहते रहते और जब दर्श...
    Rani Rudabai

    रानी रुदाबाई जिसने सुल्तान बेघारा के सीने को फाड़ा

    0
    गुजरात से कर्णावती के राजा थे, राणा वीर सिंह वाघेला (सोलंकी), इस राज्य ने कई तुर्क हमले झेले थे पर कामयाबी किसी को नहीं मिली, सुल्तान बेघारा ने सन् 1497 पाटण राज्य पर हमला किया राणा वीर सिंह वाघेला के पराक्रम के सामने सुल्तान बेघारा की 40000 से अधिक ...
    Gurugaddi Diwas, Parm Pita Shah Satnam Singh Ji Maharaj, Gurmeet Ram Rahim, Dera Sacha Sauda

    जब एक शख्स को खुद पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज ने यमों से बचाया

    प्रेमी भोपाल सिंह (मास्टर) गांव शाहपुर बड़ौली जिला मेरठ (यूपी) से अपने प्यारे सतगुरु जी के एक प्रत्यक्ष करिश्में का इस प्रकार वर्णन करता है। सन् 1978 की बात है, भोपाल सिंह ने उस वक्त तक नाम (गुरुमंत्र) नहीं लिया हुआ था। वह बाहरी कर्म काण्डों में ही फ...
    Anmol Vachan

    रूहानी सवाल-जवाब 

    जिज्ञासुओं के सवाल पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज के जवाब:- प्रश्न : कोई आत्महत्या कर लेता है तो क्या यह उस इन्सान की प्रारब्ध है? यदि उसका अंत ही ऐसा है तो उसे आत्महत्या का दंड क्यों? उत्तर : एक-न-एक दिन हर किसी ने जाना है और कुदरती मृृत्यु क...
    Donkey is able to hear another donkey from a distance of 96 kilometers

    गधा 96 किलोमीटर की दूरी से दूसरे गधे को सुनने में सक्षम है

    एक गधा रेगिस्तान में 96 किलोमीटर की दूरी से एक और गधे को सुनने में सक्षम है। यह उनके बड़े कानों के कारण संभव है। इनके बड़े कान उनके शरीर को गर्म और शुष्क रेगिस्तानी परिस्थितियों में ठंडा रखने में मदद करते हैं।
    shah mastana ji sach kahoon

    सच्चे सतगुुरू जी ने की भक्त की संभाल

    उत्तर प्रदेश के एक गांव गेजा से श्री मामराज ने जब पूजनीय शाह मस्ताना जी महाराज से नाम लिया तो उसका जीवन ही बदल गया। सतगुरू जी की याद और दर्शन पाने की तड़प उसे हर समय रहती थी। वह सभी मासिक सत्संगों पर डेरा सच्चा सौदा, सरसा पहुंचने को तैयार रहता। कई बार...
    Inspiration

    सतगुरू जी ने शिष्य की सच्ची अर्ज स्वीकार की

    बहन ईशर कौर सुचान (सरसा) से पूजनीय शहनशाह शाह मस्ताना जी महाराज की अपार रहमत का वर्णन करती हुई बताती हैं कि सन् 1958 की बात है। मेरे ससुराल वालों ने अपनी सारी जमीन जो गांव सुचान (सरसा) के एरिया में पड़ती थी, को बेचकर यूपी (उत्तर प्रदेश) में खरीदने का ...
    Venus is the hottest planet in our solar system

    हमारे सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह है ‘शुक्र’

    हमारा सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र है ज्यादातर लोग हमेशा सोचते हैं कि सबसे गर्म ग्रह बुद्ध होगा क्योंकि यह सूर्य के ज्यादा नजदीक है जबकि ऐसा नहीं है। शुक्र के वायुमंडल में कई प्रकार की गैसें पाई जाती हैं जो कि ‘ग्रीन हाउस इफेक्ट’ का कारण बनती हैं अत: शुक्र अधिक गर्म है।
    Mastana Balochistani - Sach Kahoon

    ‘‘मस्ताना पैसों का भूखा नहीं है, मस्ताना प्यार का भूखा है’’

    जब लगी तरबूज की बोली मोती राम जिन्हें पूजनीय शाह मस्ताना जी महाराज प्यार से प्रह्लाद कहकर पुकारते, वाल्मीकि चौक सरसा का रहने वाला पुराना सत्संगी कविराज है। उसकी इच्छा थी कि हमारे इलाके के लोग शराब एवं मांस आदि का सेवन करते हैं यह सब बुराईयां दूर होन...
    Omar is the worlds biggest cat

    दुनिया की सबसे बड़ी बिल्ली है ‘ओमार’

    विश्व में कुछ ऐसी बिल्लियां है जो 32 फीट ऊँची इमारत से नीचे कंक्रीट पर गिर कर भी बच चुकी है। बिल्लियों के समूह को क्लैडर कहा जाता है। इनमें 20 से अधिक मांसपेशियां होती हैं जो उनके कानों को नियंत्रित करती हैं। वे अपने जीवन का 70% समय सोने में बिताती ह...
    The first university in India established by the British

    अंग्रेजों द्वारा स्थापित भारत में पहला विश्वविद्यालय

    मुंबई विश्वविद्यालय, भारत का पहला आधुनिक विश्वविद्यालय, 1857 में अंग्रेजों द्वारा स्थापित किया गया। मूल रूप से मान्यता और डिग्री प्रदान करने वाली संस्था, मुंबई विश्वविद्यालय ने बाद में अपने कार्यों में शिक्षण को जोड़ा।
    Jawaharlal Nehru

    भारतीय लोकतंत्र के नायक थे चाचा नेहरू

    14 नवंबर की तारीख को भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन के तौर पर याद किया जाता है। आज के दिन 1889 को इलाहाबाद में जन्मे पंडित जवाहरलाल नेहरू ने शायद ही कभी ये सोचा होगा कि एक दिन भारत में उनके नाम और काम पर आलोचनात्मक बहस होगी। यह स...
    Incarnation Day, shah Mastana Ji Maharaj, Dera Sacha Sauda, Gurmeet Ram Rahim

    साईं जी ने जात-पात का भेद मिटाया

    एक बार आप जी नोहर से लालपुरा की तरफ जीप में सवार होकर जा रहे थे। उन दिनों वह रास्ता कच्चा था। रोड़ के आसपास बड़े-बड़े टीले थे। रास्ते में आपजी ने जीप को रूकवाया व पानी पीने की इच्छा जताई। वैसे तो सेवादार हर समय पानी अपने साथ रखते थे। लेकिन उस समय उनके प...
    Coronavirus in Deer

    हिरण को पकड़ने के लिए शिकारी पहनते हैं विशेष जैकेट

    हिरण एक जंगली जानवर है जो कि सर्वाइडे परिवार का है। हिरन की लगभग 50 प्रजातियां हैं जैसे कि हिरन, लाल हिरण, एल्क, सफेद पूंछ वाले हिरण, और मूस। हिरण मूल रूप से एशिया, उत्तरी अमेरिका, उत्तरी अफ्रीका, यूरोप और दक्षिण अमेरिका जैसे महाद्वीपों में पाए जाते ...
    Colorful Parrots

    ले चलते हैं आपको रंग-बिरंगे तोतों की दुनिया में…

    तोते को कौन नहीं जानता है। ये छोटे बच्चों को बहुत पसंद होता है। जो एक घरेलू पक्षी है। यह छोटे आकार का हरा और लंबी व पतली पूँछ वाला होता है। यह एक बहुत सुंदर पक्षी है। यह हरे रंग का 10-12 इंच लंबा पक्षी है, जिसके गले पर लाल कंठ होता है। इसकी आवाज छोटे...
    Saha-Mastana-Ji-Maharaj

    प्यारे सतगुरू जी के महान परोपकार

    सेवा का फल प्रेमी जंगीर सिंह निवासी लोहाखेड़ा, फतेहाबाद सतगुरु की साक्षात रहमत को इस प्रकार बयां करते हैं। ये बात 10 अक्तूबर, 1988 की है। मैं बिजली बोर्ड में लाइनमैन के पद पर नियुक्त था। मुझे मासिक सत्संग पर आश्रम में जाना था, परंतु छुट्टी न मिलने के...
    Shah Satnam Singh Ji Maharaj

    शहनशाही रहमत : ‘‘नहीं, तू सीधा उनके घर जाना। तू डर मत, हम तेरे साथ हैं। ऐसा कुछ नहीं होगा।’’

    गांव लालेआणा(भटिंडा) में एक ऐसा परिवार था जिसका वहां के एक परिवार से काफी मनमुटाव था। इस परिवार का मुखिया हमेशा अपने पास हथियार रखता था। उसने पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज से नाम दान लिया हुआ था। एक दिन वह पूजनीय परम पिता जी से मिला। उसे देखकर ...
    Saha-Mastana-Ji-Maharaj

    पूज्य सतगुरू जी के वचनों ने बदली शिष्य की तकदीर

    प्रमुख दास गांव खजूरी (फतेहाबाद) में रहता था। उसका पहला नाम राम गोपाल शर्मा था। सन् 1952 में परम पूजनीय बेपरवाह शाह मस्ताना जी महाराज ने पहली बार जब महमदपुर रोही में सत्संग फरमाया था तो गांव में सबसे पहले राम गोपाल ने नाम-दान प्राप्त किया था। पूज्य श...
    Should we run fan with AC

    क्या एसी के साथ पंखा चलाना चाहिए?

    अगर एसी के साथ पंखा चलता है तो बिजली का बिल कम आता है। जी हां ! यह सच है अगर बिना पंखे की एसी चलता है तो आप उस पर लोएस्ट टेंपरेचर सेट करते हैं जैसे कि 18 से 22 के बीच, जबकि पंखे के साथ आप इसी को 24-28 डिग्री टेंपरेचर पर भी आराम से चला सकते हैं। इससे ...
    Sant-Tukaram

    कर्म और भक्ति

    एक जिज्ञासु संत तुकाराम की खोज में निकल पड़ा। पूछते-पूछते वह संत तुकाराम के पास पहुँचा। उसने देखा तुकाराम एक दुकान में बैठे कारोबार में व्यस्त हैं। वह दिन भर उससे बात करने की प्रतीक्षा करता रहा और तुकाराम सामान तोल-तोल कर बेचता रहे। दिन ढला तो वह बोला...
    Albert Einstein

    जब ड्राईवर ने दिया आइंस्टीन की जगह भाषण…

    0
    अल्बर्ट आइंस्टीन, दुनिया का शायद ही ऐसा कोई पढ़ा-लिखा शख्स होगा जो इस नाम को ना जानता हो। उनमें एक खास बात ये थी कि वो जिस काम को करते थे, पूरी लगन से करते थे। और काम को अंजाम तक पहुंचाकर ही सांस लेते थे। यही कारण बना की अल्बर्ट आइंस्टीन दुनिया के महा...
    Revolutionary Gangu Mehtar

    क्रांतिकारी गंगू मेहतर से अंग्रेज क्यों खौफ खाते थे?

    गंगू मेहतर विट्ठुर के शासक नाना साहब पेशवा की सेना में नगाड़ा बजाते थे। गंगू मेहतर को कई नामों से पुकारा जाता है। गंगू मेहतर को पहलवानी का भी शौक था। जिसकी वजह से उन्हें गंगू पहलवान के नाम से भी पुकारा जाता था। सती चौरा गांव में इनका पहलवानी का अखाड़ा ...
    Saha-Mastana-Ji-Maharaj

    सांई जी ने अलौकिक खेल से बदली निंदक की जिंदगी

    निंदक को भेजा मिठाई का डिब्बा एक बार एक आदमी जो तावीज आदि बनाकर बेचता था। उस व्यक्ति ने सरसा शहर में जगह-जगह मुनादी करके बताया कि आज रात को सरसा के एक चौक में जलसा होगा। इस जलसे में डेरा सच्चा सौदा के बारे में बताया जाएगा कि कैसे ये लोगों को गुमराह ...