हमसे जुड़े

Follow us

Epaper

26.5 C
Chandigarh
More
    Mastana-Ji-Maharaj

    सतगुरू जी ने जीव को सिखाया ईमानदारी पर चलना

    शाह मस्ताना जी धाम सरसा में मासिक सत्संग पर भारी संख्या में साध-संगत पहुंची हुई थी। पूर्व की तरफ कच्चे रास्ते पर पुराना मुख्य द्वार था। सरसा के भक्त माना राम छाबड़ा व कुछ अन्य फल बेचने वाले भी डेरे के बाहर अपनी अस्थाई दुकानें लगाकर अपना सामान बेचने आए...
    Saha-Mastana-Ji-Maharaj

    सांई जी ने अलौकिक खेल से बदली निंदक की जिंदगी

    निंदक को भेजा मिठाई का डिब्बा एक बार एक आदमी जो तावीज आदि बनाकर बेचता था। उस व्यक्ति ने सरसा शहर में जगह-जगह मुनादी करके बताया कि आज रात को सरसा के एक चौक में जलसा होगा। इस जलसे में डेरा सच्चा सौदा के बारे में बताया जाएगा कि कैसे ये लोगों को गुमराह ...
    Gurugaddi Diwas, Parm Pita Shah Satnam Singh Ji Maharaj, Gurmeet Ram Rahim, Dera Sacha Sauda

    जब एक शख्स को खुद पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज ने यमों से बचाया

    प्रेमी भोपाल सिंह (मास्टर) गांव शाहपुर बड़ौली जिला मेरठ (यूपी) से अपने प्यारे सतगुरु जी के एक प्रत्यक्ष करिश्में का इस प्रकार वर्णन करता है। सन् 1978 की बात है, भोपाल सिंह ने उस वक्त तक नाम (गुरुमंत्र) नहीं लिया हुआ था। वह बाहरी कर्म काण्डों में ही फ...

    ‘‘पूर्ण सतगुरू अपने मुरीदों का साथ कभी नहीं छोड़ता’’

    यह बात 18 जुलाई 1970 की है। उस समय मेरा परिवार गांव किला निहाल सिंह वाली(बठिंडा) में रहता था। पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज वहां सत्संग फरमाने आए हुए थे। सत्संग का कार्यक्रम हमारे घर में ही था। कविराज भाई भजन बोल रहे थे। अचानक मेरे घर से रोने-च...
    Shah Satnam Ji Maharaj

    सच्चे सतगुरु जी ने शिष्य को बख्शी नई जिदंगी

    सन् 1988 की बात है। मेरी शादी के चार वर्ष उपरांत मेरे परिवार ने मुझे अलग कर दिया। मेरे सिर पर इतना कर्ज हो गया कि मैं अपनी सारी जायदाद बेचकर भी उसे उतार नहीं सकता था। एक दिन मैंने सोचा कि ऐसी जिंदगी से मरना ही बेहतर है। मैं अपने कमरे में जाकर आत्महत्...

    ‘‘पूर्ण सतगुरू अपने मुरीदों का साथ कभी नहीं छोड़ता’’

    13 मई 1987 :- पूजनीय परम पिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज गांव मोठमाजरा, जिला जींद में सत्संग फरमा रहे थे। एक शंकावादी व्यक्ति ने कहा कि जो व्यक्ति नाम लेकर नियमों को उल्लंघन करता है तो सतगुरू उसे कैसे लेकर जाएगा, क्योंकि उसने अपने सतगुरू का हुक्म तो मा...
    Importance of Silence

    अपने आप को जानना सीखें

    लोग दुनिया को जानने की बात तो करते हैं, पर स्वयं को नहीं जानते। जानते ही नहीं, बल्कि जानना भी नहीं चाहते। खुद को जानना ही दुनिया की सबसे बड़ी नियामत है। जो खुद को नहीं जानता, वह भला दूसरों को कैसे जानेगा? दूसरों को भी जानने के लिए पहले खुद को जानना आव...
    Mastana Balochistani - Sach Kahoon

    सावण शाही मौज की बख्शिश: बागड़ तारने का आदेश

    पूजनीय बेपरवाह शाह मस्ताना जी महाराज ने अपना सर्वस्व अपने सतगुरु बाबा सावन सिंह जी महाराज के चरणों में अर्पित कर दिया। बेपरवाह शाह मस्ताना जी का अपने मुर्शिद से इतना ज्यादा प्रेम था कि उनके प्यार, वैराग्य में हर समय आँखों से आँसू बहते रहते और जब दर्श...
    shah mastana ji sach kahoon

    प्यारे सतगुरू जी ने सीआईडी अधिकारियों के भ्रम को किया दूर

    वे बाहर के सीआईडी के लोग हैं, असीं हुए अंदर के सीआईडी।’’ वे लोग चकित रह गए कि इनको कैसे मालूम हुआ क्योंकि उनकी बात गोपनीय थी।
    shah mastana ji sach kahoon

    सच्चे सतगुुरू जी ने की भक्त की संभाल

    उत्तर प्रदेश के एक गांव गेजा से श्री मामराज ने जब पूजनीय शाह मस्ताना जी महाराज से नाम लिया तो उसका जीवन ही बदल गया। सतगुरू जी की याद और दर्शन पाने की तड़प उसे हर समय रहती थी। वह सभी मासिक सत्संगों पर डेरा सच्चा सौदा, सरसा पहुंचने को तैयार रहता। कई बार...
    ParamPita-Ji.gif-

    साध-संगत की अर्ज सुनी सतगुरू ने

    पंजाब में अनेकों सत्संग फरमाने के बाद जब पूजनीय परम पिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज डेरा सच्चा सौदा सिरसा लौट रहे थे, तब गांव पन्नीवाला के कुछ सत्संगी सेवादारों ने पूजनीय परम पिता जी के चरणों में अरदास की पिता जी! हमारे घरों में भी अपने पवित्र चरण टिका...

    सच्चे सतगुरू जी ने शिष्य को बख्शी नई जिंदगी

    मैं लगभग 13-14 साल का था। हमने अभी नया घर बनाया था। घर बनाने के 5 दिन बाद मैं मकान की छत पर पानी से तराई कर रहा था कि अचानक मेरा पैर फिसल गया और मैं छत से 12 फुट की ऊंचाई से पीठ के बल गिर गया। मुझे ऐसा लगा जैसे पूजनीय परम पिता शाह सतनाम सिंह जी महारा...

    ‘गुरू के नूरी स्वरूप में करोड़ों सूरजों का प्रकाश हैं’

    सतगुरू जी के रूहानी नजारे प्रेमी रामफल इन्सां सुपुत्र श्री भगत राम आनंद पुरी कॉलोनी, नूरवाना रोड, लुधियाना (पंजाब)। प्रेमी जी अपने सुमिरन अभ्यास के दौरान सतगुरू के प्रत्यक्ष नूरानी दीदार तथा अन्य रूहानी नजारों के बारे में बताते हैं। प्रेमी जी लिखित ...
    Shah Satnam Singh Ji Maharaj

    शहनशाही रहमत : ‘‘नहीं, तू सीधा उनके घर जाना। तू डर मत, हम तेरे साथ हैं। ऐसा कुछ नहीं होगा।’’

    गांव लालेआणा(भटिंडा) में एक ऐसा परिवार था जिसका वहां के एक परिवार से काफी मनमुटाव था। इस परिवार का मुखिया हमेशा अपने पास हथियार रखता था। उसने पूजनीय परम पिता शाह सतनाम जी महाराज से नाम दान लिया हुआ था। एक दिन वह पूजनीय परम पिता जी से मिला। उसे देखकर ...
    Saint Dr. MSG (Gurmeet Ram Rahim Singh Ji) taught the lesson of humanity - Sach Kahoon

    सतगुरु जी की रहमत से भयानक बीमारी हुई ठीक

    बहन दविंदर कौर इन्सां पत्नी प्रेमी जसवीर सिंह इन्सां पुत्र प्रेमी जीवन राम इन्सां, निवासी गाँव बनूड़, तहसील राजपुरा, जिला पटियाला (पंजाब) ने स्वयं पर हुए पूज्य हजूर पिता संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के पावन रहमो-करम को इस प्रकार बयान करती है...
    Shah-Satnam-Singh-Ji-Mahara

    सतगुरू के प्रेम में गांव-गांव नाचता रहा असली रांझा

    प्रेमी रांझा राम लिखते हैं कि उसकी पत्नि ने बेपरवाह शाह मस्ताना जी महाराज से नाम शब्द प्राप्त किया हुआ था। शुरू-शुरू में वह उसे सत्संग में जाने नहीं देता था। वह छिप-छिप कर सत्संग में जाती थी।एक दिन उसने बेपरवाह जी के सामने उसकी शिकायत करते हुए उपरोक्...
    Saint Dr. MSG

    पूज्य गुरु जी ने स्वयं प्रकट होकर प्रेमी को भारी मुसीबत से बचाया

    प्रेमी गुरचरण सिंह पुत्र कृपाल सिंह गांव काट दुन्ना जिला संगरूर (पंजाब) से सतगुरु की उस पर हुई दया-मेहर का एक करिश्मा इस प्रकार वर्णन करता है:- 27 फरवरी 1995 की सुबह को वह अपने घर में अर्द्ध निंदा की अवस्था में सोया हुआ था। उसे स्वप्न आया कि उसका स्...
    Mastana Balochistani - Sach Kahoon

    ‘‘मस्ताना पैसों का भूखा नहीं है, मस्ताना प्यार का भूखा है’’

    जब लगी तरबूज की बोली मोती राम जिन्हें पूजनीय शाह मस्ताना जी महाराज प्यार से प्रह्लाद कहकर पुकारते, वाल्मीकि चौक सरसा का रहने वाला पुराना सत्संगी कविराज है। उसकी इच्छा थी कि हमारे इलाके के लोग शराब एवं मांस आदि का सेवन करते हैं यह सब बुराईयां दूर होन...
    Mastana Balochistani - Sach Kahoon

    सच्चे सतगुरु जी ने सेवादार को सांप से बचाया

    0
    ‘‘हमनें तो पहले ही कहा था कि भक्त को कहीं सांप न खा जाए। इसलिए तेरे पास आए हैं, तेरा सतगुरू साथ है।’’ एक बार खेतों में दो सेवादारों के साथ पूजनीय बेपरवाह शाह मस्ताना जी महाराज जी पैदल दूर तक निकल गए। एक सेवादार ने बाबा जी से कहा कि सांई जी, हम काफी ...
    Anmol Vachan

    पूज्य गुरू जी ने जीव को बख्शी नई जिंदगी

    0
    प्रेमी बलविन्द्र सिंह इन्सां सुपुत्र श्री गुरनाम सिंह निवासी सफीपुर खुर्द ब्लॉक दिड़बा जिला संगरूर(पंजाब)। प्रेमी अपने प्यारे सतगुरू संत डॉ. एमएसजी (पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां) की अपार रहमत का एक जबरदस्त करिश्मा इस प्रकार वर्णन ...
    Spirituality

    रूहानी करिशमा : 15 मिनट का रहस्य

    0
    हमारे गांव का एक सत्संगी था, जिसे नाम लिए थोड़ा ही समय हुआ था। कुछ दिनों के बाद ही बुरी संगत में पड़कर उसने वचन यानि परहेज तोड़ दिए और मन के झांसे में आकर उसने अपने सतगुरू की निंदा करनी शुरू कर दी। वह एक दिन अपने साथी को कहने लगा कि मुझे रात को सच्चे सौ...
    Shah-Satnam-Singh-Ji-Mahara

    सच्चे सतगुरू जी ने नाम देकर छुड़वाया नशा

    0
    गांव धन्न सिंह खाना में अवतार सिंह नामक व्यक्ति था। वह शराब व मांस का अत्यधिक सेवन करता था और गलियों में गिरा रहता था। किसी सत्संगी ने उसे नाम लेने के लिए कहा कि तू नाम ले ले, तेरी चौरासी कट जाएगी और शराब और मांस आदि चीजों से बच जाएगा। उसने सत्संगी स...
    terrorist-attack-in-uri

    उरी में आतंकी हमला

    0
    पांच साल पहले आज ही के दिन 18 सितंबर 2016 को उरी में हमला हुआ था। सुबह साढ़े पांच बजे जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकवादियों ने सेना के ब्रिगेड हेडक्वार्टर्स पर हमला किया था। हमले में 19 जवान शहीद हुए। कई घायल हुए। सेना ने 6 घंटे तक चली इस मुठभेड़ में चारों ...

    ‘‘बेटा, धरती को बुरा नहीं कहते। देखना, कुछ समय लगेगा यह जमीन एक दिन तुम्हें हीरे-मोती देगी’’

    0
    सन् 1985 की बात है। उस समय पंजाब में आतंकवाद का बोलबाला था। हम पूजनीय परम पिता जी के पास आए और अपने काम-धन्धे के बारे में बताया। पूजनीय परम पिता जी फरमाने लगे, ‘‘बेटा, पंजाब के हालात अभी ठीक नहीं है। हम एक सलाह देते हैं कि अपने आभूषण आदि सब बेचकर जमी...
    Jatindra Nath Das

    जतीन्द्रनाथ ने भूख से मरना चुना

    0
    जतींद्र नाथ दास 1904 में पैदा हुए था। इनको जतिन भी कहते हैं, पैदाइश की जगह कलकत्ता। बहुत हल्की उम्र में बंगाल का क्रांतिकारी ग्रुप ‘अनुशीलन समिति’ ज्वाइन कर लिया। केवल 16 साल की उम्र थी, जब आंदोलन के चलते दो बार जेल जा चुके थे। गांधी के असहयोग आंदोलन...