लखीमपुर खीरी मामला: क्राइम ब्रांच के सामने पेश हुआ केन्द्रीय मंत्री का मुख्य आरोपी बेटा

0
283
Lakhimpur Kheri Case

लखीमपुर खीरी (एजेंसी)। लखीमपुर के तिकुनिया क्षेत्र में पिछले रविवार हुई हिंसा के मामले में नामजद मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा उर्फ मोनू शनिवार को पुलिस लाइन में अपराध शाखा की टीम के सामने पेश हुआ। पुलिस टीम के नेतृत्व कर रहे उप महानिरीक्षक उपेन्द्र अग्रवाल ने आशीष से पूछताछ शुरू कर दी है, जो कई घंटों तक चलने की संभावना है। अपराध शाखा के अधिकारियों ने आशीष को सुबह 11 बजे हाजिर होने के निर्देश दिये थे, लेकिन वह 25 मिनट पहले ही पत्रकारों को चकमा देते हुए दूसरे गेट से पुलिस लाइन में प्रवेश कर गया था। सफेद कुर्ता पाजामा में आए आशीष ने पत्रकारों के किसी भी सवाल का जवाब नहीं दिया।

इससे पहले आशीष को शुक्रवार सुबह 10 बजे पेश होने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए उसने आने से मना कर दिया। इसके बाद अपराध शाखा ने उसे दूसरा समन भेजा, जिसमें उसे आज 11 बजे पेश होने के लिए कहा गया था। रविवार को हुई हिंसा में चार किसानो समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी, जिसके बाद किसानों के पक्ष से आशीष समेत 14 के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी थी। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी शुक्रवार रात ही लखीमपुर वापस लौट आये थे, जहां उन्होंने अपने कार्यालय में समर्थकों के साथ बैठक की।

अजय मिश्र पहले ही कह चुके है कि उनका पुत्र आशीष निर्दोष है। इस मामले में पुलिस ने आशीष के नजदीकी दो लोगों को अब तक गिरफ्तार किया है। मिश्र ने कहा था कि उनका पुत्र कहीं नहीं छिपा है और न ही फरार है। इससे पहले कहा जा रहा था कि आशीष नेपाल भाग सकता है। आशीष के मित्र सुमित जायसवाल ने इस मामले में क्रास एफआईआर दर्ज कराई है। किसानों को रौंदे जाने की घटना के बाद आक्रोशित भीड़ ने कार चालक समेत चार लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। इस दौरान सुमित ने जीप से उतरने के बाद भाग कर जान बचाई थी। आशीष का एक और सहयोगी अंकित दास को पुलिस तलाश कर रही है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।