माँ अक्षर ज्ञान से थी कोरी, बेटी ने पास की सबसे बड़ी परीक्षा

0
2612

अनीता यादव ने सेल्फ स्टडी से पास की यूपीएससी परीक्षा

  • शाह सतनाम जी गर्ल्स स्कूल की पूर्व छात्रा है होनहार बेटी अनीता यादव

सच कहूँ/संदीप सिंहमार। हिसार। ‘मन में चाह हो तो हर बड़े से बड़ा मुकाम हासिल किया जा सकता है। बस इसके लिए मनोबल बनाए रखना पर मन में दृढ़ संकल्प के साथ-साथ मेहनत का होना जरूरी है। या यह कहें संकल्प एक ही काफी होता है, मंजिल तक जाने के लिए, तो भी किसी प्रकार की कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। ऐसे ही जीवन में सफलता का संकल्प लेकर आगे बढ़ी हिसार जिले के छोटे से गांव मामनपुरा की बेटी अनीता यादव।

Anita Yadav sachkahoon

पिता आर्मी में रहकर देश सेवा में लगे हुए थे तो घर में बच्चों के पालन-पोषण की पूरी जिम्मेदारी माँ ने संभाली। बेशक माँ अक्षर से कोरी थी, लेकिन वह अपने पति के साथ सामंजस्य बैठाने में कामयाब रहीं। यही वजह रही कि अक्षर ज्ञान से कोरी माँ से परवरिश पाकर अनीता यादव ने देश की सबसे बड़ी परीक्षा पास कर एक मिसाल कायम कर दी। बेटी की इस उपलब्धि से पिता कृष्ण यादव फूले नहीं समां रहे हैं।

Anita Yadav sachkahoon

स्कूली दिनों में ही ले लिया था संकल्प

स्कूली दिनों से ही मन में सिर्फ एक ही इच्छा थी कि उसे किसी भी हाल में यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा में सफलता हासिल करनी है और अनीता यादव ने ऐसा कर भी दिखाया। हाल ही में जारी हुए यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के नतीजों में अनीता यादव को 473 वां रैंक मिला है। अनीता यादव का जन्म हांसी के समीपवर्ती गाँव मामनपुरा में एक किसान परिवार में हुआ। उनके दादा माई राम एक किसान व पिता आर्मी में सैनिक के पद पर तैनात थे। आर्मी से सेवानिवृत्ति के बाद पिता कृष्ण यादव अब हरियाणा पुलिस में हेड कांस्टेबल के पद पर हांसी पुलिस अधीक्षक कार्यालय में कार्यरत हैं। इस पूरे परिवार में मेहनत व सेवा का जज्बा शुरू से ही कूट-कूट कर भरा हुआ था यही वजह रही कि इन्होंने डेरा सच्चा सौदा की ओर अपना रुख किया।

आर्मी स्कूल में मिली प्रारंभिक शिक्षा

अनीता यादव के पिता हेड कांस्टेबल कृष्ण कुमार यादव के अनुसार अनीता की प्रारंभिक शिक्षा तो उनके साथ आर्मी स्कूल में हुई। इस दौरान भी अनीता ने अपनी प्रतिभा का परिचय देते हुए पटियाला के आर्मी लालबाग स्कूल में पांचवी कक्षा में एक कंपटीशन में प्रथम स्थान प्राप्त करते हुए मिस लालबाग का खिताब अपने नाम किया।

Anita Yadav sachkahoon

शाह सतनाम जी गर्ल्स स्कूल में सीएसआर परीक्षा से की शुरूआत

मिडिल स्तरीय परीक्षा आर्मी स्कूल में पास करने के बाद अनीता यादव के पिता कृष्ण कुमार यादव ने अपनी बेटी को शिक्षा के लिए डेरा सच्चा सौदा, सरसा स्थित शाह सतनाम जी गर्ल्स स्कूल में दाखिला दिलवाया। यहां रहते हुए अनीता यादव ने न सिर्फ शिक्षा के क्षेत्र में बल्कि प्रतियोगी परीक्षाओं व खेलों में भी अपनी रुचि दिखाई। शाह सतनाम जी गर्ल्स स्कूल में रहते हुए अनीता यादव ने नौवीं कक्षा में ही सबसे पहले कंपटीशन सक्सेस रिव्यू परीक्षा में दो बार भाग लिया। इस परीक्षा में उसे एक बार 41 वां तो दूसरी बार 42 वां रैंक मिला। यहीं से खुद अनीता व उसके पिता कृष्ण कुमार यादव के मन में यूपीएससी परीक्षा का सपना आया।

एकलौते भाई के बिछोह से हिल गई थी अनीता

सतनाम जी गर्ल्स स्कूल से बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद अनीता यादव ने कंप्यूटर साइंस में टीआईटी भिवानी से बीटेक की। बीटेक करने के बाद अलग से विषय समाजशास्त्र लेकर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। इसी दौरान घर में एक हृदय विदारक घटना घट गई। दिल का दौरा पड़ने से अनीता यादव का छोटा भाई इस नश्वर संसार को त्याग चला गया। तब एक बार तो उसे यह लगा कि उसकी पूरी दुनिया ही उजड़ गई है। लेकिन तब भी अनीता यादव ने खुद अपने आप को भी संभाला अपनी मां को भी सहारा देते हुए सफलता का मार्ग चुना।

2014 में किया था पहला प्रयास

उसी समय 2014 में अनीता यादव ने यूपीएससी का पहला प्रयास किया पर तब महज 2 अंकों से चयन नहीं हो सका। इसी दौरान अनीता का एयरफोर्स व आर्मी में लेफ्टिनेंट के पद पर भी चयन हुआ, लेकिन ज्वाइन नहीं किया। इससे पहले 2013 में कंबाइंड ग्रैजुएट लेवल परीक्षा देकर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में नौकरी पाई। इसके बाद 2016 में एक बार फिर कंबाइंड ग्रैजुएट लेवल परीक्षा देकर सफलता हासिल की, तब से लेकर अब तक अनीता यादव एक्साइज एंड कस्टम विभाग में जीएसटी डिपार्टमेंट में कार्यरत है। यहीं पर अपने कार्यालय में रहते हुए सेल्फ स्टडी करते हुए अनीता यादव ने यूपीएससी परीक्षा तक का सफर तय किया। अनीता यादव का कहना है कि उसकी सफलता में जितना योगदान उनके माता-पिता का है। उतना ही श्रेय उनकी बड़ी बहन सरिता यादव व बहनोई कर्नल सुमंत यादव का भी है।

Anita Yadav sachkahoon

पूज्य गुरु जी बने प्रेरणा स्रोत

यूपीएससी की परीक्षा में चयनित हुई अनीता यादव के पिता कृष्ण कुमार यादव का कहना है कि डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणा से उसकी बेटी को यह मुकाम मिला है। इतना ही नहीं पूज्य गुरु जी के मार्गदर्शन में ही अनीता यादव को शाह सतनाम जी गर्ल्स स्कूल में रहते हुए लॉन टेनिस जैसे खेलों में खेलने का भी मौका मिला। हम गुरु जी के ताउम्र शुक्रगुजार रहेंगे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।