पाकिस्तान आवाम ने सेना को नकारा

Pakistan Election 2024, Imran Khan

पाकिस्तान में आम चुनाव के परिणाम (Pakistan Election 2024) जारी हो गए हैं। सेना और सत्तापक्ष दलों के अपार प्रयासों के बावजूद पूर्व क्रिकेटर और पूर्व पीएम इमरान खान के समर्थन वाले उम्मीदवारों ने सबसे ज्यादा सीटें प्राप्त की हैं। भले ही इमरान खान की पार्टी से चुनाव चिन्ह् छीना गया और उन्हें राजनीति से दूर रहने के लिए कहा, फिर भी चुनावों के परिणामों से स्पष्ट है कि पाकिस्तान की आवाम ने सेना को नकार दिया है। दूसरी तरफ नवाज शरीफ की पार्टी और बिलावल भुट्टो की पार्टी सरकार बनाने के लिए गठबंधन की तैयारी कर रही हैं।

सरकार भले ही किसी भी पार्टी की बने लेकिन इमरान खान की जीत ने ये स्पष्ट कर दिया है कि सेना का राजनीति में दखल और धक्केशाही से वहां के लोग परेशान हो चुकी है। वर्तमान सेना प्रमुख सैय्यद आसिम मुनीर ने तो अप्रत्यक्ष रूप से इमरान को उम्मीदवारों को पराजित करने के लिए वोटरां को संदेश दिया। यह पाकिस्तान की बदकिस्मती ही है कि वहां सेना ने सरकार को बुरी तरह दबाकर लोकतंत्र को जिंदा नहीं होने दिया। सत्ता के भूखे सेना प्रमुखों ने अपने-अपने कार्यकाल में न केवल सरकारों का तख्ता पलट किया बल्कि आतंकवाद को भी बढ़ावा दिया।

भले ही इमरान खान ने भी कभी सत्ता प्राप्ति के लिए सेना के मदद ली थी, लेकिन कुछ वर्षों के बाद सेना और इमरान एक-दूसरे के कट्टर विरोधी बन गए। पाकिस्तान में यदि सैन्य तानाशाही कम हो जाए तो यह बड़ी बात होगी। पाकिस्तान में लोकतंत्र और राजनीतिक स्थिरता से पड़ोसी देशों के लिए भी अच्छा माहौल बनेगा। नई सरकार यदि आतंकवाद से नाता तोड़कर अमन शांति के लिए काम करे तब पाकिस्तान के भारत से संबंध सुधर सकते हैं। भारत के साथ अच्छे संबंध स्थापित करने से पाकिस्तान को कई तरह से लाभ मिलेगा। भारत सीमाओं पर शांति की गारंटी की मांग करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here