नेशनल पेंचक सिलात चैम्पियनशिप में प्रताप स्कूल के खिलाड़ियों ने जीते 8 पदक

Kharkhoda News
नेशनल पेंचक सिलात चैम्पियनशिप में प्रताप स्कूल के खिलाड़ियों ने जीते 8 पदक

खरखौदा (सच कहूँ/हेमंत कुमार)। नेशनल पेंचक सिलात चैम्पियनशिप जो कि पाटलीपुत्र, पटना, बिहार में आयोजित हुई जिसमें प्रताप स्कूल खरखौदा (Pratap School Kharkhoda) के खिलाड़ियों ने 5 स्वर्ण, 2 रजत व 1 कांस्य पदक सहित कुल 8 पदक जीतकर प्रताप स्कूल खरखौदा का नाम रोशन किया। पदक विजेता खिलाड़ियों में धीरज 34 किग्रा, अतीक 64, लक्ष्य दहिया 63, निखिल डबास 75, कुनाल राठी 51 ने स्वर्ण पदक, आदित्य 66, गौतम प्लस 100 ने रजत पदक व अंश 54 ने कांस्य पदक प्राप्त किया। लक्ष्य दहिया इससे पहले 3 बार, धीरज, निखिल डबास व कुनाल राठी 1 बार नेशनल चैम्पियनशिप में मैडल जीत चुके हैं। Kharkhoda News

राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में पदक प्राप्त करने पर विद्यालय के खिलाड़ियों को 5 लाख 64 हजार रू की स्कॉलरशिप भी मिल चुकी है। भविष्य में भी इन खिलाड़ियों से और भी अच्छे प्रदर्शन की पूरी-पूरी उम्मीद है। उपरोक्त प्रतियोगिता में उम्दा प्रदर्शन करने पर विद्यालय के खिलाड़ी कुनाल राठी व अभिषेक का चयन अगले महीने सिंगापुर में आयोजित होने वाली पेंचक सिलात वर्ल्ड चैम्पियनशिप के लिए हुआ है। पेंचक सिलात कोच जगमेन्द्र पांचाल ने बताया कि विद्यालय में खिलाड़ियों को प्रबंधन समिति द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल सुविधाऐं उपलब्ध करवा रखी हैं। सुबह-सायं खिलाड़ियों को रोजाना 2 घंटे अभ्यास करवाया जाता है। Kharkhoda News

खिलाड़ियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए विद्यालय छात्रावास में खिलाड़ियों को अपनी ही प्रताप डेयरी से जैविक खाद से तैयार शुद्ध व सात्विक भोजन व दुग्ध डेयरी से दुध, दही, पनीर दिया जाता है। जिसके परिणामस्वरूप विद्यालय के खिलाड़ी निरंतर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक प्राप्त कर भारतवर्ष का नाम रोशन कर रहे हैं। खिलाड़ियों ने अपनी सफलता का श्रेय प्रताप विद्यालय प्रबंधन समिति द्वारा विद्यालय में उपलब्ध करवाई गई खेल सुविधाओं, कुशल प्रशिक्षण व अपने माता-पिता को दिया। विजेता खिलाड़ियों का विद्यालय में पहुँचने पर द्रोणाचार्य अवार्डी ओमप्रकाश दहिया खेल निदेशक प्रताप स्कूल, प्राचार्या दया दहिया, एकेडमिक डायरेक्टर डॉ सुबोध दहिया, व कोच जगमेन्द्र पांचाल ने स्वागत किया। Kharkhoda News

यह भी पढ़ें:– Uttarkashi Tunnel Successful Rescue…जब देवदूत बनकर आए रैट माइनर्स!