मंडी व्यापारी के घर दिनदहाड़े हुई लूट की वारदात का खुलासा, कर्जा उतारने के लिए बनाया लूट का प्लान

0
250
Robbery Incident Revealed

 पूछताछ में पुलिस करेगी हथियार और लूटे गए गहनों की बरामदगी के प्रयास

नोहर (सच कहूँ न्यूज)। करीब 20 दिन पूर्व अनाज मंडी व्यापारी अशोक मोदी के घर दिन दहाड़े हुई लूट का खुलासा करते हुए पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस उपाधीक्षक महेंद्रसिंह राजवी व सीआई रविंद्रसिंह नरुका ने यहां पुलिस थाना में आयोजित पत्रकार वार्ता में मामले का खुलासा करते हुए बताया कि घटना के बाद पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटैज व अन्य सबूतों के आधार पर नोहर निवासी विश्वास कुमार व अर्जुन कुमार को गिरफ्तार किया गया। दोनों युवकों की यह पहली ही वारदात थी।

पुलिस ने बताया वारदात के खुलासे में डीएसटी नोहर सैक्टर का विशेष योगदान रहा

पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने गत 14 जुलाई को नोहर के वार्ड़ 23 स्थित अनाज मंडी व्यापारी अशोक मोदी के घर में दिन दहाड़े घुसकर उसकी पत्नी, नोकर व दो बच्चों को पिस्तौल व चाकू की नोक पर बंधक बना लिया था। इसके बाद उन्होंने व्यापारी की पत्नी अंतिमा को धमकाते हुए हाथ में पहने हुए दो सोने के कंगन निकलवा लिये। बदमाशों ने महिला से घर में रखी नगदी देनें की मांग भी की थी। लेकिन हड़बडाहट में कंगन लेकर ही फरार हो गए। बाद में पुलिस ने मोबाईल लोकेशन और सीसीटीवी कैमरा फुटैज के आधार पर जांच करते हुए साइबर सैल की मदद से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया वारदात के खुलासे में डीएसटी नोहर सैक्टर का विशेष योगदान रहा। पूछताछ में दोनों आरोपियों से लूट का सामाल व हथियार बरामदगी के प्रयास किये जाएंगे।

इस संबंध में भादंसं की धारा 452, 392, 34 में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। नोहर थानाधिकारी रविंद्रसिंह नरूका के नेतृत्व गठित टीम में सहायक उपनिरीक्षक भूपसिंह, कांस्टेबल नारायण सिंह, संदीप कुमार, रमेश कुमार, डीएसटी के सदस्य प्रवीण कुमार, रोशनलाल, भजनलाल, जोराराम, सुभाष, राजपाल, विकास कुमार आदि का सहयोग रहा।

कर्जा उतारने के लालच में बने अपराधी

लूट की वारदात को अंजाम देने के आरोप में गिरफ्तार किए गए दोनों युवकों की उम्र 23 से 30 के बीच है। दोनों की संभ्रात परिवारों के हैं तथा पूर्व में इनका कोई अपराधिक रिकॉर्ड़ भी नहीं है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार नशे की लत और कर्जे ने दोनों को उक्त वारदात के लिए मजबूर कर दिया। दोनों ने पहले पूरी रैकी की कि कब व्यापारी घर में कैश रखता है और कब वह घर से बाहर होता है। पूरी तरह योजना बनाने के बाद दोनों पर वारदात को अंजाम दिया लेकिन मौके पर नकदी भरा थैला नहीं मिलने और पहचाने जाने के डर से हड़बड़ाहट में दोनों व्यापारी की पत्नी के हाथों में पहने हुए सोने के कंगन ही लेकर फरार हो गए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।