पक्षी उद्धार मुहिम को रही समर्पित सरसा ब्लॉक की नामचर्चा

bird rescue campaign sachkahoon

गर्मी में बेजुबानों की प्यास बुझाने के लिए नि:शुल्क बांटे 350 मिट्टी के कसोरे

  • साध-संगत ने हाथ खड़े कर कसोरों में नियमित रूप से पानी व दाना डालने का लिया संकल्प

सच कहूँ/सुनील वर्मा, सरसा। शहर के ट्रेड टावर मार्केट में रविवार शाम सरसा ब्लॉक की मासिक ब्लॉक स्तरीय नामचर्चा धूमधाम से संपन्न हुई। जिसमें साध-संगत की श्रद्धा, विश्वास और गुरु भक्ति का बेमिसाल संगम देखने को मिला। साथ में उपरोक्त नामचर्चा पक्षी उद्धार मुहिम (Bird Rescue Campaign) को समर्पित रही और मुहिम के तहत 350 से अधिक मिट्टी के कसोरे (परिंडे) बांटे गए।

इस दौरान डेरा श्रद्धालुओं ने हाथ खड़े कर कसोरों में नियमित रूप से पानी व दाना डालने का संकल्प लिया। रविवार को शाम 6 से 8 बजे तक आयोजित हुई मासिक नामचर्चा की शुरूआत ब्लॉक भंगीदास कस्तूर सोनी इन्सां ने धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा का इलाही नारा लगाकर की गई।

bird rescue campaign sachkahoonजिसके पश्चात कविराजों ने विभिन्न सुंदर-सुंदर भजनवाणी के माध्यम से सतगुरु का गुणगान किया और पंडाल का माहौल भक्तिमय बनाया। कविराजों की जोड़ियों द्वारा दाता बख्शण हार मेहरां दा सांई तूं…, जो आए तेरे दर पे वो जाए झोली भरके…, दर्शन देख जीवां गुर तेरा… व जद पीर दे दर्शन पा लेणे, हुण होरे किते ता जाना नहीं…भजनों पर साध-संगत ने नाचगाकर खुशी मनाई। बाद में पवित्र ग्रंथ में से अनमोल वचन पढ़कर सुनाए गए। जिसे साध-संगत ने बड़े ध्यानपूर्वक श्रवण किया। अंत में समस्त साध-संगत ने 10 मिनट का सिमरन किया और प्रसाद बांटा गया।

नामचर्चा के दौरान उपस्थित साध-संगत को ब्लॉक भंगीदास कस्तूर सोनी इन्सां व अन्य जिम्मेवारों ने डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत द्वारा किए जा रहे 139 मानवता भलाई कार्यो के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। वहीं गर्मी के मौसम के मद्देनजर बेजुबान पक्षियों (Bird Rescue Campaign) की सुध लेते हुए पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा चलाई जा रही पक्षी उद्धार मुहिम को आगे बढ़ाते हुए 350 मिट्टी के कसोरे साध-संगत में नि:शुल्क बांटे गए। नामचर्चा में साध-संगत ने हाथ खड़े कर इनमें नियमित रूप से चोगा-पानी डालने का प्रण लिया।

ठंडे-मीठे पानी की लगाई गई छबील

भीष्ण गर्मी के चलते नामचर्चा में साध-संगत के लिए विशेष तोर पर ठंडे-मीठे पानी की छबील लगाई गई थी। इसके अलावा जलजीरा की छबील से साध-संगत को शिंकजी पिलाई गई। नामचर्चा पंडाल में सुंदर लाइटिंग व टैंट का प्रबंध किया गया था।

सच कहूँ के विजेता पाठकों पर वितरित किए ईनाम

नामचर्चा की समाप्ति पर सच कहूँ लक्की ड्रा के विजेता पाठकों को ईनाम वितरित किए गए। जिसमें एक पाठक को तीसरे पुरस्कार के रूप में प्रेस व चौथे पुरस्कार के रूप में 23 पाठकों को ग्राइंडर दिया गया। इस दौरान उपस्थित साध-संगत को सच कहूँ समाचार पत्र अपने घरों में ज्यादा से ज्यादा लगाने के लिए भी प्रेरित किया गया।

ब्लॉक भंगीदास कस्तूर सोनी इन्सां ने कहा कि सच कहूँ एक ऐसा साफ-सूथरा अखबार जिसमें हमें रोजाना दुनियादारी के समाचारों के साथ-साथ पूज्य गुरु जी का रूहानी संदेश भी मिलता है। सच कहूँ को पूरा परिवार एक साथ बैठकर पढ़ सकता है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here