Weather Update: हरियाणा, पंजाब व दिल्ली एनसीआर में 2 डिग्री तक गिरेगा तापमान, कोहरे का बना रहेगा प्रकोप

Himachal Weather
Himachal Weather: हिमाचल प्रदेश के इन शहरों में होगी भारी बारिश और हिमापात!

हिसार (सच कहूँ/संदीप सिंहमार)। Weather Update: राजस्थान के ऊपर बने चक्रवाती परिसंचरण के कारण हरियाणा व पंजाब में न्यूनतम तापमान में 2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट हो सकती है। इसके बाद मौसम में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिलेगा। लेकिन इस दौरान हरियाणा, पंजाब व दिल्ली एनसीआर में कहीं भी बारिश का असर देखने को नहीं मिलेगा। चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ मदन खीचड़ ने बताया कि हरियाणा राज्य में मौसम आमतौर पर 7 दिसंबर तक खुश्क रहने की संभावना है।

इस दौरान हल्की गति से उत्तरपश्चिमी हवाएं चलने की संभावना है। जिससे राज्य में दिन के तापमान सामान्य के आसपास रहने परंतु रात्रि तापमान में हल्की गिरावट होने की संभावना है। परंतु इस दौरान कहीं-कहीं अलसूबह हल्की धुंध रहने की संभावना बनी रहेगी। इधर उत्तर प्रदेश में भी पिछले दो दिनों से रुक-रुक कर हल्की बारिश हो रही है,जिसकी वजह से दिन के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। हरियाणा, पंजाब व दिल्ली एनसीआर में इन दोनों कोहरे का असर दिखाई दे रहा है। भारत मौसम विभाग व चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के नए मौसम बुलेटिन के अनुसार 7 नवंबर तक इस क्षेत्र में इसी प्रकार कोहरे की स्थिति बनी रहेगी।

हिसार का तापमान@8.4 डिग्री सेल्सियस | Weather Update

चक्रवर्ती परिसंचरण के कारण हरियाणा में पंजाब में न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। पिछले 24 घंटों में हिसार जिले के बालसमंद का न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया जो कि हरियाणा पंजाब में सबसे ज्यादा न्यूनतम तापमान बना रहा। वहीं हरियाणा के सिरसा में अधिकतम तापमान 26.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस प्रकार दिन का तापमान सरसा में सबसे ज्यादा गर्म रहा। मौसम विभाग के अनुसार 7 नवंबर तक उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। पर हरियाणा,पंजाब ,राजस्थान व दिल्ली में रात्रि के तापमान में तो गिरावट होगी। लेकिन इस दौरान बूंदाबांदी की संभावना नहीं है।

दक्षिण भारत में चक्रवाती उथल-पुथल

पिछले तीन दिनों से पूरे देश भर में मौसमी हलचल तेज हो गई है। दक्षिण भारत में जहां बंगाल की खाड़ी से उठे मिचोंग चक्रवात मुसीबत का कारण बना हुआ है तो वहीं उत्तर भारत में भी ठंड बढ़ने लगी है। हालांकि मिचोंग चक्रवात का असर तमिलनाडु व आध्रप्रदेश के अलावा साथ लगते राज्यों तक ही सीमित रहेगा। लेकिन उत्तर भारत में पश्चिमी राजस्थान और उससे सटे मध्य पाकिस्तान पर एक चक्रवर्ती परिसंचरण अलग से बना हुआ है। इस चक्रवर्ती परिसंचरण के कारण पश्चिमी और उत्तर पश्चिमी राजस्थान और उसके आसपास के राज्यों में इसका असर दिखाई देगा। हालांकि इस चक्रवर्ती परिसंचरण की ऊंचाई समुद्र तट से 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर तक बनी हुई है।

दूसरी ओर बंगाल की खाड़ी से उठे मिचोंग चक्रवात के कारण चेन्नई में अब तक एक बच्चे सहित 9 लोगों की मौत हो चुकी है। चेन्नई के एयरपोर्ट रनवे पर जलभराव होने के कारण आखिर 16 घंटे बाद फिर से फ्लाइट ऑपरेशन शुरू हो गया है। लेकिन उसे तरफ जाने वाली सभी ट्रेनों के रूप अभी डाइवर्ट किए गए हैं। तमिलनाडु आंध्र प्रदेश में मिचोंग चक्रवात किस समुद्री तटीय इलाकों से टकराने की संभावनाओं के बीच रेस्क्यू के लिए एनडीआरफ व एसडीआरएफ टीमों के साथ-साथ नेवी व वायु सेना को भी स्टैंडबाई रखा गया है। इस पूरी स्थिति पर संबंधित राज्यों के साथ-साथ केंद्र भी नजर बनाए हुए हैं। Weather Update

यह भी पढ़ें:– Jaipur: सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या का CCTV आया सामने, साथ में बैठे थे हत्यारे..