राखी से उगते है पेड़ पौधे

0
467

जयपुर (सच कहूँ न्यूज)। राखियों से पर्यावरण को होने वाले नुक्सान से बचाने के लिए धरती को हरा भरा बनाने वाली राखियां भी बाजार में आ गई है। एक अनुमान के मुताबिक हाथों पर बांधी जाने वाली अस्सी करोड़ राखियां प्लास्टिक के कारण पर्यावरण के लिए खतरा बनती जा रही है। राखी बांधने के बाद इनका कचरा नालियों को जाम कर देता है तथा इसके कचरे के ढेर का निस्तारण करना काफी मुश्किल होता जा रहा है। भाई- बहन के प्यार का प्रतीक राखी को सुुंदर बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक से होने वाले नुक्सान के प्रति कई पर्यावरणविदों ने चिंता भी जताई जिससे प्रेरित होकर कई राखी निमार्ताओं ने बीज राखियां तैयार की है। ये राखियां कागज की बनी होती है जिस पर कई फल-सब्जियों के बीज चिपके होते है। रक्षा बंधन के बाद इन राखियों को कचरे में फैंकने का कोई नुकसान नहीं होता बल्कि थोडा हवा-पानी के सम्पर्क में आते ही बीज अंकुरित हो जाते है। कागज की बनने वाली राखियों के निमार्ताओं ने इनकी सुंदरता बनाये रखने में भी कोई कोर कसर नहीं छोडी है ताकि फैशन के दौर में सुंदरता में पिछड़ नहीं जाये।

लोगों का रूझान बढ़ रहा है

मध्यप्रदेश के एक गैर सरकारी संगठन ने तो बीज राखियों के प्रचार प्रसार का बीडा उठाया है जिसे कई पर्यावरण प्रेमी समर्थन कर आर्थिक मदद भी कर रहे है। इन राखी निमार्ताओं का कहना है कि बाजार की प्रतिस्पर्धा में कागज की बीज राखियों ने अभी बड़ा स्थान नहीं बनाया है लेकिन धीरे-धीरे लोगों का रूझान बढ़ रहा है। हाथ कागज निमार्ताओं के लिए भी ये राखियां व्यवसाय के नये अवसर खोल रही है। पर्यावरण प्रेमियों को वृक्ष बचाने के लिए छेड़ी गई मुहिम की तरह प्लास्टिक से बनी राखियों के स्थान पर कागज की बीज राखियों के प्रचलन के लिए भी मुहिम छेड़नी पडेÞगी। बीज राखी बनाने वालों का मानना है कि आज के युवा पर्यावरण प्रेमी है तथा आने वाले समय में इन राखियों का बडा बाजार बनेगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।