Space News: इन्सान से पहले रोबोट को अंतरिक्ष में क्यों भेज रहा इसरो

Space News
Space News: इन्सान से पहले रोबोट को अंतरिक्ष में क्यों भेज रहा इसरो

Space News: चंद्रयान-3 को सफल करने के बाद इसरो दुनिया के दिग्गज अंतरिक्ष एजेंसियों में अपना नाम सुनहरे अक्सरों में दर्ज करवा चुके है। दरअसल चांद पर फतह हासिल करने के बाद इसरो की अंतरिक्ष उड़ान अभी और ऊंची जाने को तैयार है, सूर्य मिशन के बाद अब गगनयान मिशन की तैयारी चल रही है, बता दें कि यह भारत का पहला मानवयुक्त मिशन होगा, लेकिन इससे पहले इसरो एक महिला रोबोट को अंतरिक्ष में भेजने की तैयारी कर चुका है, इंसान जैसी काया और आंक-नाक वाली इस महिला रोबोट का गगनयान से पहले अंतरिक्ष में जाना मिशन के लिए बहुत जरूरी है, इस साल की तिमाही तक इसके अंतरिक्ष में उड़ान भरने की उम्मीद है, इसरो इसे गगनयान से पहले सबसे अहम कदम मानकर चल रहा है, खुद इसरो चीफ एस सोमनाथ कह चुके है कि 2024 गगनयान की तैयारियों का वर्ष हैं।

Farmers Protest: क्या है एमएसपी व डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट?

भारत की महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री व्योममित्रा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के महत्वाकांक्षी गगनयान मिशन से पहले अंतरिक्ष में उड़ान भरेगी। भारत का गगनयान मिशन भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर उड़ान भरने वाला देश पहली मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान है, जो 2025 में लॉन्च किया जाना है। केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) जितेंद्र सिंह ने कहा है कि व्योममित्र मिशन इस साल की तीसरी तिमाही के लिए निर्धारित हैं।

व्योममित्र क्या है? Space News

भारतीय महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री व्योममित्र का नाम संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बनाया गया है, व्योम का अर्थ है अंतरिक्ष, और दूसरा है मित्र। सरल शब्दों में अगर इसे समझें तो व्योममित्र वह जो आम इंसानों के बजाय अंतरिक्ष को ज्यादा बेहतर तरीके से जानता है। इसलिए इसका नाम अंतरिक्ष मित्र हैं।

Skin Care: बेसन के ये उबटन चेहरे पर ले आते हैं चमकता निखार, घर पर बनाना है आसान, जानें इस्तेमाल करने के भी तरीके

गगनयान मिश से क्या लिंक है

गगनयान मिशन के लिए व्योममित्र की बेहद अहम भूमिका है, यह अंतरिक्ष में हर तरह के मानव कार्यों का अनुकरण करेंगी। ये अंतरिक्ष में पर्यावरण नियंत्रण और जीवन समर्थन प्रणाली के साथ काम करेगी, केंद्रीय मंत्री ने कहा, कि रोबोट अंतरिक्ष यात्री गगनयान मिशन के मॉड्यूम मापदंडो की निगरानी कर सकता है, और उसे अलर्ट जारी कर सकता हैं एवं जीवन-समर्थन संचालन को अंजाम दे सकता है। यह छह पैलनों कों संचालित करने और प्रश्नों का जवाब देने जैसे कार्य भी आसानी से कर सकता हैं।

Foods for Good Sleep: सोने से पहले खाएं ये 4 आहार, आएंगी अच्छी नींद

गगनयान से पहले टेस्टिंग

बता दें कि 2025 में गगनयान मिशन के प्रेक्षेपण से पहले, पहला परीक्षण वाहन उड़ान 21 अक्टूबर 2023 को पूरा किया गया था। इसका उदेश्य क्रू एस्केप सिस्टम और पैराशूट सिस्टम की योग्यता को परखना था। प्रक्षेपण यान की मानव रेटिंग पूरी हो गई है। सभी प्रणोदन चरण योग्य है, और सभी तैयारियां हो चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here