Uttarakhand: उत्तराखंड में अवैध मदरसा तोड़फोड़ को लेकर व्यापक हिंसा, 5 मरे, 5,000 के खिलाफ मामला दर्ज

Uttarakhand Violence
Uttarakhand: उत्तराखंड में मदरसा तोड़फोड़ को लेकर व्यापक हिंसा, 5 मरे, 5,000 के खिलाफ मामला दर्ज

नई दिल्ली। उत्तराखंड (Uttarakhand) के हलद्वानी में व्यापक हिंसा होने का मामला प्रकाश में आया है। मामला एक अवैध मदरसे को ढहाए जाने का है, जिसको लेकर हुई व्यापक हिंसा में 5 लोगों के मरने का समाचार है। गुरुवार को प्रशासन द्वारा की गई तोड़फोड़ का उद्देश्य मदरसे द्वारा कथित रूप से अतिक्रमण की गई सरकारी भूमि को खाली कराना था। यह सारा कार्य भारी पुलिस बल की उपस्थिति में किया गया था। Uttarakhand Violence

इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रह्लाद मीना ने कहा कि मदरसे को गिराने की कार्रवाई अदालत के आदेश का अनुपालन करते हुए की गई है। अधिकारियों ने कहा कि इस कार्रवाई के दौरान छतों से उन पर पत्थर बरसाए गए, इसको देखकर ऐसा प्रतीत होता था कि यह सब पहले से तय साजिश के तहत किया गया हो। पत्थरों को पहले से ही जमा किया गया था, जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस के साथ जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी। जानकारी के अनुसार इस झड़प में 100 से अधिक सुरक्षाकर्मी घायल हो गए, कई प्रशासनिक अधिकारी, नगर निगम कर्मचारी और पत्रकार भी गोलीबारी की चपेट में आ गए। बताया जाता है कि हिंसा तब और बढ़ गई जब पुलिस स्टेशन के बाहर वाहनों में आग लगा दी गई।

इस संबंध में पुलिस ने बताया कि हिंसा में कथित संलिप्तता के लिए लगभग 50 लोगों को हिरासत में लिया गया है और 5,000 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उत्तराखंड के पुलिस प्रमुख अभिनव कुमार ने कहा कि पुलिस कर्मियों पर हमलों में शामिल पाए जाने वाले लोगों को बख्शा नहीं जाएगा, उनके खिलाफ कड़े राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। Uttarakhand Violence

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार और शनिवार को, बनभूलपुरा से हिंसा की कोई और घटना सामने नहीं आई, जहां मदरसा ध्वस्त कर दिया गया था, जिसमें प्रार्थनाएं होती थीं। हिंसा प्रभावित उत्तराखंड के इस शहर के बाहरी इलाकों से कर्फ्यू हटा लिया गया है, लेकिन बनभूलपुरा इलाके में यह अब भी लागू है। अधिकारियों ने बताया कि नैनीताल के नजदीक शहर में 1,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हल्द्वानी में डेरा डाले हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी), कानून एवं व्यवस्था, एपी अंशुमान के हवाले से कहा गया कि प्रभावित क्षेत्र में लगातार गश्त की जा रही है और स्थिति नियंत्रण में है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने घटनास्थल हल्द्वानी का दौरा किया और कुछ घायलों से मुलाकात की। उन्होंने हिंसा को सुनियोजित हमला करार दिया और कहा कि दंगाइयों ने हथियार, पत्थर और पेट्रोल बम जमा कर रखे थे। Uttarakhand Violence

अब ये राज्य यूसीसी (UCC) लागू करने को तैयार! कुछ वर्गों में मचा हड़कंप!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here