Indian Railway : रेलवे में बड़े क्रांतिकारी सुधार की उम्मीद

Indian Railways
Indian Railways : किसान आंदोलन समाप्त : रेल यातायात बहाल–मार्ग परिवर्तित रेल सेवाएं अपने निर्धारित मार्ग पर होगी संचालित

Indian Railway : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने ‘अमृत भारत स्टेशन योजना’ के तहत 508 रेलवे स्टेशनों के बेहतर विकास के कार्य की शुरुआत करवा दी है। नि:संदेह यह बहुत बड़ी योजना है और देश को इसकी सख्त जरुरत है। इस योजना के तहत 1300 स्टेशनों की नुहार बदली जाएगी। इस योजना की अहमियत का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि इस पर 508 रेलवे स्टेशनों के विकास के लिए 25000 करोड़ रुपए खर्च होंगे। अच्छी बात यह भी है कि प्रधानमंत्री खुद इसकी निगरानी कर रहे हैं। Indian Railway

रेलवे देश की रीढ़ है रोजाना अढ़ाई करोड़ आबादी रेल में सफर करती है परंतु बढ़ती आबादी के अनुसार रेलवे की हालात खासकर रेलवे स्टेशनों पर मुसाफिरों के बैठने, पीने वाली पानी, शौचालयों पर सफाई का मामला है इसमें बेहद सुधार की जरुरत है। देश की राजधानी का स्टेशन आदर्श स्टेशन होना चाहिए। परंतु बेहद स्टेशनों पर मुसाफिरों की संख्या अनुसार रेल का इंतजार कर रहे मुसाफिरों के बैठने के लिए कुर्सियों ही पूरी नहीं होती जो नजारा एयरपोर्ट पर होता है वह कुछ रेलवे स्टेशनों पर जरुर दिखाई देता है। वैसे केन्द्र सरकार द्वारा रेल बजट में भारी वृद्धि की गई है। रेल का बजट 2.5 लाख करोड़ तक जा पहुंचा है।

बड़े स्टेशनों पर लिफ्टों और एक्सीलेटर की सुविधा बढ़ी है और सफाई के बारे में भी काफी सुधार हुआ है परंतु सभी स्टेशनों पर अभी सुविधाओं की काफी जरुरत है, कम से कम जिला स्तर के रेलवे स्टेशनों पर सभी सुविधाएं मौजूद होनी जरुरी हैं। ताजा अमृत भारत योजना रेलवे में सुधारों की दिशा में एक क्रांतिकारी कदम साबित हो सकती है। इतना बड़ा बजट 508 स्टेशनों की तस्वीर जरुर बदलेगा।

यह तथ्य हैं कि रेलवे में सुधार के लिए पैसा बढ़ा है, परंतु कुछ अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण योजनाओं के सही परिणाम नहीं आते। यह भी जरुरी है कि आधुनिकता के साथ-साथ आम आदमी की आवश्यकताओं का भी ख्याल रखा जाए। अभी भी लंबे रुट की गाड़ियों पर साधारण किराए के डिब्बों की गिणती बहुत कम होने के कारण आमजन को भारी मुश्किल का सामना करना पड़ता है। उम्मीद की जाती है कि सरकार आम आदमी की जरुरतों के तरफ ध्यान देगी।

यह भी पढ़ें:– Chandrayaan-3: आज महबूब को चाँद कहना गलत होगा! जानें कैसे?