हमसे जुड़े

Follow us

Epaper

11.8 C
Chandigarh
More
    Home विचार सम्पादकीय

    सम्पादकीय

    Editorial sachkahoon

    सम्पादकीय: जनता को लानी होगी राजनीति में शुचिता

    हैदराबाद की एक विशेष अदालत ने तेलंगाना राष्ट्र समिति की सांसद कविता मलोथ को छह माह कारावास की सजा सुनाई है। कविता ने 2019 लोकसभा चुनाव में अपने पक्ष में मतदान के लिए लोगों को पैसे बांटे थे। चुनाव के दौरान मतदाताओं को पैसे बांटने के लिए किसी पदस्थ स...
    India China border sachkahoon

    चीन की एक और शरारत

    वास्तव में नियंत्रण रेखा से सैनिक हटाने के समझौते के बावजूद चीनी सैनिकों ने भारतीय क्षेत्र में दाखिल होकर एक बार फिर सीमावर्ती विवाद को गर्मा दिया है। यह घटना तिब्बत से निर्वासित धार्मिक नेता दलाईलामा, जो भारत में मौजूद हैं, के जन्मदिन पर घटित हुई। इ...
    India's concern in Afghanistan sachkahoon

    अफगानिस्तान में भारत की चिंता

    अमेरिका सेना की वापिसी के बाद देश के 85 प्रतिशत हिस्से पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है। 20 साल की अधूरी लड़ाई के बाद अमेरिका अपने सैनिकों को वापस बुला रहा है और यह वापसी अगस्त महीने तक पूरी हो जाएगी। अमेरिका ने इसके लिए 11 सितंबर की आखिरी डेडलाइन तय की...
    editorial sachkahoon

    सम्पादकीय: गठबंधन, दलबदली और वापसी

    गत वर्ष हो रहे पाँच राज्यों के विधानसभा चुनावों संबंधी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गई हैं। दलबदली, वापसी से लेकर गठबंधन बनाने का माहौल गर्माने लगा है। यह बात भी बड़ी अहम है कि पंजाब में जहां कई बार राज्य की सत्ता संभाल चुके शिरोमणी अकाली दल (बादल) ...
    Environmental-Crisis sachkahoon

    संपादकीय : पर्यावरण संकट अमीर मुल्कों की देन

    खेती से जुड़ी हर गतिविधि को भारत में उत्सव के रूप में मनाने की परंपरा है। ऋतुओं के अनुसार खेती की वैज्ञानिक परंपरा भी है। अन्न से काबोर्हाइड्रेट, दालों से प्रोटीन, फल-सब्जियों से विटामिन सभी भारत की भोजन की थाली में मिलता है। और यह सब मेहनतकश किसानों ...
    Center-state-mobilization sachkahoon

    आपदा में केंद्र-राज्य की उठापटक उचित नहीं

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे के बार केंद्र सरकार व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री में जबरदस्त टकराव शुरू हो गया है। मामला उस वक्त छिड़ा जब बंगाल पहुंचे प्रधानमंत्री की मीटिंग में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी देरी से पहुंची व मीटिंग में भाग लेने की बजाए ...
    alcohol sachkahoon

    जहरीली कहें या अवैध शराब त्रासदी है

    उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ में शराब पीने से 56 मौतें हो गई। अब शराब को कानूनी शब्दावली में जहरीली कहें या अवैध शराब कहें, इससे शराब सात्विक नहीं होने वाली। शराब सामाजिक बुराई है, जिसे हटाया जाना चाहिए। अफसोस की बात है कि सरकार शराब बेचने की अनुमति देती है ...
    ramdev baba sachkahoon

    इलाज की विभिन्न प्रणालियों में टकराव किसलिए और क्यों

    वक्त की जितनी बर्बादी भारतीय करते हैं, उतनी शायद ही किसी अन्य देश के लोग करते हों। यही कारण है कि हम पिछड़े हुए हैं। तीन माह के काम में साल भर लग जाता है और बेतुके कारणों के चलते लोग बिना वजह गुमराह होकर नुक्सान उठाते हैं। इससे सरकारों का ध्यान भी विक...
    Increasing pressure on health infrastructure is scary

    स्वास्थ्य ढ़ांचे पर बढ़ रहा दबाव है डरावना

    कोरोना संक्रमण में तेज उछाल आने के बाद अस्पतालों पर काफी दबाव बढ़ गया है। इसी बीच ऑक्सीजन, बेड की कमी के साथ-साथ जरूरी दवाओं के अभाव की खबरें सुर्खियां बनने लगी हैं। इस तरह की सूचनाएं समाधान तलाशने के बजाय हमें ज्यादा डरा रही हैं। अभी कोरोना जांच और इ...
    Accelerate resource mobilization for patients

    मरीजों के लिए संसाधन जुटाने में तेजी लाई जाए

    कोविड-19 की दूसरी लहर के संघातिक होने के पूवार्नुमान पहले से ही चिकित्सक और वैज्ञानिकों ने लगाए थे। उन्होंने दुनिया को और दुनिया की सरकारों को उन्होंने चेताया भी था किंतु जिन्होंने पहले से तैयारी की वह इसके असर से खुद को बचा सके। जिन्होंने तैयारी नही...
    Editorial Eliminate the idea of racial violence

    संपादकीय : नस्लीय हिंसा की सोच मिटाई जाए

    अमेरिका के इंडियाना पोलिस में एक हमले में चार भारतीय लोगों की मौत हो गई। इस घटना से प्रवासी भारतीय सदमे में हैं। बाइडेन प्रशासन में यह पहली बड़ी घटना है। प्रवासी भारतीयों के मन में इस बात का भय बन रहा है कि कहीं रिपब्लिकन राज्य की तरह डेमोक्रेटिक राज्...
    Editorial Increasing difficulties for laborers

    सम्पादकीय: मजदूरों के लिए बढ़ रही मुश्किलें

    आप पिछले वर्ष के इन दिनों को याद करें। हर ओर लॉकडाउन था। अप्रैल, 2020 में कोरोना को लेकर देश में इतना खौफ था कि लोग पैदल ही हजारों किलोमीटर दूर स्थित अपने गांवों की ओर लौट चले थे। उन गांवों की ओर, जिन्हें वे कभी रोजी-रोटी की तलाश में कहीं पीछे छोड़ आए...
    Negligence of leaders is overshadowing the public

    जनता पर भारी पड़ रही नेताओं की लापरवाही

    राजनेताओं की लापरवाही लोगों पर भारी पड़ रही है, इसकी एक मिसाल सामने आई है। पश्चिम बंगाल, असम सहित पांच राज्यों में नेताओं ने जमकर कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ाई और अब इन्हीं राज्यों में कोरोना बेकाबू हो गया है। रोजाना संक्रमित मरीजों की गिनती बढ़ रही ह...
    Editorial: The schools should also be trusted for the 12th

    संपादकीय : 12वीं के लिए भी स्कूलों पर किया जाए भरोसा

    पंजाब सरकार के सुझाव पर अमल करते हुए व कोविड-19 के मामलों में भारी वृद्धि के बाद केंद्र सरकार ने केंद्रीय माध्यिमक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की दसवीं की परीक्षा रद्द करने व बारहवीं की परीक्षा स्थगित करने का निर्णय लिया है। अब होना यह चाहिए कि कम से कम स...
    Galwan Valley Tension, world is watching China intention

    गलवान घाटी तनाव में दुनिया देख रही चीन की नीयत

    आखिर गलवान घाटी में चीनी घुसपैठ के महीनों बाद भारत और चीन दोनों देशों की सेनाओं ने पीछे हटने का निर्णय लिया है। इस निर्णय के बाद कुछ लोगों द्वारा भारत सरकार की आलोचना की जा रही है तो कुछ कह रहे हैं कि भारत को अभी अड़िग रहकर चीन पर दबाव बनाकर रखना चाहि...
    Will Mamata really be left alone till the election

    क्या चुनावों तक वास्तव में अकेली पड़ जाएगी ममता

    पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में तीन महीने से भी कम का समय बाकी है। भाजपा और टीएमसी में तकरार चरम पर है। तृणमूल कांग्रेस पर मंडराता संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। केंद्रीय स्तर पर तृणमूल का चेहरा माने जाने वाले दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा में ही...
    Editorial Heritage should not be considered junk

    सम्पादकीय : विरासत को कबाड़ न समझा जाए

    हमें इस मानसिकता से बाहर निकलने की आवश्यकता है कि अगर किसी हवाई जहाज की आयु सीमा पूरी होने पर उसे बाहर कर दिया गया है तो उसके आगे बैल जोड़कर बोझा ढोहने के काम में ले लिया जाए। जैसे कि पुरानी वस्तुएं, फर्नीचर, मुद्राएं, भवन आदि सहेजे जाते हैं। ठीक ऐसे ...
    Is stubbornness doing damage to the country

    संपादकीय : जिद्द कहीं देश का नुक्सान तो नहीं कर रही?

    नए कृषि कानूनों पर सरकार और किसान आमने-सामने हैं। सरकार का कहना है कि नए कृषि कानून देश के किसानों की समृद्धि के लिए हैं, इनमें ऐसा कुछ नहीं, जिससे किसानों को कोई हानि हो। अगर किसानों को किसी प्रकार की हानि की आशंका है तो सरकार इनमें संशोधन कर वह आशं...
    Find solutions, do not create confusion

    समाधान निकले, भ्रम पैदा न हो

    दिल्ली में केन्द्र व कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन तीसरे महीने में दाखिल हो गया है। ग्यारह मीटिगें करने के बावजदू कोई सार्थक परिणाम सामने नहीं आ सका है, लेकिन फिर भी समाधान की उम्मीद नहीं छोड़ी जा सकती।किसानों व सरकार दोनों पक्षों को मसले क...
    India pioneer in service to humanity

    मानवता की सेवा में भारत अग्रणी

    भारत सरकार ने भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, सेशेल्स में कोरोना वैक्सीन भेजी है। अफगानिस्तान, श्रीलंका और मारिशस को भी भारत की कोरोना वैक्सीन जल्द भेजी जानी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे वैक्सीन मैत्री का नाम दिया है, कूटनीतिक भा...
    Health

    स्वास्थ्य पर केंद्रित बजट

    सरकार ने घाटे में चल रही सरकारी कंपनियों में अपना हिस्सा बेचने की योजना बनाई है। दो सरकारी बैंकों, एक बीमा कंपनी व कई अन्य कंपनियों से हिस्सेदारी बेचकर 2.38 लाख करोड़ प्राप्त करने का लक्ष्य तय किया है। इसी प्रकार प्रत्यक्ष विदेश निवेश का सीधा 49 फीसदी...
    Farmers

    बातचीत पटरी पर, लेकिन दिल खोलना होगा

    लाल किले की घटना वाले आरोपियों की किसान संगठनों के खिलाफ बयानबाजी भी उनके मुख्य किसान संगठनों से अलग होने की पुष्टि करती है। किसान और सरकार दोनों पक्ष कानून व्यवस्था संबंधी जान चुके हैं।
    Health Budget

    बजट में स्वास्थ्य पर हो ज्यादा सुधार

    सर्वे के अनुसार अर्थव्यवस्था को कोरोना काल से पूर्व की स्थिति में लाने के लिए कम से कम दो साल लगेंगे लेकिन जिस प्रकार के हालात हैं, उनमें अर्थव्यवस्था को सामान्य होने में दो साल से ज्यादा भी लग जाएं तो कोई आश्चर्य की बात नहीं।

    अमन कानून कायम रखना जरूरी

    गणतंत्र दिवस का दिन प्रत्येक देशभक्त भारतीय के जीवन में बहुत गौरवशाली दिन होता है, लेकिन किसानों की ट्रैक्टर परेड़ की आड़ में कुछ उपद्रवियों ने नियम-कायदे-कानूनों को ठेंगा दिखाकर जमकर हुडदंग मचाया, संविधान प्रदत्त अभिव्यक्ति की आजादी का दुरुपयोग करके देश की छवि को विश्व में खराब करने का दुस्साहस किया।
    India-Cautious

    संपादकीय : भारत को सतर्क रहना होगा

    ऐसा लग रहा कि चीन अपनी पुरानी दोहरी नीति त्यागने को तैयार नहीं। विगत वर्ष जून में देश के उत्तर में लद्दाख के नजदीक लाइन आॅफ एक्चुअल कंट्रोल के पास दोनों पक्षों में झड़प हुई थी जिससे तनाव की स्थिति पैदा हुई। 15 जून को हुई इस झड़प में 20 भारतीय सैनिकों क...