CET Exam कल से, दो दिन चार पारियों में होगी

हनुमानगढ़ जिले से करीब 40 हजार परीक्षार्थी परीक्षा देने जाएंगे श्रीगंगानगर-बीकानेर

हनुमानगढ़। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से गृह, जल संसाधन समेत 8 विभागों में 3000 पदों के लिए आयोजित करवाई जा रही सीईटी ग्रेजुएशन लेवल पात्रता परीक्षा शनिवार से शुरू होगी। सीईटी ग्रेजुएशन लेवल परीक्षा का आयोजन 7 और 8 जनवरी को चार परियों में किया जाएगा। पहली पारी का पेपर सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक, जबकि दूसरी पारी का पेपर दोपहर 2.30 से शाम 5.30 तक होगा। सीईटी परीक्षा के लिए यद्यपि हनुमानगढ़ में कोई परीक्षा केन्द्र नहीं बनाया गया है। हनुमानगढ़ के करीब 40 हजार परीक्षार्थियों को सीईटी परीक्षा के लिए श्रीगंगानगर व बीकानेर में केन्द्र आवंटित किए गए हैं।

परीक्षार्थियों के लिए राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की ओर से निशुल्क यात्रा की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। शुक्रवार सुबह से यह सुविधा शुरू हो गई। परीक्षा के लिए कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से निर्धारित की गई ड्रेस कोड की पालना करना भी अनिवार्य होगी। ड्रेस कोड का पालना नहीं करने वाले अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। परीक्षा के दौरान पानी की बोतल, पर्स, बैग, ज्योमैट्री, पेंसिल बॉक्स, प्लास्टिक पाउच, कैल्कुलेटर, तख्ती, पैड, गत्ता, पैन ड्राइव, रबर, टेबल स्कैनर, किताबें, नोटबुक, पर्चियां, व्हाइटनर लाने पर रोक रहेगी। इसके साथ ही डेढ़ घंटे पहले अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्रों पर रिपोर्टिंग करने के साथ ही परीक्षा समय के बाद प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम हनुमानगढ़ डिपो के मुख्य प्रबंधक राकेश रॉय ने बताया कि सीईटी की परीक्षा के लिए हनुमानगढ़ जिले से करीब 40 हजार परीक्षार्थियों का मूवमेंट होगा। इन परीक्षार्थियों में अधिकतर श्रीगंगानगर व बीकानेर में परीक्षा देने जाएंगे। इसके अलावा पंजाब व हरियाणा से आने वाले परीक्षार्थियों को जयपुर, उदयपुर सहित अन्य जगहों पर केन्द्र आवंटित हुए हैं। उनके लिए भी परिवहन की व्यवस्था की गई है। हनुमानगढ़ से श्रीगंगानगर व बीकानेर जाने वाले के लिए भी व्यवस्था बनाई गई है। परीक्षा के मद्देनजर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। हनुमानगढ़ जंक्शन व रावतसर में दो अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है।

उनके साथ अन्य कर्मचारी भी रहेंगे। हनुमानगढ़ टाउन, भादरा, रावतसर, पीलीबंगा, सूरतगढ़ में भी कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है ताकि आवश्यकतानुसार रोडवेज बसों का संचालन करवाया जा सके। आम यात्रियों के लिए उपलब्ध न करवाकर रोडवेज की उपलब्ध बसों का डायवर्जन करवाया जाएगा ताकि राज्य सरकार की बजट घोषणानुसार परीक्षार्थियों को निशुल्क यात्रा की सुविधा उपलब्ध करवाई जा सके। निगम के पास कुल 103 बसें हैं। परीक्षार्थियों के लिए शुक्रवार सुबह से रोडवेज बसों में निशुल्क यात्रा की सुविधा शुरू हो गई। कंट्रोल रूम भी शुरू हो गया है। उन्होंने बताया कि रोडवेज बसों में अभ्यर्थियों के लिए यात्रा निशुल्क रहेगी जबकि उनके साथ जाने वाले अभिभावकों से किराया वसूला जाएगा। महिला यात्री को रियायत दी जाएगी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here