मानवता की सेवा में जुटे ‘ब्लॉक शेरपुर’ के सेवादार

0
463
Welfare-Work

ब्लॉक द्वारा अब तक दर्जनों जरूरतमंद परिवारों को बनाकर दिए जा चुके हैं मकान (Welfare Work)

  • ब्लॉक में 12 से ज्यादा हो चुके हैं शरीरदान, रक्तदान में भी हो ब्लॉक को किया गया है सम्मानित

रवी गुरमा शेरपुर/संगरूर। डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणाओं पर चलते हुए ब्लॉक शेरपुर मानवता भलाई के कार्यों में अपनी अलग पहचान रखता है। यह ब्लॉक जिला संगरूर के अधीन आता है। डेरा सच्चा सौदा की ओर से चलाए जा रहे 135 मानवता भलाई के कार्यों की कड़ी में इस ब्लॉक की अपनी अलग पहचान है। यदि बात नशों के बह रहे दरिया को रोकने से शुरू करें तो इस ब्लॉक की तरफ से बड़ी संख्या लोगों के नशे छुडवाए गए हैं।

Dera-Followers

इस ब्लॉक के जिम्मेवारों की मेहनत से और साध संगत के सहयोग से गरीब लड़कियों के विवाह, वातावरण को शुद्ध रखने के लिए पौधे लगाकर उनकी संभाल करना, पक्षियों के लिए पानी के कटोरे रखना, बेजुबानों की संभाल करना, गरीबों को कपड़े देना, राशन देना ऐसे अनेकों कार्य ब्लॉक की तरफ से किये जा रहे हैं। इसके अलावा ब्लॉक की तरफ से नीचे दिए गए कार्य जोरों शोरों के किये गए हैं और निरंतर जारी हैं।

36 जरूरतमंदों परिवारों को बनाकर दे उठाया रात बसेरे

ब्लॉक शेरपुर की तरफ से कस्बे और आसपास के गांवों में 36 जरूरमन्दों परिवारों को मकान बनाकर दिए जा चुके हैं, जिन पर अनुमान 52 लाख से अधिक की राशि खर्च की जा चुकी है क्योंकि गरीब व्यक्ति अपना घर पहनने से असमर्थ होता है, वह सारी उम्र मेहनत करके भी अपना घर नहीं बना सकता। परन्तु साध-संगत उसके कंधे से कंधा मिलाकर चंद घंटों में उसका मकान बनाकर देती है, जिसकी मिसाल ब्लॉक शेरपुर में देखने को मिलती है। उल्लेखनीय है कि इन घरों को बनाने के लिए जो खर्चा आता है वह खर्चा साध-संगत अपनी, जेबों में से खुद करती है और जरूरतमंदों का सहारा बनती है।

मैडीकल रिसर्च के लिए एक दर्जन से अधिक लोगों का हुआ शरीरदान

Body-Donation

ब्लॉक शेरपुर में व्यक्ति की मौत के बाद पुरानी परंपराओं का त्याग करते हुए अब तक एक दर्जन लोगों का मैडीकल रिसर्च के लिए शरीरदान हो चुका है। यहां यह भी बताना बनता है कि शरीर दान के साथ-साथ नेत्र दान में भी ब्लॉक का अहम रोल है। क्योंकि आज के स्वार्थवादी युग में जहां लोग अपने शरीर का बाल तक नहीं देते। वहां पूज्य गुरू जी की पावन प्रेरणाओं पर चलते ब्लॉक शेरपुर के सेवादारों की तरफ से मैडीकल रिसर्च के लिए लोग हितों को पहल देते हुए मरणोंपरांत एक दर्जन व्यक्तियों के शरीरदान किए जा चुके हैं। स्व. लाला सुरिन्दर कुमार से शुरू हुआ यह कारवां ब्लॉक की तरफ से अब तक लगातार जारी है।

रक्तदान के क्षेत्र में सम्मानित हो चुका है यह ब्लॉक

Blood-Donation

इस ब्लॉक में खूनदान करन के लिए साध-संगत का हर कोई प्रेमी उतावला रहता है। समय-समय लग रहे खूनदान कैंपों और एमरजैंसी में ब्लॉक की तरफ से खूनदान कर लोगों को नयी जिंदगी दी जा चुकी है। यदि बात कोविड-19 की करें तो इसमें भी ब्लॉक की तरफ से सिवल अस्पताल संगरूर में कैंप लगाकर ब्लड बैंक को बड़ी संख्या में यूनिट खून मुहैया करवाया गया था। इस सम्बन्ध में पंजाब सरकार के मौजूदा कैबिनेट मंत्री विजयइन्द्र सिंगला की ओर से पंद्रह अगस्त के दिन ब्लॉक के सेवादारों को प्रशंसा पत्र भी दिए गए थे। इसके अलावा भी साध-संगत की ओर से डेरा सच्चा सौदा सिरसा में पूजनीय बापू मग्घर सिंह जी ब्लड बैंक सिरसा में पहुँचकर भी लगातार खूनदान किया जा रहा है।

सरकारी इमारतों की संभाल में बड़ा योगदान

ब्लॉक शेरपुर की ओर से समय-समय सफाई अभियान चलाकर अलग-अलग सरकारी इमारतों की संभाल में बड़ा योगदान दिया जा रहा है। बात चाहे सरकारी अस्पताल शेरपुर की हो या थाना शेरपुर की समय-समय साध संगत की तरफ से इन इमारतें की सफाई कर संभाल की जा रही है। कोविड-19 के दौरान कस्बे के अस्पताल में बड़ी मात्रा में उगी घास-बूटी दिखाई के रही थी, जिसकी सफाई साध-संगत की तरफ से कुछ ही घंटों में की गई। सरकारी अस्पताल की संभाल के लिए साध-संगत की तरफ से लगातार सफाई का बीड़ा उठाया जा रहा है।

हजारों परिवारों को दिया जा चुका है राशन

ब्लॉक शेरपुर की समूह साध-संगत की ओर से समय-समय जरूरतमंद परिवारों को घरेलू प्रयोग का राशन मुहैया करवाया जाता है। कोरोना माहामारी के समय दौरान भी सैंकड़ों परिवारों को साध-संगत की तरफ से राशन दिया गया है। उल्लेखनीय है कि साध-संगत की तरफ से यह राशन एक दिन व्रत रख कर जरूरतमंद परिवारों को दिया जाता है। कुछ परिवार ऐसे हैं जिनको साध-संगत की तरफ से मासिक राशन पक्के तौर पर भी मुहैया करवाया जाता है।

पूज्य गुरू जी की रहमत से सब कार्य हो रहे संभव

ब्लॉक शेरपुर की ब्लॉक समिति की ओर से इन कामों का श्रेय पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को देते हुए कहा कि पूज्य गुरू जी की रहमत से ही सभी कार्य संभव होते हैं। साध-संगत आज भी उन के वचनों अनुसार मानवता भलाई के कार्य निरंतर कर रही है। उन्होंने कहा कि साध-संगत को आज भी पूज्य गुरू जी पर पूर्ण विस्वास है और वह हमेशा गुरू जी के वचनों अनुसार मानवता की सेवा करेंगे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।