प्यासे पंछियों को पानी पिलाएं …आओ इस आदत को संस्कार बनाएं

0
367
humanity-2

 Guru-ji

‘‘पक्षियों को समर्पित रही सच कहूँ की 19वीं वर्षगांठ

सरसा (सच कहूँ न्यूज)। विश्वभर में मानवता व रूहानियत की शिक्षा से समाज को बदल रहे राष्टÑीय दैनिक ‘सच कहूँ’ की 19वीं वर्षगांठ बेजुबान परिंदों के नाम रही। इस मुहिम से जुड़कर लाखों पाठकों सहित सच कहूँ परिवारों के सदस्यों ने पेड़ों व घरों की छतों पर मिट्टी के परिंडे रखकर पाक्षियों की प्यास बुझाने का काम किया। इस दौरान ‘सच कहूँ’ ने आमजन से भी पशु-पाक्षियों के लिए दाना-पानी रखने की अपील की ताकि इस गर्मी में कोई परिंदा प्यासा न मरे।

सरसा। सच कहूँ मुख्य कार्यालय में गिलहरी के बच्चे को दाना खिलाते सेवादार गिरीश इन्सां।

Grish-Insa

सरसा। सच कहूँ मुख्य कार्यालय में पक्षियों के लिए पेड़ों पर मिट्टी के सकोरे बांधते सच कहूं के प्रबंध संपादक प्रकाश सिंह इन्सां, सच कहूँ पंजाबी के संपादक तिलकराज इन्सां व विज्ञापन प्रभारी विकास बागला।

sach-kahoon

करनाल (सच कहूँ नयूज)। 11 जून को सच कहूँ की 19वीं वर्षगांठ पर करनाल ब्लॉक की दो बहनों कशिश इन्सां और जिया इन्सां ने ‘‘पक्षियोंद्धार’’ मुहिम के तहत पक्षियों के लिए छत पर दाना-पानी रखा।

humanity

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।