Sirsa Weather : आफत की बरसात, 1987 का तोड़ा रिकॉर्ड, राजपुरा माइनर टूटी, बाढ़ का खतरा!

Sirsa Weather

Sirsa Weather : ओढां, राजू। भीषण गर्मी से जूझ रहे आमजन को शनिवार रात्रि बड़ी राहत मिली। क्षेत्र में खूब बरसात हुई। इस बरसात से जहां एक तरफ राहत मिली तो वहीं इसके साथ-साथ आमजन को परेशानी भी झेलनी पड़ी। बरसात की वजह से खेतों में जलभराव होने के चलते फसलें जलमग्न हो गईं। किसानों के मुताबिक ऐसी बरसात उन्होंने वर्ष 1987 में देखी थी। Sirsa Weather

बरसात की वजह से रविवार अलसुबह राजपुरा माइनर गांव रत्ताखेड़ा व रिसालियाखेड़ा रकबा क्षेत्र में टूटने की वजह से करीब 30 एकड़ नरमे व ग्वार की फसल में पानी घुस गया। माइनर टूटने की सूचना के बाद अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लेते हुए नुहियांवाली में स्थित बड़े पुल से राजपुरा माइनर का पानी कम करवाते हुए टूटे हिस्से को पाटने का कार्य शुरू करवाया। करीब 9 घंटे की मशक्कत के बाद टूटे हिस्से को पाटने का कार्य मुकम्मल हुआ।

बरसात व वृक्षों की जड़ों की वजह से करीब 80 फुट कटाव

गांव रत्ताखेड़ा के किसान निलेश कुमार, नीतिन कुमार व रणवीर आदि ने बताया कि राजपुरा माइनर टूटने की वजह से उनकी करीब 30 एकड़ फसल में पानी भर गया। वहीं किसानों ने विभाग द्वारा समय पर पहुंचकर स्थिति संभालने पर संतुष्टि जाहिर की। नहरी एवं सिंचाई विभाग के जेई जगदीप सिंह ने बताया कि राजपुरा माइनर में बुर्जी नंबर 29 के पास बरसात व वृक्षों की जड़ों की वजह से करीब 80 फुट कटाव हुआ था। Sirsa Rain

सूचना मिलने पर उन्होंने तुरंत मौके पर पहुंचकर जेसीबी मशीनों की सहायता से स्थिति पर नियंत्रण किया। माइनर में पानी पुन: सुचारू कर दिया गया है। गांव राजपुरा के किसान आत्माराम पारीक, भीमसैन, महावीर तथा गांव रत्ताखेड़ा के किसान रामपाल भाकर, गांव बनवाला के किसान सहदेव सहित अन्य ने बताया कि भारी बरसात की वजह से नरमे व ग्वार की फसल में एक से डेढ़ फुट तक पानी भरा हुआ है। अगर और बरसात होती है तो फसल में पानी खड़ा रहने के चलते धूप खिलने के बाद फसल बर्बाद हो जाएगी। Sirsa Flood

खरीफ चैनल के तटबंधों में हुआ कटाव | Sirsa Weather Update

राजपुरा माइनर के नजदीक से होकर गुजरने वाली रत्ताखेड़ा खरीफ चैनल के साथ-साथ लगते खेतों का पानी ओवरफ्लो होकर चैनल में गिरने से तटबंधों में बड़ा कटाव हो गया। जिससे खेतों की मिट्टी धंसकर पानी के साथ बह गई। जिसके चलते किसानों की फसलों में नुकसान होने के साथ-साथ मिट्टी का भी कटाव हुआ। मौके पर मौजूद खरीफ चैनल के जेई रघुवीर सिंह ने बताया कि तटबंधों में कई जगहों पर बड़ा कटाव हुआ है। मौसम सामान्य होते ही मशीनों की सहायता से इसे दुरुस्त कर दिया जाएगा। Heavy Rain

सता रही है चिंता | Sirsa Weather

बरसात की वजह से खेतों में घुसा पानी किसानों के लिए आफत साबित होगा। नुहियांवाली के किसान जगदीश सहारण, महेन्द्र कुमार, रुलीचंद व लीलाधर शर्मा आदि ने बताया कि उनके खेतों में करीब 30 एकड़ नरमे व ग्वार की फसल में करीब 2 फुट तक पानी खड़ा है। चारों ओर फसल ही फसल होने के चलते पानी की निकासी भी नहीं हो सकती। ऐसे में पानी खड़ा रहने के बाद धूप खिलती है तो फसल नष्ट हो जाएगी। भारी बरसात से हालांकि सभी किसानों को नुकसान उठाना पड़ा है, लेकिन छोटे खेतिहर किसानों के लिए ये बरसात बड़ी आफत का सबब बनी है। किसानों ने सरकार से सर्वे करवाकर उचित मुआवजा देने की मांग की है।

Threat to kill : जान से मारने की धमकी, सुरक्षा की गुहार!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here