करवा चौथ पर पूज्य गुरु जी के वचन | Saint Dr MSG Insan

चंडीगढ़ (एमके शायना)। अक्तूबर का महीना शुरू हो चुका है। यह महीना त्योहारों का महीना होता है। इस महीने में करवा चौथ, दशहरा, दीपावली जैसे शुभ पर्व आएंगे। करवा चौथ तो महिलाओं का खास त्यौहार होता है। पूरे साल महिलाएं इस त्यौहार की प्रतीक्षा करती हैं। सुहागिन महिलाओं के लिए करवा चौथ का व्रत विशेष महत्व रखता है। हर साल कार्तिक माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत रखा जाता है। इस बार करवा चौथ का त्यौहार 13 अक्टूबर गुरुवार को है। इस दिन महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना के साथ व्रत रखती हैं। रूहानियत के नजरिए से देखें तो बहुत से लोग इस व्रत को परमपिता परमात्मा के लिए भी रखते हैं ताकि वह परमात्मा का अब्बल प्रेम पाते रहें। ऐसे रखें करवा चौथ का व्रत: हर त्यौहार को लेकर लोगों में बहुत से पाखंड भी फैलाए जाते हैं।

अगर पत्नी करवा चौथ का व्रत रख सकती है तो पति क्यों नहीं? | Karwa Chauth

लोग त्योहारों का असली मकसद भूल जाते हैं कि त्योहार मनाए क्यों जाते हैं। इस दिन लोग करवा चौथ के नाम पर ठूस ठूस कर खाते हैं जो कि गलत है। इस दिन कई पत्नियां अपने पति का बहुत ज्यादा खर्चा करवा देती हैं। वरत के नाम पर हो रहे इस पाखंडवाद को खत्म करते हुए पूज्य पिता संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसा करवाचौथ के बारे विस्तार में समझाते हुए फरमाते हैं कि करवा चौथ का व्रत गुनगुने पानी पर रखना चाहिए। चाहे आप 12 घंटे या फिर 24 घंटे भूखे रहें इस व्रत में सिर्फ गुनगुना पानी ही पीए। पूज्य गुरु जी के पवित्र मुखारविंद से व्रत रखने और खोलने का तरीका जानने के लिए नीचे दी वीडियो पर क्लिक करें।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।