जिंदगी में बुरे कर्माें से तौबा करो

0
272
Meditation, Anmol Vachan, Saint Dr. MSG

सरसा। पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि इन्सान दुनियादारी में इतना बुरी तरह से फंसा रहता है कि उसके पास अल्लाह, वाहेगुरु की याद व भक्ति-इबादत के लिए समय ही नहीं होता। इन्सान द्वारा किए जाने वाले सभी घरेलू कार्य नहाना, फै्रश होना, नाश्ता लेना आदि के लिए समय निश्चित होता है अर्थात इन्सान के लिए सभी कार्य के लिए समय है तथा वह रूटीन में उन्हें करता रहता है, लेकिन उसके पास अल्लाह, वाहेगुरु, गॉड, खुदा, रब्ब के लिए समय ही नहीं है। इसकी वजह से ही उस इन्सान का आने वाला समय कभी भी ठीक नहीं होता और जब उसका बुरा समय आता है फिर वह उस मालिक को याद करता है। पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि जब मुसीबत आती है तो इन्सान को भगवान याद आता है, लेकिन उसे उस समय भी मालिक को बुलाना नहीं आता, क्योंकि उसको गम, चिंता, टैंशन व परेशानियां इतनी बुरी तरह से घेर लेती हैं कि उसे याद ही नहीं रहता कि उसे मालिक को याद करना चाहिए तथा अगर वो उस मालिक को याद करना भी चाहे तो उसका ध्यान दूसरी ओर आकर्षित होता रहता है।

आप जी फरमाते हैं कि इन्सान को अपने जीवन में एक रूटीन बनाना चाहिए कि वह सुबह-शाम उस मालिक को जरूर याद करेगा तथा अगर इन्सान इस प्रकार लगातार उस मालिक को याद करने लग जाए तो शायद उस इन्सान को भयानक से भयानक कर्म भी न भोगने पड़ें। जिस प्रकार इन्सान को बीमारी के समय सुबह-शाम दवाइयां लेनी पड़ती हंै तथा एक बार भी रूटीन टूटने पर उसे शुरु से दवाइयों का सेवन करना पड़ता है। यही बात राम-नाम में है अगर इन्सान सुबह-शाम घंटा या आधा घंटा राम-नाम का जाप करे तो डॉक्टरों द्वारा दी जाने वाली दवा का असर तो कुछ समय के लिए रहता है, लेकिन राम-नाम की दवा का असर हमेशा रहेगा। इस रूटीन को तोड़ने के पश्चात मन फिर से वह रूटीन बनने नहीं देता। इसलिए भाई आप लगातार उस मालिक के नाम का जाप करोगे तभी आपकी सभी परेशानियां दूर होती जाएंगी और आप मालिक की कृपा दृष्टि के काबिल बनते जाओगे।

आप जी फरमाते हैं कि इन्सान का मन बहुत जालिम है। वह उस मालिक के नाम का जाप न करने का कोई न कोई तोड़ तैयार ही रखता है। पूूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि जो इन्सान गलती करके भी उसे नहीं मानता तो उसको कैसे बख्शा जाएगा, उसे खुशियां कैसे मिलेंगी, किसी-किसी को ऐसा मौका मिल भी जाता है, लेकिन वह ऐसे-ऐसे बहाने बना लेते हैं कि कभी सुना ही न हो। इसलिए रूहानियत में कभी झूठे बहाने नहीं चलते, अगर इन्सान से कोई गलती हुई है और उसे कभी फकीर से बात करने का मौका मिलता है। उस दौरान अगर आप तौबा कर लेते हैं तो जल्द ही आप उस मालिक की भक्ति करना आरंभ कर देते हैं, लेकिन अगर इन्सान बयानबाजी करता रहता है तो उस पर उसका मन हमेशा हावी रहता है।

उस मालिक को इन्सान के मस्तिष्क को देखकर सब कुछ पता चल जाता है कि उसने अपने जीवन में क्या किया है, क्या किया था और क्या होगा आदि, लेकिन वह कभी किसी को उसकी गलती नहीं सुनाते। लेकिन संत, पीरों को यह देखकर बहुत दु:ख होता है कि अगर यह उस मालिक को याद करता तो पता नहीं कितनी ही खुशियां हासिल कर लेता। फिर भी पता नहीं इन्सान बुरे कार्य करना क्यों नहीं छोड़ता? पता नहीं वह नशा जो कड़वा होता है उसे भी नहीं छोड़ता। अगर जहर मीठा है तो क्या इन्सान उसे खा लेगा। इसलिए भाई कहने का मतलब है कि आप कोई भी बुरा कर्म न किया करो। यह घोर कलियुग है, अगर इन्सान से कोई गलती हो भी गई है कि तो यहां आकर कोई बहाने न बनाओ। अगर इस घोर कलियुग में परमानंद की प्राप्ति करना चाहते हो तो हमेशा आप सुबह कम से कम आधा घंटा उस मालिक के नाम का सुमिरन करते रहिए, आपको गम, चिंता परेशानियों से मुक्ति जरूर मिल जाएगी।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।