बीकानेर में जीप एवं ट्रक की भयानक टक्कर में 3 युवकों की दर्दनाक मौत

जयपुर (सच कहूँ न्यूज)। राजस्थान के बीकानेर जिले में जीप एवं ट्रक के आपस में टकरा जाने से पटवारी परीक्षा देकर अपने घर लौट रहे तीन युवकों की मौत हो गई जबकि इतने ही घायल हो गए। पुलिस के अनुसार ये युवक पटवारी परीक्षा देने के बाद बीकानेर से नागौर जिले में अपने गांव लौट रहे थे कि रविवार देर रात उनकी थार जीप नोखा में सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई। हादसे में गंभीर रूप से घायल युवकों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन तब तक तीन युवकों ने दम तोड़ दिया। तीन घायलों को बाद में बीकानेर अस्पताल भेज दिया गया। मृतक युवकों की पहचान नागौर जिले के रुण निवासी राकेश, कैलाश और नितेश के रूप में की गई है।

गहलोत ने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि बीकानेर के नोखा क्षेत्र में हुए सड़क हादसे में तीन पटवारी भर्ती परीक्षा अभ्यर्थियों की मृत्यु बेहद दुखद है। इस कठिन समय में मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं, ईश्वर उन्हें सम्बल दें एवं दिवंगतों की आत्मा को शान्ति प्रदान करें। गहलोत ने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की।

दुनिया में सबसे अधिक सड़क हादसे भारत में

  • अगर हम आंकड़ों को देखे तो हमारे देश सबसे ज्यादा सड़क हादसे में लोग मरते हैं। यह जानकारी हमारे केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने लोकसभा में दी थी।
  • गडकरी ने कहा था कि 2025 तक सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में 50 फीसदी तक लाने के लिए सरकार काम कर रही है।
  • भारत सड़क दुर्घटना के मामले में पहले स्थान पर है। अमेरिका और चीन से भी आगे है।
  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में हर साल सड़क दुर्घटनाओं में लगभग 1.5 लाख लोग मर जाते हैं और 4.5 लाख से अधिक लोग इन दुर्घटनाओं में घायल होते हैं। देश में सड़क दुर्घटनाओं में प्रति दिन 415 लोग मर जाते हैं। सड़क हादसे में 70 फीसदी मौतें 18 से 45 वर्ष की आयु वर्ग में होती है जो कि सरकार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है।
  • केन्द्र सरकार राज्यों को सड़क सुरक्षा में सुधार के लिए 14 सौ करोड़ रुपये की धनराशि भी प्रदान की थी जिसका अभी तक कोई सफल नतीजा नहीं निकल पाया है।
  • सड़क सुरक्षा को लेकर समाज में जागरूकता होनी जरूरी है। अगर सभी प्रयास करें तो सड़क हादसों पर ब्रेक लग सकता है।