नशों के खिलाफ गांव भंगू के ग्रामीणों ने आवाज की बुलंद

Voice Against Drugs sachkahoon

बैठक आयोजित कर लिए कई अहम फैसले

सच कहूँ/राजू, ओढां। गांव भंगू की व्यामाशाला में गांव को नशा मुक्त करवाने हेतु ग्रामीणों की तीसरी बैठक आयोजित हुई। भारतीय किसान एकता के अध्यक्ष लखविंदर सिंह औलख की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में ग्रामीणों ने गांव से नशे को पूरी तरह से खत्म करने हेतू विचार विमर्श करते हुए कुछ अहम फैसले (Voice Against Drugs) लिए। गांव को नशा मुक्त करने हेतु करीब डेढ़ माह पूर्व गांव में कमेटी गठित की गई थी, लेकिन फसली सीजन के चलते ये अभियान पूरी तरह से कारगार साबित नहीं हो पाया।

ग्रामीणों ने अब विचार विमर्श करते हुए ये निर्णय लिया कि गांव को नशा मुक्त बनाने में युवा बढ़-चढ़कर सहयोग करेंगे। समाजसेवी गुरलाल सिंह ने बताया कि आयोजित बैठक में कमेटी द्वारा सर्वसम्मति से कुछ अहम फैसले लिए गए। जिसमें गांव में नशा तस्करी करने वालों को सख्त चेतवानी दी गई की है कि या तो वे ये धंधा छोड़ दें अन्यथा कमेटी की ओर से उन पर कानूनी कार्रवाई करवाई जाएगी। बैठक में जगतार सिंह, बलजिंदर सिंह, लाभ सिंह , जगदेव सिंह, रोहित, बलकरण सिंह, कुलवंत सिंह, कर्णदेव सिंह, जरनैल सिंह व मलकीत सिंह के अलावा अनेक ग्रामीण व महिलाएं मौजूद रहीं।

नशा तस्करों के नाम एसपी को भेजे

बैठक के दौरान कमेटी द्वारा गांव में चर्चित कुछ नशा तस्करों के नाम एसपी को भेजे गए। इस दौरान कमेटी ने गांव के मेडिकल संचालकों एवं आरएमपी से अपील करते हुए कहा किवे किसी को भी खाली सिरिंज न दें और इस्तेमाल की गई सिरिंज को बाहर फेंकने की वजाए नष्ट कर दें, ताकि कोई नशा (Voice Against Drugs) करने वाला व्यक्ति उसका इस्तेमाल न कर सके। उन्होंने कहा कि जब तक सभी ग्रामीण पूर्णत: ईमानदारी के साथ कमेटी का सहयोग नहीं करते तब तक ये अभियान पूरी तरह से सिरे नहीं चढ़ेगा।

नशों के मामले पकड़े जाने पर युवाओं की ग्रामीण नहीं करवाएंगे जमानत

इस दौरान कमेटी ने ग्रामीणों से अपील करते कहा कि पुलिस द्वारा नशे के मामले में पकड़े गए गांव के किसी भी व्यक्ति की कोई भी ग्रामीण जमानत नहीं करवाएगा। इस दौरान कमेटी सदस्यों ने कहा कि बैठक में लिए गए निर्णयों को गांव में मुनादी करवाकर व सोशल मीडिया के जरिए लोगों तक पहुंचाया जाएगा।

बैठक के दौरान गांव की महिलाओं ने गुहार लगाई कि गांव के विभिन्न गली-मौहल्लों में अवैध तरह से शराब बिक रही है, जिसके कारण गांव का माहौल खराब हो रहा है। महिलाओं की इस बात पर प्रधान लखविंदर सिंह ने क्षेत्र केठेकेदारों से बात करते हुए उन्हें गांव में बिक रही शराब को रोकने के लिए कहा। जिस पर ठेकेदारों ने आश्वासन दिया कि आगे से ऐसा नहीं होगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here