तकनीक का युग : देश में 5-जी की क्रांति

0
297
5G

दुनिया निरंतर विकसित हो रही है, और तेजी से विकास की ओर बढ़ती दुनिया में एक व्यक्ति तभी खड़ा हो सकता है जब वह विकासशील प्रौद्योगिकियों का सामना करे। 2021 में कुछ भी असंभव नहीं है, शिक्षा से लेकर सेवा तक, सब कुछ विकसित हो रहा है। हर चीज की तरह मोबाइल नेटवर्क भी तेजी से बदल रहा है। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और मैकिन्से एंड कंपनी द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, स्मार्टफोन के बढ़ते प्रसार, इंटरनेट की पहुंच में वृद्धि, मोबाइल ब्रॉडबैंड के विकास से प्रेरित भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था में वर्ष 2025 तक 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंचने की क्षमता है।

दूरसंचार में दूसरी पीढ़ी से चौथी पीढ़ी तक तकनीकी प्रगति हुई है। पिछले किसी भी विकास ने इस क्षेत्र में पारंपरिक धाराओं से परे सेवा आयाम का विस्तार नहीं किया है। 5जी या पांचवीं पीढ़ी दीर्घकालिक विकास व मोबाइल ब्रॉडबैंड नेटवर्क में नवीनतम अपग्रेड है। पांचवीं पीढ़ी की वायरलेस तकनीक हमें सबसे तेज नेटवर्क से कहीं अधिक देती है। 3जी, 4जी प्रौद्योगिकी में एक स्पष्ट उन्नयन था, लेकिन 5जी एक नए नेटवर्क को सक्षम बनाता है, जिसे मशीनों, वस्तुओं और उपकरणों सहित लगभग सभी चीजों को जोड़ने के लिए डिजाइन किया गया है।

यह गति और बैंडविड्थ के लिए वास्तव में वैश्विक वायरलेस मानक स्थापित करते हुए, नेटवर्क को पूरी तरह से पुन: परिभाषित करने में मदद करेगा। निस्संदेह 5जी नेटवर्क भविष्य का मार्ग प्रशस्त करता है। 5जी के माध्यम से बेहतर नेटवर्क विशेषताओं के साथ-साथ रोबोटिक्स जैसी सक्षम तकनीकों के सेवा आयामों को जोड़ने की उम्मीद है। इसका मतलब उच्च मल्टी-जीबीपीएस पीक डेटा स्पीड, अल्ट्रा-लो लेटेंसी, बड़े पैमाने पर नेटवर्क क्षमता प्रदान करना है। उपलब्धता में वृद्धि, अधिक विश्वसनीयता, और अधिक उपयोगकर्ता अनुभव इसका लक्ष्य है। 5-जी की अपील इस तथ्य में निहित है कि संपूर्ण बुनियादी ढांचा नवीन अनुप्रयोगों के लिए एक समेकित मंच के रूप में कार्य करेगा।

5जी तकनीक उपभोक्ताओं के साथ-साथ व्यवसायों के लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हम चौथी औद्योगिक क्रांति में कदम रखे हुए हैं। 5जी नेटवर्क कम विलंबता के साथ बड़े पैमाने पर आईओटी, एआई जैसी प्रौद्योगिकियों के विभिन्न वाणिज्यिक उद्योगों जैसे आॅटोमोटिव, मीडिया और मनोरंजन, स्वास्थ्य देखभाल, विनिर्माण, खुदरा और कृषि में उपयोग के मामलों को सुविधाजनक बनाने के लिए सक्षम करेगी। इसके अलावा एक सामाजिक दृष्टिकोण से स्मार्ट शहरों जैसी पहल के लिए 5जी में सार्वजनिक सुरक्षा, उपयोगिताओं, परिवहन जैसी सेवाओं में महत्वपूर्ण सुधार के माध्यम से नागरिकों के जीवन को बेहतर बनाने की क्षमता है।

भारत में सभी उद्योग हितधारक अनुसंधान एवं विकास निवेश, प्रौद्योगिकी परीक्षणों और उपयोग के मामलों के अध्ययन के माध्यम से 5जी को व्यावसायिक रूप से लॉन्च करने के प्रयास में सक्रिय रूप से शामिल हैं। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण और डीओटी वैश्विक मानकीकरण पर केंद्रित 5जी के लिए स्पेक्ट्रम योजना पर एक साथ काम कर रहे हैं, इस प्रयास को सुविधाजनक बनाने के लिए स्पेक्ट्रम योजना को 5जी के लिए वैश्विक स्पेक्ट्रम आवंटन और स्पेक्ट्रम सामंजस्य के साथ संरेखित कर रहे हैं।

आज स्मार्टफोन बाजार एक बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है, और जिसके बढ़ने की संभावना है। अब 4जी नेटवर्क पर हाई-स्पीड डेटा कनेक्शन के साथ अधिक मनोरंजन का वादा मूर्त होगा। जो देश वैश्विक संपत्ति में प्रतिस्पर्धी बने रहना चाहते हैं, वे 5जी तकनीक अपना रहे हैं। चूंकि प्रौद्योगिकी जीवन के लगभग सभी पहलुओं को प्रभावित करती है, इसलिए देशों को अपने लोगों के जीवन में सुधार लाने और वैश्विक अर्थव्यवस्था में विकास जारी रखने के लिए तकनीकी विकास से अवगत रहने की आवश्यकता है।

सर्विस आॅपरेटर 5जी ट्रायल की घोषणा कर रहे हैं। भारतीय दूरसंचार उद्योग 5जी से होने वाले लाभों को समझ गया है और हम उम्मीद कर सकते हैं कि कुछ सीमित 5जी रोलआउट 2021 के अंत या 2022 की शुरूआत में शुरू होंगे। भारत के सामने सीएसपी और डीएसपी के लिए सही भागीदार चुनने, पारिस्थितिकी तंत्र को सक्षम करने, व्यवसाय को लाभदायक बनाने जैसी चुनौतियां होंगी। 5जी से भारत को होने वाले दीर्घकालिक लाभों को देखते हुए इसे महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के रूप में देखा जाना चाहिए और इस आधार पर हम डिजिटल इंडिया विजन को साकार कर सकते हैं।

-देवेन्द्रराज सुथार
युवा लेखक व
स्वतंत्र टिप्पणीकार

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।