17 साल से किराए पर रह रहे परिवार को डेरा श्रद्धालुओं ने बनवाया पूरा मकान

0
478
dera

गुरुग्राम के गांव धानावास में चार बेटियों के साथ रहता है ब्रह्मप्रकाश

(Welfare Work)

  • मकान मालिक ने भी आज तक नहीं लिया कोई किराया

सच कहूँ/संजय मेहरा
गुरुग्राम। मानवता भलाई कार्यों में हमेशा आगे रहने वाले गुरुग्राम के डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों ने एक परिवार का लंबे समय से अधूरा पड़ा मकान पूरा बनवाकर उसकी मदद की। ये परिवार अब तक किराये पर रह रहा था। किसी तरह मकान बनाने का काम शुरू किया, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण वह उसे पूरा नहीं कर सका। वह गांव में ही एक घर में किराये पर रह रहा था। हालांकि मकान मालिक ने आज तक उससे एक रुपया भी किराया नहीं लिया।

डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों ने 100 गज जमीन पर अधूरे पड़े मकान को पूरा कराने में मदद की

चार बेटियों व पत्नी के साथ ब्रह्मप्रकाश अपनी पत्नी सुमन व चार बेटियों के साथ जिले के गांव धानावास में बस्तीराम के मकान में पिछले 17 साल से रह रहे हैं। बस्तीराम ने उदारता दिखाते हुए उनसे कभी एक रुपया भी किराया नहीं लिया। ब्रह्मप्रकाश एक कंपनी में लेबर का काम करते हैं। कुछ बचत करके उन्होंने मकान बनाना शुरू किया, लेकिन पूरा नहीं कर सका। डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों ने 100 गज जमीन पर अधूरे पड़े मकान को पूरा कराने में मदद की। मकान का काम पूरा होने के बाद डेरा सच्चा सौदा की शाह सतनाम जी ग्रीन एस. वेलफेयर फोर्स विंग के सेवादारों व अन्य डेरा प्रेमियों ने नाम चर्चा करके परिवार को घर की चाबी सौंप दी।

सेवादारों ने दिन-रात काम करके उनका घर तैयार करवाया है, वे उनका अहसान कभी भूल नहीं पाएंगे

साथ ही उन्हें अपने घर में किसी तरह की नशा ना करने की प्रेरणा देते हुए सदा नेक कार्य करते रहने का अनुरोध किया। पक्का मकान मिलने के बाद ब्रह्मप्रकाश व उनकी पत्नी सुमन ने डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां व उनकी पावन प्रेरणा पर चलते हुए मकान बनवाने वाले सेवादारों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि सेवादारों ने दिन-रात काम करके उनका घर तैयार करवाया है। वे उनका अहसान कभी भूल नहीं पाएंगे। परिवार को मकान की चाबी देते समय गंगाराम, संदीप, देवेंद्र ज्योति पार्क, मुकेश राजेंद्रा पार्क, अशोक सेक्टर-9ए, पातली निवासी चांदकिशोर इन्सां, सतीश, मदन, मास्टर रामदित्ता, दीपक कालड़ा सेक्टर-9, बबली, दीक्षा, ललित इन्सां आदि मौजूद रहे। इन्हीं में से काफी लोगों ने मकान में श्रमदान किया।

अपने घर में लेबर लगाते हैं, यहां खुद काम किया

गांव धानावास निवासी पूर्व भंगीदास गंगाराम, उनकी पत्नी भतेरी इन्सां व बेटे जवाहर ने इस मकान को बनवाने में काफी मदद की है। गंगाराम अपने घर में कोई काम करवाते हैं तो लेबर लगाते हैं। यह उनकी दीनता और नम्रता ही है कि उन्होंने ब्रह्मप्रकाश का मकान बनाने में खुद भी काम किया और परिवार के अन्य सदस्यों ने भी। सुबह 7 से शाम 7 बजे तक काम किया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।