पानी में बही अन्नदाता की मेहनत

0
103
Rain-Damage

खेतों में भरा पानी निकालने में जुटे किसान, सर्वे करवाकर मुआवजा देने की मांग

टिब्बी (सच कहूँ न्यूज)। टिब्बी क्षेत्र में पिछले दो तीन दिन से रह रह कर हो रही भारी बारिश से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। किसान खेतों में भरें बरसाती पानी को निकालने का जतन कर रहे हैं। सेम प्रभावित इलाके में ओर भी ज्यादा परेशानी आ रही है। रविवार को भाजपा जिला उपाध्यक्ष गुलाब सींवर डबली कला पहुंच कर बरसात से हुये नुकसान का जायजा लिया। एसडीएम व तहसीलदार को दूरभाष से अतिवृष्टि से हुए फसल खराबे के बारे में अवगत करवाया और संबंधित हल्का पटवारी को भेजकर सर्वे करवाकर सरकार से मुआवजा की मांग की।

गुलाब सींवर ने बताया की चक 5, 6, 7, 8 एमजेडब्ल्यू व 9, 10, 11, 12, 13, 14 डीबीएल और 2, 4, 6 आरपी, 5 एनडीआर सी के खेतों में भारी नुकसान हुआ है। इन्होंने प्रभावित किसानों से अपील की अतिवृष्टि से हुए फसल खराबे की जानकारी के लिए चक नंबर, मुर्बा नंबर, व किला नंबर नोट अवश्य करवाएं। सरकार व प्रशासन से मांग की गई है की बीमा कंपनियों को आदेश देवें कि किसानों की अतिवृष्टि से हुए फसल खराबे का सर्वे करवाकर किसानों को राहत प्रदान करें। नरमा, कपास, ग्वार, मूंग -मोठ व मूंगफली आदि फसल खराब हुई है उसका मुआवजा दिया जाए।

किसान भाई अपनी शिकायत के बाद बीमा कंपनी के अधिकारियों के साथ कृषि पर्यवेक्षक आए तो उनके साथ रहकर सर्वे करवाएं। कृषि विभाग के अधिकारियों से निवेदन किया जाएगा कि फसल खराबे का सही सर्वे रिपोर्ट तैयार कर बीमा कंपनियों को अवगत करवाएं। जिससे किसानों को अधिक से अधिक मुआवजा मिल सके। गुलाब सीवर ने कहा की जिस तरह भादरा व नोहर में किसानों को फसलों का उचित मुआवजा मिला है, उसी तर्ज पर यहां के किसानों को भी उचित मुआवजा मिलना चाहिए। जिससे फसलों में हुए नुकसान की भरपाई हो सके। इस अवसर पर हनुमान, रामकरण, रामचन्द्र, जसवंत, सत्यपाल, कृष्ण, गौरीशंकर, मोहित, महावीर, कानाराम, महेंद्र, भजनलाल, जगतपाल, बन्ता सिंह, सन्तपाल, प्रभुराम, कालूराम, आदराम, रामस्वरूप, विनोद व ओमप्रकाश आदि ग्रामीण मौजूद थे।

बारिश से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा देने की मांग

पीलीबंगा (सच कहूँ न्यूज)। अतिवृष्टि से हुए नुकसान को लेकर मुआवजा देने की मांग करते हुए विधायक धर्मेन्द्र मोची ने रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ज्ञापन प्रेषित किया। मोची ने बताया कि पीलीबंगा व रावतसर तहसीलों में भारी बरसात के चलते नरमा, कपास, ग्वार व मूंग मोठ आदि फसल 70 प्रतिशत खराब हो गई। इससे किसानों की वर्ष भर की मेहनत पर पानी फिर गया तथा उन्हें आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा।

मोची ने बताया कि मौसम विभाग के अनुसार आगामी चार-पांच दिन और बारिश होने की संभावना है ऐसे में फसलों के और अधिक नुकसान होने की संभावना बन जाएगी। उन्होंने बताया कि भारी बरसात से उक्त तहसीलों में कई मकानों के गिरने के भी समाचार मिले। जिससे पीड़ित लोग परेशान हुए। ज्ञापन में फसल खराबे व अन्य नुकसान को लेकर सर्वे करवा संबंधित को मुआवजा देने की मांग की गई ताकि उन्हें राहत मिल सके।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।