नशे को रोकने के लिए ‘मैं हूं मेरे गांव का पहरेदार’ मुहिम की शुरूआत

0
305
Village Gudiya Kheda

गांव गुड़िया खेड़ा में में नशा रोकने के लिए लगेगा पहरा, तस्करों की सूची पुलिस को सौंपी

सच कहूँ/सुनील वर्मा
सरसा। देश का युवा जहां एक तरफ नशे का शिकार हो रहा है, वहीं दूसरी ओर लोगों को नशे से सावधान रहने की प्रेरणा देने वाले भी कम नहीं हैं। गांव में नशे के बढ़ रहे ग्राफ को लेकर गुड़िया खेड़ा में ग्राम पंचायत, युवा क्लब व ग्रामीणों की एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई। इस बैठक के दोरान ‘मैं हूं मेरे गांव का पहरेदार’ मुहिम की शुरूआत की गई। इस बैठक मे युवाओं का पूर्ण सहयोग देने के लिए चोपटा थाना प्रभारी सत्यवान ने भी शिरकत की। इस बारे में जानकारी देते हुए सुभाष चौधरी ने बताया की बैठक में नशा रोकने के लिए कमेटी का गठन किया गया है।

उन्होंने बताया कि अगर गांव में कोई भी नशे की तस्करी करता है या फिर कोई नशे का सेवन करता है तो गांव की पंचायत द्वारा प्रस्ताव पारित कर आरोपी का सामाजिक बहिष्कार किया जायेगा। वहीं गांव के पूर्व सरपंच प्रतिनिधि भरत सिंह बिरडा ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि गांव में करीब दर्जन से ज्यादा नौजवान नशे की चपेट में आ चुके हैं। गांव मे नशे को रोकना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि अगर कोई नशे का कारोबार करने या नशा करने वाला कोई व्यक्ति पकड़ा गया तो गांव का कोई भी व्यक्ति पुलिस से उसकी न ही तो जमानत करवाएगा और न ही उसके पक्ष में थाने में जायेगा।

एकजुट होकर लड़ना होगा नशे के खिलाफ

पंचायत समिति सदस्य जगदीप गोदारा ने कहा कि हमें एकजुट होकर नशे जैसी भयंकर बीमारी से लड़ना होगा। अगर कोई नौजवान नशा छोड़ना चाहता है तो ग्राम पंचायत व युवा क्लब इस मुहिम के तहत उसका इलाज करवाने में भी सहायता करेंगे। इस मुहिम में पूर्व सरपंच प्रतिनिधि भरत सिंह बिरडा, पंचायत समिति सदस्य जगदीप गोदारा, सर्वेयर सुभाष हुड्डा, बंसीलाल छाबड़ा, रमेश जांगड़ा, अजयंत गोदारा, सुभाष चौधरी, संतलाल बिरड़ा, जयवीर शीलु, सुभाष बिरड़ा, मास्टर लक्ष्मीनारायण, मास्टर रामकिशन, विनोद गोदारा, श्रवण शीलु, काशीराम गोदारा, अनिल गोदारा, कृष्ण सांगवान, विनोद गोदारा सहित अनेक प्रमुख व्यक्तियों ने नशे के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए मुहिम में साथ देने का आश्वासन दिया।

गांव में लगेगा पहरा, तस्करों की सूची बनाई

ग्रामीणों ने मुहिम के तहत गांव में कमेटी तैयार की है। अब कमेटी गांव में नशा रोकने के लिये पहरा लगाएगी। नशा बेचने वालों की मुखबिरी करके पुलिस को सूचना दी जाएगी। कमेटी ने पुलिस को गांव में नशा बेचने वालों की सूची भी सौंपी है। पुलिस के साथ एक सांझा वट्सअप ग्रुप भी बनाया है।

नशे के खिलाफ ग्रामीणों की मुहिम सराहनीय है। नशा करने व बेचने वाले किसी के हितैषी नहीं हो सकते। इस मुहिम में पुलिस लोगों के साथ है। नशा बेचने वालों की सूचना गुप्त रूप से पुलिस को दें ताकि तस्करों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जा सके।
-सत्यवान, चौपटा थाना प्रभारी

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।