पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की सभी चिट्ठी एक साथ

Saint Dr. MSG All Letters

पूज्य गुरु जी का पहला प्रेम भरा रूहानी पत्र

धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा

आदरणीय माता जी व प्यारे बच्चों व ट्रस्ट/मैनेजमेंट

सतगुरु राम की कृपा से मैं यहां पर ठीक हूँ व आपकी तन्दरूस्ती के लिए प्रभु से सुबह शाम प्रार्थना करता रहता हूँ। माता जी, आप अपनी दवाई सही समय पर जरूर ले लिया करें। समय-2 पर डॉ. से चैकअप भी जरूर करवाते रहें। सतगुरु ने चाहा तो मैं जल्दी आकर आप (माता जी) का पूरा ईलाज करवाऊंगा।
माता जी, बच्चों व प्यारी साध-संगत जी, आप सबको पता ही है कि कोरोना महा बिमारी चल रही है, इससे प्रभु सबको बचाएं इसके लिए मैं प्रभु से सुबह-शाम प्रार्थना करता रहता हूँ। सरकार जो भी निर्देश दे आप सबने उसे पूरा-2 मानना है और पूरा-2 सहयोग देना है।
इस बिमारी से बचने के लिए, मैं आपको कुछ सुझाव दे रहा हूँ : (1) सुबह-शाम कम से कम 15-15 मिनट प्राणायाम के साथ मालिक का नाम जरूर जपा करें (2) साबुन से दोनों हाथों पर झाग बनाके, एक-दूसरी हथेली पर ‘खाज’ करें ताकि नाखुन पूरी तरह साफ हो जाए। (3) घरेलु प्रोटीन जैसे चने, सोयाबीन, पनीर, दही, दूध, छाछ, दालें, पिस्ता इत्यादि व विटामीन उ जैसे नींबू, सँतरा, किन्नू, मौसमी, आँवला इत्यादि जरूर लें (4) तुलसी, नीम, चार-चार पत्ते, गिलोय (टहनी व पत्ते) 10 gm, लौंग-इलाईची 2-2, हल्दी, मुलेठी, अजवायन, सौंठ, सब एक-एक चुटकी, जीरा 5 ग्राम। 300 gm पानी में डालकर तब तक उबालें जब तक 150 gm ना रह जाए। अब इसे चाय की तरह धीरे-2 पीए। दिन में एक बार। 20 ग्राम गुड़ या शहद डाल सकते हैं।
साध-संगत अपने-2 घरों में रह कर शब्दाक्षरी, राम नाम के जाप का net पर कम्पीटीशन करते रहें। अपने-2 इलाके के DC  व राज्य के CM से परमीशन लेकर तन, मन, व धन से सृष्टि की पूरी सेवा करें पर अपना खुद का भी पूरा-2 ख्याल रखें जी।
डेरा सच्चा सौदा के ट्रस्ट के जिम्मेवार, एडम ब्लॉक, डेरे में रह रहे सेवादार भाई-बहिन खूब सेवा कर रहे हैं। सारे सेवादार व साध-संगत भी खूब सेवा कर रही है। ट्रस्ट जिम्मेवार व एडम ब्लॉक वाले ये ध्यान रखें कि सेवादारों को सेवा में कोई परेशानी ना आए। कोई भक्त किसी की भी निंदा ना करे, कोई बुरा कर्म ना करे। हमने सबको सेवा, सुमिरन करना सिखाया है सबसे बेगर्ज प्रेम करना सिखाया है व निंदा, चुगली से मन मते बुरे कर्मों से रोका है। अगर सरकार कि तरफ से ब्लड डोनेट की मांग आए तो ट्रस्ट जिम्मेदार व एडम वाले व सारे सेवादार मिलकर इस पुन्य कार्य को जरूर करें।
ट्रस्ट जिम्मेवार व एडम ब्लाक, सेवादार सब आश्रमों की सार संभाल समय-समय पर करते रहें। ‘‘नाम जपो, प्रेम करो, करो मानवता की सेवा। इन वचनों पर अमल करें तो सतगुरु देगा दो जहाँ का मेवा।।’’ सारी साध-संगत, माता जी व बच्चों को बहुत–2 आशीर्वाद
आपका
– दासन दास संत गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां

Letter-

पूज्य गुरु जी का दूसरा प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चों, ट्रस्ट प्रबंधक सेवादार।
धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा।
माता जी, हम सतगुरु शाह सतनाम, शाह मसतान जी की कृपा से ठीक हैं व आप जी की अच्छी सेहत के लिए परम पिता परमात्मा से हमेशा प्रार्थना करते रहते हैं। सतगुरू परमात्मा ने चाहा तो हम जल्दी आकर आपका ईलाज स्वयं करवाएंगे पर तब तक आप अपनी दवाईयां सही समय पर जरूर लेते रहें जी।
हमारे करोड़ों बच्चों, हम आप सब से (प्रार्थना करते हैं) कहते हैं कि ‘कोरोना’ महाबिमारी से संघर्ष में सरकार जो भी दिशा निर्देश दे, उसका आप सब पूरा-2 पालन करें। हम आप सबसे गुजारिश करते हैं कि चाहे ‘अनलॉक’ है पर आप सब ज्यादा समय अपने घर के अन्दर ही रहें। काम-धन्धे पर या सफर पर जाते समय ‘मास्क’ जरूर लगाएं व एक-दूसरे से 7 फुट की दूरी बनाएं रखें। बाहर से जब आप घर लौटें तो सबसे पहले नहाएं व पहने हुए पकड़े ‘सर्फ’ वाले पानी में डाल दें। नए कपड़े पहन कर अपने परिवार के पास जाएं। अपने हाथ चेहरे पर बार-2 न लगाएं। पहली चिट्ठी में हमने जो ‘काढ़ा’ बताया था उसे समय-2 पर लेते रहें। प्राणायाम से 15-15 मिनट सुबह-शाम राम नाम जपें, जिससे आत्मबल बढ़ेगा और आत्मबल से ‘कोरोना’ हार जाएगा। अगर सरकार ब्लड डोनेट का कहे तो डोनेट करें। आश्रम में जिन सेवादारों की हमने ड्यूटी लगाई थी, वो ब्लॉकों में जाकर जरूरतमंदों के लिए परहित परमार्थ तन, मन, धन की सेवा करवाएं। परम पिता जी ने जब से इस ‘खाक’ को ‘गुरू’ बनाया है, तब से ही हम आपकी, संसार की भलाई के लिए प्रार्थना करते थे, कर रहे हैं व ताउम्र ‘गुरू’ रूप में इस कर्त्तव्य का निर्वाह करते रहेंगे। हमने आप को सिखाया है कि सेवा करते समय कोई भेदभाव नहीं करना, सर्वधर्म, जात-पात को एक समान सत्कार देना है, एक समझना है व ‘एक’ बनके रहना है। हमें खुशी है कि हमारे बच्चे जसमीत इन्सां, चरणप्रीत इन्सां, हनीप्रीत इन्सां, अमरप्रीत इन्सां, सारे डेरे में रहने वाले सेवादार, एडम ब्लॉक सेवादार व करोड़ों बच्चे सेवादार सब आज भी एक हैं, किसी तरह की कोई गुटबाजी नहीं है और आगे भी सब एक रहें। हमने सिखाया है सबका भला करो, किसी की भी निंदा, बुराई ना गाओ। अगर कोई दिन-रात, जबरदस्त तरीके से किसी की भी निंदा, बुराई गाता है व अपने आप को हमारा शिष्य कहता है तो यह गलत है। ऐसा (निंदा बुराई) करने वाला हमारा शिष्य नहीं हो सकता। ऐसे लोगों से हमारे सारे बच्चे दूर रहें। प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उनका साथ संग न करें। ‘पर निंदा सौ गऊ घात समाना’ यह महापुरुषों ने अपने वचनों में कहा है। ट्रस्ट सेवादार, एडम ब्लॉक सेवादार व आश्रम में रहने वाले सारे सेवादार यह ख्याल रखें कि साध-संगत में कोई गुटबाजी ना हो व एकता रहे। आश्रमों का पूरा-2 ख्याल रखें। हमारा ध्यान तो ‘कुंज’ की तरह हमारे करोड़ों बच्चों में ही लगा रहता है। हम वचन देते हैं कि ताउम्र ‘गुरू’ रूप में आपकी संभाल बढ़-चढ़के करते रहेंगे। सतगुरू जी से प्रार्थना है कि आपकी हर जायज मांग पूरी करें। आशीर्वाद।
आपका अपना
दासन दास
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
25.7.2020

पूज्य गुरु जी का तीसरा प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चो, ट्रस्ट प्रबंधक सेवादार
धन-धन सतगुरू तेरा ही आसरा।
माता जी, हम सतगुरु राम जी की कृपा से यहाँ पर ठीक हैं व आप जी तथा करोड़ों हमारे प्यारे बच्चों की अच्छी सेहत के लिए परम पिता परमात्मा से हमेशा प्रार्थना करते रहते हैं। माता जी जब आप हस्पताल में बीमार थी, आपके काफी मशीनें वगैरहा लगी हुई थी, जो (मशीनें) आपकी सेहत को गम्भीर बता रही थी, पर जैसे ही हम आपके पास आए तो आप एकदम उठ बैठीं व मशीनें भी सही बताने लगी, हमें बहुत खुशी हुई अपनी जन्मदाता को खुश देखकर। परम पिता जी ने चाहा तो हम जल्दी ही आपके पास रह कर आपका पूरा ईलाज करवाएंगे।
आप सबको परम पिता शाह सतनाम जी दाता के जन्म दिन 25 जनवरी की बहुत-बहुत बधाईयां। आप सब (प्यारे बच्चों) को बहुत-बहुत खुशियां मिलें व सबकी सबसे बड़ी जायज माँग सतगुरु जी पूरी करें।
‘‘ 25 जनवरी दो हजार इक्कीस।
प्रभु खुशियां वो दे कि आप सबकी खिल जाए बत्तीस।।’’
भंडारे के पवित्र दिवस पर आप मानवता भलाई के कार्य पूरे लगन से करेंगे (हमने जो आपको बता रखे हैं) इसका प्रण लें व नारा लगाएं। एक कार्य मानवता भलाई का कि ‘‘हम दो हमारे दो या हम दोनों एक, हमारा एक बच्चा होगा।’’ जो प्रण करना चाहते हैं वो अपने हाथ खड़े करें, नारा लगाएं व हाथ नीचे कर लें। मालिक आपको अलग सी खुशी दे। 
‘सुमिरिन’कम्पीटीशन करते रहें। तन, मन, धन से परहित प्रमार्थ करते रहें, सतगुरु जी आपकी जरूर-2 सुनेंगे। निन्दा, चुगली बुराइयों व ईर्ष्या से दूर रहें।
हम रात को सोने से पहले व सुबह उठते ही आप सबको दुआएं (शाह सतनाम मसतान जी से माँग कर) देते हैं कि आप सब तन्दुरूस्त व सुखी रहें। हम ‘गुरु’ रूप में परम पिता जी से प्रार्थना करते हैं कि संसार, देश में सुख-शांति बनाए रखें बाकि प्रभु जो भी आपको मन्जुर वो हमें कबुल। हमने पहले भी पत्रों में लिखा था अब फिर गुरू रूप में कह रहे हैं कि हमारा ख्याल आप सब यानि हमारे करोड़ों प्यारे बच्चों में ही रहता है व सदा रहेगा। आप सबको बहुत-2 व प्यार भरा आशीर्वाद।
दास
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
23-1-2021

पूज्य गुरु जी का चौथा प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चो, ट्रस्ट प्रबंधक सेवादार,
धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा।
माता जी, प्यारे बच्चो, आप सबको ‘‘महा रहमोकरम दिवस’’
की बहुत-2 बधाई हो व सतगुरु जी आपकी जायज माँग जरूर पूरी करें।
हम सतगुरु जी की कृपा से यहाँ पर ठीक हैं व आप सबकी अच्छी सेहत के लिए परम पिता परमात्मा से हमेशा प्रार्थना करते रहते हैं। माता जी आप सही समय पर दवाईयां जरूर लेते रहे जी। राम सतगुरु जी ने चाहा तो हम जल्दी आकर आपका पूरा ईलाज जरूर करवाएंगे जी।
हमारे करोड़ों प्यारे-2 बच्चो, आप ज्यादा चिन्ता ना किया करो। सतगुरु राम जो भी करते हैं 100% ठीक करते थे, करेंगे भी 100% ठीक। आप नाम जपो व सेवा करो। प्रभु की सारी सृष्टि से बेगर्ज प्यार करो। सभी धर्मों का सत्कार करो। तन, मन, धन से परहित परमार्थ करते रहो। एक बात याद रखो ‘‘रहना मस्त पर होना होशियार चाहिए’’ इस कलयुग में ठग भी बहुत हैं, इसलिए उपरोक्त पंक्ति को ध्यान में जरूर रखा करें। जब भी घर से बाहर जाएं तो मास्क जरूर लगाया करो।
हम सतगुरु राम से प्रार्थना करते हैं कि देश के अन्नदाता व देश के राजा में जो विवाद चल रहा है, प्रभु आप दोनों को रास्ता दिखाए ताकि देश, जो कि अभी भी कोरोना जैसी महाबिमारी से लड़ रहा है, वो तरक्की के रास्ते पर एकजुट हो कर आगे बढ़े। देश व संसार में सुख शान्ति व खुशहाली के दरवाजे खुल जाएं। बाकि प्रभु उसी में खुश रखना जो तेरी रजा है। प्यारे बच्चो, आप सब भी देश की सुख शान्ति के लिए एक दिन (12 या 24 घंटे) का व्रत रखें। प्रभु आप सबकी पुकार जरूर सुनें। 27.2-21 को रख 28 को खोलें या 28 की शाम को उपवास रखें व 1.3.21 को खोलें।
एक दिन का राशन भी जरूरतमंदों को दें। उपवास से पहले पूरा परिवार या नामचर्चा में अपनी जायज मांग व संसार में शान्ति के लिए प्रार्थना करें। हम गुरु रूप में अपने करोड़ों प्यारे बच्चो में ही हमेशा ध्यान जमाए रहते हैं। आशीर्वाद।
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
23.2.21
एमएसजी

पूज्य गुरु जी का 5वां प्रेम भरा रूहानी पत्र

Guru Ka Letter

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चों, ट्रस्ट प्रबंधक सेवादार,
धन-धन सतगुरू तेरा ही आसरा
माता जी, हम सतगुरू जी की कृपा से यहाँ पर ठीक हैं। आप व हमारे करोड़ों बच्चों की अच्छी सेहत के लिए परम पिता परमात्मा से हमेशा प्रार्थना करते रहते हैं। सतगुरू राम जी ने चाहा तो हम जल्दी आकर आपका स्वयं ईलाज करवाएँगे व हमारे करोड़ों प्यारे बच्चों रूपी साध-संगत के दर्शन भी जरूर करेंगे।
सतगुरू जी की प्यारी साध-संगत जी, आप सबको पता ही है कि ‘कोरोना’ महाबिमारी भयानक रूप से फैल रही है पर आप घबराएं ना बल्कि जो सरकार कह रही है उस पर अमल करें। हमने पहली चिट्ठियों में व अब जो बताने जा रहे हैं उस पर पूरा-2 अमल करें जी।
1. नीम व गिलोय टहनी पत्तों समेत 100-100 ग्राम कूट के 2 लीटर पानी में डालकर उसकी ‘भाफ’, 25 लम्बे-2 स्वांस लेते छोड़ते हुए या 2 मिनट लें। रोजाना सुबह के समय।
2. तीन वचनों में गलती की है तो नारा लगाकर 76 दिन 1 घण्टा सुबह-शाम सुमिरन करें तो सतगुरू राम जी मुआफ करेंगे व आत्मबल देंगे जिससे कोरोना हारेगा। आगे से वचनों में गलती कभी भी ना करें।
3. पर निंदा वाले 30 दिन 1 घण्टा सुबह शाम व परहित परमार्थ में गलती वाले भी 30 दिन 1 घण्टा सुबह शाम सुमिरन करें। कोई भी गलती दोहराएं ना कभी भी। ‘कोराना’ मरीजों के लिए साध-संगत अपनी ‘एम्बुलेंस’ की सेवा प्रदान करे। 29 अप्रैल को आप प्रण करें कि ‘‘कोरोना वॉरियरस’’ डॉक्टर, नर्सें, पुलिस व एम्ब्ुलैंस के ड्राइवरों को किन्नू, संतरा, नीम्बू पानी व फ्रूट बांटेंगे। नॉरा। मालिक सबकी जायज माँग जरूर पूरी करेंगे। ‘‘कोरोना वॉरियरस’’ जहाँ भी आपको दिखें उन्हें सैल्यूट मारे व उनका पूरा सहयोग करें।
प्यारी साध-संगत जी, ‘दसवाँ द्वार’ तो पूर्ण गुरू की कृपा से उस शिष्य का खुलता है जो गुरू वचनों पर अमल करे। शिष्य कभी दूसरे शिष्य का ‘दसवां द्वार’ नहीं खोल सकता। सारे मानवता भलाई के कार्य ‘एडम’ ब्लॉक के  Through ही करें मनमर्जी से नहीं। साध-संगत एकता बनाए रखें।
डेरे की एक ‘साईट’ बनाएं, जिस पर एक प्रेमी डॉक्टर उपलब्ध रहे ताकि कोई भी उनसे ‘कोरोना’ के बारे में आॅनलाइन जानकारी ले सके। सभी धर्म जात-पात का सत्कार करे ‘किसी की भी’ निंदा ना करें ना ही निंदा करने वालों का साथ दें। निंदा करना ‘महापाप’ होता है। नामचर्चा, अखण्ड सुमिरन घर-घर में या online ही करें। घर पर ही रहें। 29 अप्रैल को ‘प्रार्थना’ व हर रोज सुमिरन से पहले:-‘‘हे सतगुरू जी, पूरी दुनियाँ को ‘कोरोना’ से बचाने का रास्ता का रास्ता वैज्ञानिकों व डॉक्टरों के दिमाग में दे जिससे ‘कोरोना’ 100% खत्म हो जाए।’’ नॉरा। हम गुरू रूप में वचन करते हैं कि जो साध-संगत अपने MSG पर पूरा भरोसा, एकता व वचन मानेगी MSG हर पल हर जगह साथ देंगे, संभाल करेंगे।
आशीर्वाद। 26.4.2021
(17.1 सबके 7)
दासन दास
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां

पूज्य गुरु जी का छठा प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माताजी, प्यारे बच्चो व ट्रस्ट प्रबंधक सेवादारो, आप सबकों साई शाह मस्ताना जी महाराज के जन्म दिन के भण्डारे की लाखों बधाईयां व बहुत बहुत आशिर्वाद धन धन सतगुरु तेरा ही आसरा
माता जी, आपकी सेहत कैसी है? आप समय पर दवाई जरूर लिया करें। परम पिता प्रमात्मा ने चाहा तो हम जल्दी आकर आपका इलाज स्वयं जरूर करवाएंगे।
हमारे करोड़ों बच्चो साईं दाता सतगुरू शाह मस्ताना जी महाराज ने हम सबको जो राम नाम का बड़ा ही आसान सा रास्ता बताया है कि आप चलते, बैठके व लेटकर भी अगर राम नाम जपेंगे तो प्रभु उसे जरूर मन्जूर करेंगे व आपको खुशियों से मालामाल कर देंगे। आप चिन्ता किसी भी प्रकार की न किया करें। राम नाम का जाप, सेवा व राम नाम की ‘नामचर्चा’ जरूर किया करो। हम यहां पर प्रभु व सतगुरूजी की कृपा से बिल्कुल ठीक हैं व परम पिता जी से यह ‘दुआ’ करते है कि ऐसा समय जल्द से जल्द आए जिसमें पूरा संसार सुखमय जीवन जीए व हर जगह सुख शान्ति का सम्राज्य हो।
आप हमेशा हमारे बताए हुए रास्ते पर चलें। सर्वधर्म का सत्कार करें। ऊंच नीच का भेदभाव न करें। प्रभु की बनाई सृष्टि की सेवा करते रहें। किसी की भी निन्दा ना करें। प्रभु की सृष्टि से वेगर्ज प्रेम करे। कैसा भी समय हो घबराएँ ना बल्कि प्रभु का सुमरिन करें तो समय अच्छा जरूर आता है।
साईं जी से यही प्रार्थना हम करते है कि वो आप सबकी जायज मांग जरूर व जल्दी पूरी करें। आपको गम दुख चिन्ता व बीमारियों से बचाएं व MSG के रूप में आपको दर्श दीदार से जल्दी नवाजे।
हमारा ध्यान, गुरू रूप में अपने हर एक बच्चे में हमेशा रहता है। हमारे करोड़ों बच्चों से हम बेहद रूहानी प्यार व संभाल करते हैं व हर एक बच्चे के लिए परम पिता प्रमात्मा से दोनों जहां की खुशिया मांगते रहते हैं। भण्डारे की बहुत-2 खुशियाँ व सबको आशिर्वाद
-दासन दास गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
MSG 18.11.2021

पूज्य गुरु जी का 7वां प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चों व ट्रस्ट प्रबंधक सेवादारों,
धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा
माता जी व हमारे करोड़ों प्यारे बच्चों, आप सब को ‘अवतार महीने’ व नए साल की बहुत-2 बधाईयाँ व आर्शीवाद। हम परम पिता परमात्मा से प्रार्थना करते हैं कि वो आपकी जायज माँग पूरी करे व आपके घरों में बरकत डाले और रूह तन में खुशियाँ भर दें।
‘‘जनवरी में आए शाह सतनाम जी, खुशियों का भरके झोला।
सबकी भरेंगे झोलियाँ पूरी, आके रू-ब-रू MSG मौला।।’’
हम परम पिता जी से आपके गुरू व पिता जी होने के नाते, आप सबके लिए यह प्रार्थना करते हैं कि इस घोर कलियुग में वो आप सबको दृढ़ यकीन, वचनों के पक्के बनाए रखें व हर परेशानी, गम, बीमारी व टैन्शन’ से बचाएं। सेवा, सुमिरन व परमार्थ के लायक आप सबको दाता जी जरूर बनाएं।
हमारे प्यारे बच्चों, हमने कोरोना की वैक्सीन ‘कोवीशील्ड’ लगवा ली है और हम चाहते हैं कि हमारे ‘करोड़ों’ बच्चे, जिन्होेंने अभी तक ‘वैक्सीन’ नहीं लगाई वो लगवा लें। इस कार्य को मानवता भलाई के 136वें कार्य के रूप में निम्न प्रण करें:-
‘‘सारे कोरोना वैक्सीन लगवाऐंगे व दूसरों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करेंगे व लगवाएंगे’’ अपने हाथ खड़े करें, नारा लगाएं, सतगुरु आपको बहुत-2 खुशियां दें। आर्शीवाद।
हम आपके गुरू परम पिता जी ने बनाएं हैं, गुरू थे, गुरू हैं और गुरू रहेंगे। गुरू रूप में आपको वचन कर रहे हैं मानना जरूर (1) हमेशा एक बनके रहें (2) ऊँच नीच जात धर्म का भेद न करें (3) निंदा ना करें ना निंदा में किसी का साथ दे (4) ‘तीन वचनों’ पर पक्के रहें (5) ईर्ष्या, नफरत व चुगली निंदा रोकें व खुद इनसे बचें (6) सेवा, सुमिरन व परहित परमार्थ करें (7) ‘अखण्ड’ सुमिरन व ‘नामचर्चा’ करते रहें तो मालिक जल्द से जल्द आपकी ‘जायज माँग’ पूरी जरूर करेंगे।
137वां कार्य:- ‘‘मास्क लगाएंगे, लगवाएंगे व जरूरतमंदों को फ्री में मास्क देंगे व 7 फुट की दूरी बनाके रखेंगे।’’ नारा, आर्शीवाद
‘‘हमारे बहुत ही प्यारे आँखों के तारे, भलाई करते हैं वो सारे।
सतनाम जी मसतान जी ऐसी कृपा करें, हो जाएं सबके वारे न्यारे।।’’
हमें हर पल हमारे प्यारे करोड़ों बच्चों का ख्याल है व उनमें ख्याल है। आशीर्वाद।
दासन दास
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
08-01-2022
M
S
G

पूज्य गुरु जी का 8वां प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चों व ट्रस्ट प्रबंधक सेवादारो
धन धन सतगुरु तेरा ही आसरा।
माता जी व हमारे करोड़ो प्यारे बच्चो, आप सबको परम पिता शाह सतनाम जी महाराज के अवतार दिवस की करोड़ो बार बधाईयां हों। आप सबको परम पिता जी 25 जनवरी की वो ‘सौगात’ जरूर दें, जिसकी आप सब बहुत देर से इंजतार कर रहे हैं।
‘‘दाता जी का आया है, जन्म दिन जी।
देंगे वेशुमार खुशीयां, ना दे गिन मिन जी।।’’
परम पिता जी से आप सबके लिए, हम सुबह शाम प्रार्थना करते रहते हैं कि ‘वो’ आप सबको हर तरह के गम, दुख व परेशानीयों से बचाएं व सच के रास्ते पर चलने की हर पल शक्ति प्रदान करें। कलयुग के इस भयानक समय में आप सब ‘राम- नाम’ पर अडोल रहते हुए सृष्टि की तन, मन व धन से सेवा करते रहें। आप सब इस भयानक समय में ‘एकता’ बनाकर रखें। किसी के बहकावे में न आए। अपने परम पिता, प्रमात्मा पे 100% दृढ़ यकीन रखें। इस समय में जो भी ‘दृढ़ यकीन’ रखेंगे, हम गुरू रूप में उन सबके लिए परम पिता प्रमात्मा से प्रार्थना करते हैं कि ऐसे ‘भक्तों’ को अंदर-बाहर से, हर तरह से, वो मालामाल कर दें।
23.9.90 को परम पिता जी ने गुरुगद्Þदी पर जब ‘दास’ को बैठाया था उससे पहले व बाद में भी वचन फरमाए थे कि ‘‘हम थे, हम हैं और हम ही रहेंगे।’’ तो इस खाक दास ‘मीत’ में शाह सतनाम मसतान जी ही कार्य कर रहे हैं, करते थे व करते ही रहेंगे। प्यारे बच्चों आप ने ‘मन’ व मनमते लोगो के झाँसे में नहीं आना। अपनी आत्मा व प्रमात्मा, सतगुरु की ही बात सुनके राम नाम जपना, सेवा व निस्वार्थ प्रेम करते रहना है।
‘‘25 जनवरी के दिन आए दाता जी ले के रूहानी वहार।
दृढ़ यकीन रखो वचनोे पे अमल देगें दाता खुशी वेशुमार।।’’
आज के पावन दिवस पर एक और भलाई कार्य का प्रण लें:-
‘‘ गरीब व अनाथ छोटे बच्चे, जो बिमार हों उनका ईलाज करवाएगे व खाने का सामान देंगे।’’ अपने हाथ खड़े करें। नारा लगाएं। मालिक आपको बहुत खुशियां दें। परम पिता प्रमात्मा ने चाहा तो हम जल्दी ही
आपके दर्शन करेंगे। आशिर्वाद।
दासन दास
संत डॉ. गुरमीत राम
रहीम सिंह इन्सां
24.01.2022

पूज्य गुरु जी का 9वां प्रेम भरा रूहानी पत्र

आदरणीय,
माता जी, प्यारे बच्चो व ट्रस्ट प्रबंधक सेवादारो ‘धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा’
माता जी व हमारे करोड़ों प्यारे बच्चों। हमने 21 दिन की ‘फरलो’ ‘गुरुग्राम’ आश्रम में जरूर व्यतीत की पर हमारा ध्यान हमारे करोड़ों प्यारे बच्चों में हरदम रहा। आप सबके दर्शन करने की भी हमारी बड़ी इच्छा थी पर ‘रज़ा में राजी सो मर्द गाजी।’ हम परम पिता परमात्मा सतगुरु शाह सतनाम जी को अरबों सिजदे करते हैं जिन्होंने हमें 6 करोड़ ऐसे प्यारे-प्यारे शिष्य दिए जिन्होंने भी गुरु की ‘रज़ा’ को 100% माना व अपने-अपने घरों में रह कर ‘तड़प’ से सुमिरन किया। सतगुरु, दाता आप सबकी तड़प जरूर व जल्दी पूरी करें। हमारे ‘गुरुग्राम’ से आने के बाद आपने ‘गुरूग्राम’ में ‘सफाई महा अभियान’ चला कर श्रद्धा की बेमिसाल ‘मिसाल’ कायम करी, आपका सतगुरु से प्यार व यकीन चौगुना बढ़े व आप सबकी झोलियां, सतगुरु जी, खुशी व बरकतों से लबालब भर दें। रूस व यूक्रेन में जो ‘युद्ध’ चल रहा है, प्रभु जी उसे खत्म करवाके, वहां शांति कायम करवाएं, यहीं प्रभु सतगुरु जी से हमारी प्रार्थना है।

हमारे करोड़ों प्यारे बच्चो, आप सब भी ‘युद्ध’ रुकवाने व शान्ति के लिए सतगुरु से प्रार्थना करना। हमारे सारे सेवादार व एडम ब्लॉक सेवादार, जसमीत, चरणप्रीत, हनीप्रीत, अमरप्रीत सब एक हैं व हमारी बातों पर (वचनों पर) चलते हैं। जसमीत, चरणप्रीत, हनीप्रीत व अमरप्रीत चारों हमें रोहतक इकट्ठे छोड़ने आए व वापिस भी चारों इकट्ठे गए। हमारे से जसमीत, चरणप्रीत व अमरप्रीत ने आज्ञा ली कि ‘उच्च शिक्षा’ प्राप्ति के लिए वो अपने बच्चों के साथ उन्हें पढ़ाने जाएंगे। प्यारी साध-संगत जी किसी के भी बहकावे में मत आना। एक बात और हम कहना चाहते हैं कि हमने कभी भी किसी भी धर्म की निंदा, बेअदबी या बुराई करनी तो दूर ऐसी कभी कल्पना भी नहीं की बल्कि हम तो खुद सर्वधर्म का ‘सत्कार’ करते हैं व सबको ‘सत्कार’ करने की शिक्षा देते हैं। अप्रैल में ‘स्थापना दिवस’ का भंडारा मनाया जाता है। हमें वकीलों ने बताया कि साध-संगत अप्रैल महीने में रोहतक में भी ‘सफाई महा अभियान’ करना चाहती है। तो ठीक है तो चेयरपर्सन डॉ. नैन व जिम्मेदार परमिशन लेकर यह सेवा कर लें। हमारे दिल के टुकड़ों व अँखियों के तारे सारे प्यारे बच्चों, आप हमेशा बढ़ चढ़के आश्रम में आते रहें। हम आपके गुरू थे, हैं व हमेशा गुरु रूप में वचन देते हैं कि जितनी बार आप आएंगे, हर बार आगे से चौगुणी खुशियाँ व बरकतें हम परम पिता सतगुरु जी से दिलवाएंगे। आशीर्वाद।
-दासन दास
-गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां
26 मार्च 2022
एमएसजी

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।