…जब मन में पैदा हुई कुछ नया करने की ललक तो कर दिखाया अनोखा काम

0
317
Neeraj resident of Kurukshetra

एक मिनट में 199 बार रस्सी कूदा कुरुक्षेत्र का नीरज, बना रिकॉर्ड

(India Book of Records)

इंडिया बुक आॅफ रिकॉर्ड में दर्ज में हुआ नाम

सच कहूँ/देवीलाल बारना
कुरुक्षेत्र। … कहते हैं कि जब मन में कुछ करने की ललक हो तो कोई भी काम असंभव नहीं है, बेशक गरीबी, सुविधा का अभाव या फिर कोई ओर अड़चन ही क्यों न आए। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है कुरुक्षेत्र निवासी नीरज ने। नीरज ने एक मिनट में 199 बार रस्सी कूद कर रिकॉर्ड कायम किया है। इसको लेकर नीरज का नाम इंडिया बुक आॅफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। इसके बाद नीरज रस्सी कूद में ही गिनीज बुक आॅफ रिकार्ड में नाम दर्ज करवाने के लिए तैयारी कर रहा है। इंडिया बुक आॅफ रिकॉर्ड की तरफ से नीरज के पास गोल्ड मेडल, एक सर्टिफिकेट, ब्रॉंच, आईडी कार्ड व एक पैन आया है। नीरज ने इसका पूरा श्रेय डेरा सच्चा सौदा के पूज्य संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को दिया है।

पिता ने नहीं दिलवाया मोबाईल स्टैंड तो खुद दिखाई कारीगरी

नीरज के पिता विजय साहू बताते हैं कि नीरज ने उससे कहा कि वह कुछ वीडियो बनाना चाहता है, उसे मोबाईल स्टैंड दिलवा दीजिए, लेकिन उसे मना कर दिया कि पहले पढ़ाई करो, बाद में देखेंगे। इसके बाद नीरज ने स्वयं ही एक मोबाईल स्टैंड बना लिया और उस पर मोबाईल लगाकर अपनी वीडियो बनाने लगा। नीरज के द्वारा बनाया गया मोबाईल स्टैंड कारगर सिद्ध हुआ और जो वीडियो रिकॉर्ड के लिए नीरज ने बनाई वह भी इसी स्टैंड पर मोबाईल लगाकर बनाई है। इस स्टैंड को बनाने में नीरज ने बेकार पड़ी सेल्फी स्टिक, बेकार पडेÞ टूटे हुए पाईप व रस्सी का प्रयोग किया है।

पहली बार में ही बना दिया रिकॉर्ड

नीरज ने बताया कि वह स्कूल समय में खो-खो का खिलाड़ी रहा है। वह रोजाना रस्सी कूद करता है। एक दिन उसके मन में विचार आया कि क्यों न इसकी वीडियो बनाई जाए। इसके लिए उसने अपनी माता गुड्डी इन्सां की सहायता ली। पहले अपनी माता को मोबाईल से वीडियो बनाना सिखाया और फिर नीरज ने रस्सी कूद की व गुड्डी इन्सां ने उसकी वीडियो बनाई। पहली बार में ही उसने एक मिनट में 199 बार रस्सी कूद कर दी, जोकि रिकॉर्ड बन गई।

पूज्य गुरु जी की प्रेरणा से बढ़ा आगे

नीरज ने कहा कि डेरा सच्चा सौदा द्वारा नेकी भलाई के कार्यों में अनेकों विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किए गए हैं। ऐसे में उसके मन में भी ललक पैदा हुई उसे भी कुछ करना चाहिए। पूज्य गुरु जी खेलों में आगे बढ़ने की प्रेरणा हमेशा देते रहे हैं। इसी को आधार बनाकर वे बचपन से ही रोजाना खेलते हैं। खेलते-खेलते उसके मन में कुछ नया करने का विचार आया और एक मिनट में 199 बार रस्सी कूद का रिकार्ड अपने नाम किया है।

पढ़ाई के साथ-साथ करता है नौकरी

नीरज बीए अंतिम वर्ष में पढ़ाई कर रहा है। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण नीरज पढ़ाई के साथ-साथ एक सीएससी सैंटर पर बहुत कम सेलरी पर कार्य करता है। बता दें कि नीरज के पिता विजय साहू वॉल पेंट का कार्य करते हैं व माता गुड्डी हाऊस वाईफ हैं। ऐसे में बहुत कम संशाधनों के बीच नीरज आगे बढ़ने का प्रयास कर रहा है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlinked in , YouTube  पर फॉलो करें।