परीक्षा संबंधी मांगों को लेकर विश्वविद्यालय पहुंचे विद्यार्थी

0
297
Students reached the university sachkahoon

बाल भवन से चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय तक कुलपति की निकाली शव यात्रा

सच कहूँ/सुनील वर्मा, सरसा। चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले कॉलेजों में स्नातक व स्नातकोत्तर कक्षाओं के लिए परीक्षा में ऑनलाइन व कोई पांच प्रश्न करने के विकल्प की मांग को लेकर एक बार फिर सोमवार को एबीवीपी छात्र संगठन के बैनर के नीचे विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया। विद्यार्थियों व सुरक्षाकर्मी के बीच धक्का मुक्की हुई और विद्यार्थी वीसी कार्यालय के समक्ष जाकर बैठ गए। एग्जाम कंट्रोलर द्वारा मांगों को सहमति बनाने पर विद्यार्थी वापिस लौटे। स्नातक कक्षाओं के 13 जुलाई से परीक्षाएं शुरू हो रही है। लेकिन विश्वविद्यालय के ऑनलाइन व कोई पांच प्रश्न करने को लेकर कोई नोटिस जारी नहीं किया गया। जिसके विरोध में सोमवार को एबीवीपी छात्र संगठन के बैनर के नीचे विद्यार्थियों ने बाल भवन से चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय तक कुलपति की शव यात्रा निकाली।

विद्यार्थियों की मांग सुनने पहुंचे रजिस्ट्रार व एग्जाम कंट्रोलर

विद्यार्थियों की मांग सुनने रजिस्ट्रार राकेश वधवा व एग्जाम कंट्रोलर राजकुमार सलार पहुंचे। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की ऑनलाइन परीक्षा व कोई पांच प्रश्न वाली मांगों को पहले ही मान लिया गया है। विद्यार्थियों ने कहा तो नोटिफिकेशन जारी क्यों नहीं किया गया और ना ही विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर कोई नोटिफिकेशन दिखाई जा रही है। विद्यार्थियों कॉलेज प्राचार्य से ऑनलाइन परीक्षा को लेकर आवेदन करने की बात करते है तो वह विद्यार्थियों को दबाने की कोशिश करते है। वह कहते है कि विश्वविद्यालय द्वारा कोई नोटिफिकेशन ही नहीं जारी हुआ है। अगर दोबारा ऑनलाइन परीक्षा की बात की तो अभिभावकों को फोन कर तुम्हारी हरकतों के बारे में बताएंगे। एग्जाम कंट्रोलर ने कहा कि जब मैंने आपको बोल दिया है तो समझे की नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। विद्यार्थी बोले की इसे लिखित में दे या नोटिफिकेशन जारी करें। अगर नहीं करना तो हमे विडियो बना लेने दें।

रि-अपीयर परीक्षाओं पर नहीं बनी सहमति

रि-अपीयर परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को ऑनलाइन का विकल्प नहीं दिया जाएंगा। एग्जाम कंट्रोलर राजकुमार सलार ने कहा कि वह विद्यार्थी पहले ही ऑफलाइन कक्षाओं में अपनी पढ़ाई को पूरा कर चुके है। इसलिए उन्हे यह विकल्प नहीं दिया जाएगा। हालांकि उनके लिए प्रश्न पत्र में से कोई पांच प्रश्न करने का विकल्प रहेगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।