बिजली कमी को पूरा करने के लिए 12 रुपये प्रति यूनिट खरीदी जा रही बिजली: रणजीत

power shortage sachkahoon

कृषि क्षेत्र को फिलहाल रात में दी जा रही है 7 घंटे बिजली

चंडीगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। हरियाणा के बिजली मंत्री चौधरी रणजीत सिंह ने कहा कि किसी भी सूरत में प्रदेश में बिजली की कमी (Power Shortage) नहीं होने दी जाएगी। यहां तक कि प्रदेश में बिजली की कमी को पूरा करने के लिए 12 रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली खरीदी जा रही है।

कृषि क्षेत्र को फिलहाल रात में 7 घण्टे बिजली आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा, शहरी घरेलू उपभोक्ताओं के साथ-साथ प्रदेश के लगभग 5600 से अधिक गांवों में 24 घण्टे बिजली दी जा रही है। बिजली मंत्री ने कहा कि स्वाभाविक है कि गर्मी के दौरान तकनीकी कारणों से जब कोई खराबी आ जाती है तो उसे ठीक करने में कुछ समय तो लगता ही है।

प्रदेश में पिछले वर्ष गर्मी के मौसम में अधिकतम मांग 12125 मेगावाट प्रतिदिन थी, जो इस वर्ष पीक समय में लगभग 15000 मैगावाट की रहने का अनुमान है। इस 2500 से 3000 मैगावाट के अंतराल को पाटने के लिए बिजली (Power Shortage) निगमों ने पुख्ता प्रबन्ध कर दिए हैं।

छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश से समझौता

बिजली मंत्री ने कहा कि वर्तमान में पानीपत में 250-250 मेगावाट की तीन इकाइयां, खेदड़ में 600-600 मेगावाट की दो इकाइयां तथा यमुनानगर में 300-300 मेगावाट की दो इकाइयां संचालित हैं। इसके अलावा, अदानी पावर से 1400 मेगावाट बिजली ली जा रही है। उन्होंने कहा कि अदानी से 1000 मैगावाट, छत्तीसगढ़ से 350 मैगावाट व मध्य प्रदेश से 150 मैगावाट अतिरिक्त बिजली लेने के लिए समझौते किए गये हैं और इस माह में यह बिजली मिलनी आरम्भ हो जाएगी।

बिजली की मांग 1000 से 1500 मेगावाट प्रतिदिन तक बढ़ी

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बढ़ते शहरीकरण व दिल्ली से उद्योगों के बाहर शिफ्ट होने के कारण बिजली की मांग 1000 से 1500 मेगावाट प्रतिदिन तक बढ़ी है। दिल्ली से लक्कड़ मंडी, सब्जी मंडी, वेयरहाउसिस व अन्य औद्योगिक इकाइयां हरियाणा के एनसीआर क्षेत्र में शिफ्ट हुई हैं, इसलिए भी बिजली (Power Shortage) की मांग बढ़ी है। एनसीआर में बढ़ते शहरीकरण के कारण बहुमंजिले फ्लेट्स बने हैं, जिनमें भी बिजली की अधिक खपत हो रही है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here