बुढाखेड़़ा, बेरी खेड़़ा, रजाना कलां व रिटौली गाँवों के ग्रामीणों को हुआ नुक्सान

0
245
Assandh drain overflow sachkahoon

असंध ड्रेन ओवरफ्लो, सैकड़ों एकड़ धान की फसलें डूबी

  • ड्रेनों की सफाई न होने से नाराज किसानों ने जताया रोष

पिल्लूखेड़ा (सच कहूँ/चांद)। जीन्द जिले के पिल्लूखेड़ा क्षेत्र में बुधवार को असंध ड्रेन के ओवरफ्लो होने से बुढ़ा खेड़ा, बेरी खेड़ा, रजाना कला, मुवाना, रिटौली व जामनी गांव की सैकड़ों एकड़ धान की फसल बरसाती पानी में डूब गई। वहीं, ड्रेन ओवरफ्लो व ड्रेनों की सफाई न होने से नाराज किसानों ने बेरी खेड़ा व रिटौली पंम्प हाऊस पर पहुंचकर प्रशासन व संबधित विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए रोष जताया। बुढ़ा खेड़ा के किसान राजबीर शर्मा, कर्मबीर कश्यप, संजय, महेंद्र, अनिल, सोनू, बनिल बेरी खेड़ा, रिंकू, नवीन, मुआना गौरव, सुरेश, रामकेश, हंस राज, रजाना कलां से परमीत, सुमित, सुभाष, गजे सिंह, अजय व बलिंद्र रिटोली आदि ने बताया कि असंध ड्रेन ओवरफ्लो होने से उनकी सैकड़ों एकड़ धान की फसल पानी में डूब चुकी है।

किसानों ने ड्रेन ओवरफ्लो होने का कारण समय पर ड्रेनों की सफाई न होने, बेरी खेड़ा व रिटौली पंप हाऊस के न चलना बताया। किसानों ने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन किसानों की अनदेखी कर रहा है। यदि प्रशासन पंप हाउसों पर अतिरिक्त पंप लगाकर 24 घंटे इन पंपों को चलाकर ड्रेनों के बरसाती पानी को बाहर निकाले और मनरेगा स्कीम के तहत इन ड्रेनों की सफाई करवाए तो उनकी समस्या का कुछ हद तक समाधान हो सकता है। वहीं रजाना कलां के किसानों में परमीत व सुमित का कहना था कि रिटोली पंप हाऊस इस समय कोई काम नहीं कर रहा। इस मामले में नहरी विभाग के जे.ई रवि ने बताया कि बेरी खेड़ा व रिटौली पंप हाऊसों पर बिजली की मोटरों में कुछ खराबी आई हुई हैं, जल्दी ही मोटरों को ठीक करवाकर ड्रेनों में जमा बरसाती पानी को निकलवाकर नहरों में डलवाया जाएगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।