Weather Alert: भारत में आने वाला है तूफान काल! फिर चलेंगी तेज हवाएं, जानिये कहां-कहां होगी बारिश

Weather
सांकेतिक फोटो

नई दिल्ली/हैदराबाद (एजेंसी)। हरियाणा, पंजाब समेत देश (Weather in Alert) के विभिन्न राज्यों में मौसम विभाग ने तेज आंधी और बारिश की संभावना जताई है। वहींदक्षिण भारत में चक्रवाती तूफान का खतरा बढ़ता जा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार 8 मई से लेकर 11 मई तक तेज आंधी और बारिश की संभावना जताई है। तेलंगाना के विभिन्न शहरों तथा इलाको में अगले 24 घंटों के दौरान अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने और गरज के साथ छींटे पड़ने के आसार हैं। प्रभावित जिलों एवं इलाकों में खम्मम, नलगोंडा, सूयार्पेट, वारंगल, हनमकोंडा, जनगांव, सिद्दीपेट, यदाद्री भुवनगिरी, रंगारेड्डी, हैदराबाद, मेडचल मलकाजीगिरी व महबूबनगर, जिलों में अगले 24 घंटे के दौरान अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने और गरज के साथ छींटे पड़ने के आसार हैं। मौसम विज्ञान केंद्र ने रविवार को यह जानकारी दी। एक दैनिक मौसम रिपोर्ट के अनुसार अगले 48 घंटों के दौरान राज्य में अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज के साथ छींटे पड़ने के अनुमान हैं।

10-11 मई को तापमान में वृद्धि होने के आसार | Weather in Alert

तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों में नौ, 10 और 11 मई को अधिकतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होने के आसार हैं, जबकि ऐसा भी अनुमान लगाया जा रहा है कि इस अवधि के दौरान शुष्क मौसम भी रह सकता है। पिछले 24 घंटों के दौरान तेलंगाना के नागरकुर्नूल जिले में अलग-अलग स्थानों पर बहुत तेज बारिश हुई और तेलंगाना के नालगोंडा जिले में अलग-अलग स्थानों पर भी तेज बारिश हुई। रिपोर्ट में कहा गया है कि शनिवार को नालगोंडा में सबसे अधिक अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

अलर्ट

  • आईएमडी अलर्ट के अनुसार, दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवात विकसित हो सकता है।
  • 7 मई को यहां कम दबाव का क्षेत्र बनेगा।
  • 8 मई को इसके उत्तर की ओर मध्य बंगाल की खाड़ी की ओर बढ़ने और चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की संभावना है।
  • चक्रवाती तूफान के मार्ग और उसकी तीव्रता के बारे में अब तक कई खास जानकारी नहीं मिली है।

मालदीव में समुद्र से बचाए गए 10 मछुआरे लौटे सुरक्षित | Weather in Alert

मालदीव में समुद्र से बचाए गए 10 भारतीय मछुआरों को सुरक्षित आन्ध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम लाया गया है। नौसेना द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गयी।भारतीय तट रक्षक (आईसीजी) ने इन मछुआरों का बचाया था। विज्ञप्ति में बताया गया कि 10 मछुआरों में से आठ केरल के विझिंजम और दो तमिलनाडु के कन्याकुमारी के हैं। ये मछुआरे 16 अप्रैल को तमिलनाडु में कन्याकुमारी के पास थेंगापट्टनम से समुद्र में गए थे। जिसके बाद, उनकी नाव का इंजन फेल हो गया और वे यहां पांच दिनों तक बिना किसी मदद के भटकते रहे।

बाद में यहां से गुजर रहे एमवी फ्यूरियस पोत द्वारा (Weather in Alert) 26 अप्रैल को मछुआरों को समुद्र से बाहर लाया गया था। जारी विज्ञप्ति के अनुसार, तटरक्षक समुद्री बचाव समन्वय केंद्र (एमआरसीसी) पर प्राप्त जानकारी के आधार पर अपतटीय गश्ती जहाज आईसीजी विग्रह को मछुआरों को सुरक्षित वापस लेने के लिए भेजा गया था, जो अंडमान और निकोबार द्ववीप में कैंपबेल बे से पारागमन करने वाला व्यापारी जहाज है। गौरतलब है कि इन मछुआरों की प्रारंभिक चिकित्सा जांच तटरक्षक जहाज पर की गई और जिसमें वे सभी स्वस्थ पाए गए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।