जब माइकल जॉनसन ने बुरी यादों को पीछे छोड़ा

0
276

माइकल जॉनसन का लक्ष्य अटलांटा 1996 ओलंपिक में इतिहास बनाना था। ओलंपिक के 100 सालों के इतिहास में, किसी भी पुरुष एथलीट ने कभी भी एक ही ओलंपिक में 200 मीटर और 400 मीटर दोनों स्पर्धाओं में स्वर्ण नहीं जीता था। और जॉनसन को उस उपलब्धि को प्राप्त करने के लिए, बार्सिलोना की बुरी यादों को पछाड़ना था। 1992 में, जॉनसन स्वर्ण पदक जीतने के दावेदारों में से एक थे। हालाँकि, फूड पोइसोनिंग के कारण, वह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए और सेमीफाइनल हीट में छठे स्थान पर रहे। वह 0.16 सेकंड से फाइनल में पहुंचने में रह गए।

चार साल बाद, 1 अगस्त 1996 को, 29 वर्षीय जॉनसन ने तीन दिन पहले ही 43.49 सेकंड के ओलंपिक रिकॉर्ड समय में 400 मीटर स्वर्ण पदक जीता था। अब, वह 20 मीटर की दौड़ में स्वर्ण जीतने की तैयारी कर रहे थे। फाइनल में, यह जीत के लिए उनका दृढ़ संकल्प नहीं था जिसने सभी का ध्यान आकर्षित किया, बल्कि यह उनके जूते थे।

अपने करियर की सबसे महत्वपूर्ण दौड़ के दौरान, जॉनसन ने गोल्डन रंग के रनिंग जूते पहनने का फैसला किया। कस्टम-मेड डिजाइन ने उन्हें ‘द मैन विद द गोल्डन शूज’ का उपनाम दिया। हालांकि गोल्डन रंग के जूते पहनने का मतलब कुछ न होता अगर वह स्वर्ण पदक जीतने में असफल रहते। ऐतिहासिक रूप से, ‘विश्व का सबसे तेज आदमी’ का खिताब 100 मीटर चैंपियन को दिया जाता है।

लेकिन अटलांटा में उनके अविश्वसनीय प्रदर्शन के बाद, यह खिताब माइकल जॉनसन के लिए आरक्षित था। 200 मीटर के फाइनल के दौरान, उन्हें हैमस्ट्रिंग की चोट का सामना करना पड़ा जिसने उन्हें 4X100 मीटर रिले फाइनल में प्रतिस्पर्धा से बाहर कर दिया। चार साल बाद सिडनी 2000 खेलों में, जॉनसन 200 मीटर/400 मीटर डबल के साथ इतिहास दोहराना चाह रहे थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।