एसजीएसटी असिस्टेंट कमिशनर की पत्नी ने खाया जहर, मौत

0
68

महिला के घर वालों ने लगाया दहेज प्रताड़ना का आरोप

  • पति सहित परिवार के सदस्यों को लिया हिरासत में

नोएडा (सच कहूँ ब्यूरो)। उत्तर प्रदेश के नोएडा में गृह क्लेश से परेशान महिला की जहर खाने से अस्पताल में उपचार के दौरान वीरवार को मौत हो गई। नोएडा जोन 1 के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त रणविजय सिंह ने बताया कि बुधवार को सेक्टर-99 के सुप्रीम टावर में रह रहे एसजीएसटी विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर अमन सिंगला की पत्नी हीना सिंगला (26) ने जहरीला पदार्थ खा लिया था। उसे गंभीर हालत में निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां वीरवार को उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने बताया कि अमन सिंगला और हीना की शादी छह माह पूर्व हुई थी। हीना सीए की पढ़ाई कर रही थी। महिला के मायके वालों ने पति पर दहेज उत्पीड़न और ग्रह क्लेश का आरोप लगाया है। सिंह ने बताया है कि अमन सिंगला दिल्ली में रेवन्यू सर्विस में असिस्टेंट कमिश्नर पद पर हैं। वह अपने परिवार के साथ नोएडा से सैक्टर 99 स्थित सुप्रीम टावर रहते हैं। पुलिस ने पति और परिवार के अन्य लोगों को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी है।

जिन्दगी से करें प्यार…

  • अगर किसी को खुदकुशी के विचार आ रहे हैं तो किसी करीबी से बात साझा करनी चाहिए। हेल्पलाइन या पेशेवर परामर्शदाता या मनोचिकित्सक से बात करनी चाहिए। परिवार और दोस्त आसपास रहें। यह एहसास कराना चाहिए कि वह उस व्यक्ति से बहुत प्यार करते हैं और समझते हैं।
ऐसे विचारों से कैसे बचें :-
  • यदि मन में सुसाइड का ख्याल आ रहा है तो किसी अपने और भरोसेमंद व्यक्ति के साथ बैठकर अपने मन की सभी बातें बोल दें। जी भर कर रोएं, ऐसा करने से आत्महत्या की चाह कम हो जाती है।
  • यदि परिवार के साथ बैठकर कोई बात साझा नहीं कर पा रहे हैं तो किसी मनोवैज्ञानिक या कंसल्टेंट की मदद लें। उन्हें अपने मन की बात जरूर बताएं। ऐसा करने से दिल का बोझ हल्का होता है और कोई आपको आंकेगा इसका शक भी दूर होता है।
  • खुद को अहमियत दें। इसके लिए आप दीवार पर एक कागज में अपनी अच्छाईयां लिखकर लगा दें।
  • यदि आप बहुत लंबे वक्त से दोस्तों से नहीं मिले हैं तो फौरन उनसे मुलाकात करें। जो अच्छा लगता है वो करें, इससे दिमाग शांत होगा।
  • सुबह-सुबह किसी एकांत जगह पर ताजी हवा में मॉर्निंग वॉक करने जाएं। कानों में हेडफोन लगाकर गाना सुनने की बजाय चिड़ियों, हवा में लहरा रहे पत्तों और पानी की आवाज को सुनें। इससे मन को शांति मिलती है और नकारात्मक विचार दूर होते हैं।
  • जो भी आपका पसंदीदा खेल है उसे अपनी दिनचर्या में शामिल करें।
  • किसी जरूरतमंद या गरीब की मदद करें, इससे आपका मन हल्का महसूस करेगा और उनके चेहरे की मुस्कान आपके मस्तिष्क को शांति देगी।
  • हमेशा याद रखें खुद से बढ़कर कोई नहीं। जन्म लेने, खाना खाने, सांस लेने, पानी पीने और खुश रहने का मकसद जीवन को जीना है। जिंदगी में कितने भी उतार-चढ़ाव क्यों ना आएं आत्महत्या करने का ख्याल कभी मन में मत आने दीजिए।

किसी दूसरे को कैसे दूर रखें आत्महत्या के विचार से?

  • यदि कोई आपके समक्ष खुदकुशी की बात कर रहा है या इशारों में ही बताने की कोशिश कर रहा है तो उनकी बात को तवज्जो दें, उनकी बातों को मजाक समझकर उनकी हंसी ना उड़ाएं।
  • यदि कोई आपसे अपनी समस्या साझा कर रहा है तो उसे ध्यानपूर्वक सुनें और उन्हें एहसास करवाएं कि आप उन्हें हर समस्या से बाहर निकाल सकते हैं।
  • आत्महत्या के बारे में सोच रहा व्यक्ति लंबे समय से परेशान रहने लगता है। एक सेकेंड में खुदकुशी का ख्याल हजार में से किसी एक व्यक्ति के दिल में ही आता है। इसलिए अपने करीबियों पर ध्यान दें कहीं वो किसी बात को लेकर इतना परेशान तो नहीं कि अपनी जिंदगी खत्म करने का सोच रहे हों।
  • ऐसे लोगों के सामने उनकी सफलताओं की बातें फिर से दोहराएं, लोगों को उनका उदाहरण देकर समझाएं कि वो कितने मजबूत हैं। ऐसा करने से आत्महत्या का विचार खत्म हो जाता है और व्यक्ति समझ जाता है कि वो अन्य लोगों के लिए प्रेरणा बन सकता है, इसलिए वो जिंदगी को सकारात्मक ढंग से जीने लगता है।
  • यदि इनमें से कोई भी कोशिश कारगर साबित ना हो रही हो तो बिना देरी करे किसी काउंसलर या मनोवैज्ञानिक से संपर्क करवाएं। कई बार आत्महत्या की कोशिश एक मानसिक बीमारी बन जाती है जिसमें मनोचिकित्सक ही मदद कर सकता है।

हर साल आठ लाख लोग करते हैं आत्महत्या

विश्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि 8 लाख लोग हर साल आत्महत्या से मर जाते हैं, यानि हर 40 सेकेंड में एक व्यक्ति आत्महत्या से मरता है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।