हरियाणा में बिजली चोरों पर सबसे बड़ी कार्रवाई- दो दिन में 6 हजार 15 बिजली चोर पकड़े, 25 करोड़ का जुमार्ना

0
341
Biggest action on electricity thieves SACHKAHOON

बिजली चोरी में भिवानी अव्वल, पंचकूला में सबसे कम बिजली चोर

  • 482 टीमों ने 30 हजार परिसरों में की छापेमारी

चंडीगढ़ (अनिल कक्कड़)। प्रदेश में 9 और 10 जुलाई को सीएम फ्लाइंग स्क्वॉड, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम और उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के अधिकारियों के नेतृत्व में विजिलेंस और पुलिस कर्मियों की 482 टीमों ने 6 हजार 15 बिजली चोरों को पकड़ा और करीबन 25 करोड़ 62 लाख रुपए का जुमार्ना ठोका है। सबसे ज्यादा बिजली चोर भिवानी में मिले जहां 24 टीमों ने 2314 कनैक्शनों की जांच करते हुए 475 बिजली चोरों को पकड़ा और करीबन 15 लाख से अधिक का जुमार्ना ठोका है।

13 हजार 985 मेगावाट की बिजली चोरी पकड़ी गई

छापेमारी के दौरान मुर्गी फार्म, उद्योग, मोबाइल टावर, वाटर आरओ, पानी और दूध शीतलक संयंत्र, ईंट भट्टे, कोल्ड स्टोर और सडक किनारे स्थित ढाबों सहित 29,948 परिसरों की जांच की गई जिनमें से बिजली चोरी के 6015 मामले सामने आए हैं। छापेमारी के बाद बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर तुरंत प्रभाव से उनके बिजली कनेक्शन भी काटे गए। अब तक 13 हजार 985 मेगावॉट से अधिक बिजली चोरी का खुलासा हो चुका है और डिफॉल्टरों पर लगभग 25 करोड़ रुपये का जुमार्ना लगाया गया है।

चार जोनों में विभाजित थी टीमें

छापेमार टीमों को चार जोनों में विभाजित किया गया था जिसमें जोन एक में पंचकूला, अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल, जोन-2 में पानीपत, सोनीपत, रोहतक, झज्जर आदि ये जोन उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन) और दिल्ली जोन में गुरूग्राम-1,2, फरीदाबाद, पलवल, रेवाड़ी, नारनौल व हिसार जोन में हिसार, फतेहाबाद, सिरसा, भिवानी व जींद आदि ये जोन दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम (डीएचबीवीएन) के अधीन हैं। यूएचबीवीएन जोनों में कुल 250 व डीएचबीवीएन जोनों में कुल 232 टीमों ने छापेमारी की।

सबसे ईमानदार जिला रहा पंचकूला

बिजली चोरी में पंचकूला सबसे ईमानदार जिला रहा जहां 13 टीमों ने 1277 परिसरों की जांच में केवल 51 बिजली चोरी के मामले पकड़े।

जिला               कनैक्शन चैक                     चोरी के केस                   जुर्माना (लाख)

भिवानी              2314                            475                                153.79
हिसार               1820                            449                                  69.72
सोनीपत             2822                            413                                  176.1
फरीदाबाद          1213                            389                                 296.24
पलवल                583                            374                                 120.99
झज्जर               2526                            370                                 153.88
करनाल             2559                            363                                 124.65
कैथल               1873                            333                                 127.49
पानीपत             2239                            324                                 179.75
गुरूग्राम-2         1042                            308                                  271.81
गुरूग्राम-1           865                            307                                  232.43
जींद                  744                            263                                    89.48
यमुनानगर          1763                            231                                    72.85
रेवाड़ी                921                            226                                    81.21
नारनौल              679                            209                                    50.93
रोहतक             1153                           209                                     99.85
कुरूक्षेत्र              744                           202                                     69.58
फतेहाबाद           1582                          179                                     52.15
सिरसा                433                           176                                      51.09
अंबाला               796                           164                                      70.87
पंचकूला              1277                          51                                      17.93
कुल                  29948                       6015                                  2562.79

दूसरे बिजली चोरों को सख्त संदेश: रणजीत सिंह

बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि बिजली चोरी के मामलों का खुलासा होने से प्रदेश के बिजली विभाग के राजस्व में करोड़ों रुपये कीे वृद्धि होगी जिससे बिजली कटौती में कमी आएगी और वाणिज्य और घरेलू क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति बढ़ेगी। इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि जिन स्थायी उपभोक्ताओं के बिजली कनेक्शन काटे गए हैं, वे जब अपना बकाया चुकाकर नए बिजली कनेक्शन लगवाएंगे तब इससे भी बिजली क्षेत्र में अधिक राजस्व आएगा। उन्होंने कहा कि इस छापेमारी के फलस्वरूप अन्य बिजली उपभोक्ताओं में भी बिजली चोरी न करने का संदेश जाएगा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।