सरसा में डिप्टी स्पीकर गंगवा व सांसद दुग्गल पर पत्थराव

0
308
Deputy Speaker Gangwa and MP Duggal sachkahoon

रणबीर गंगवा की गाड़ी का शीशा टूटा, सांसद को एसडीएम की गाड़ी से निकाला बाहर

  • सीडीएलयू में भाजपा जिला कार्यकारिणी की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे थे

  • पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों को हिरासत में लिया, झड़प में तीन पुलिसकर्मी घायल

सरसा (सच कहूँ/सुनील वर्मा)। सीडीएलयू में भारतीय जनता पार्टी की जिला कार्यकारिणी की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवाव सांसद सुनीता दुग्गल को किसानों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। बैठक के समापन के बाद जब भाजपा नेता बाहर निकले तो किसानों ने हंगामा कर दिया और उनपर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। पत्थर लगने से डिप्टी स्पीकर रणबीर सिंह गंगवा की गाड़ी का शीशा टूट गया। वहीं सांसद सुनीता दुग्गल को एसडीएम की गाड़ी में बैठा कर निकाला गया। इससे पूर्व सुबह जैसे ही किसानों को भाजपा नेताओं के आने की सूचना मिली तो वे सीडीएलयू गेट पर पहुंच गए। यहां पुलिस कर्मचारियों के साथ भी किसानों की धक्का-मुक्की हुई और पुलिस ने रोष जता रहेकिसानों को हिरासत में ले लिया और उन्हें अज्ञात स्थान पर ले गए। किसानों से टकराव के दौरान तीन पुलिस मुलाजिमों को भी चोटें आई।

किसान बोले, पहले ही दी गई थी चेतावनी

पकड़े गए किसानों की रिहाई की मांग को लेकर किसानों ने सदर थाना के आगे धरना लगा दिया। हरियाणा किसान मंच के प्रदेशाध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा ने बताया कि किसानों द्वारा सभी भाजपा नेताओं को चेताया गया है कि उनके हर कार्यक्रम का विरोध किया जाएगा। भारूखेड़ा ने कहा कि सरकार की कुनीतियों के कारण पूरा देश त्राहिमाम कर रहा है, लेकिन सत्ता में बैठे नेताओं के चेहरों पर जरा सी भी शिकन तक नहीं है। पेट्रोल व डीजल की कीमतों के कारण देश का पूरा व्यापारिक ढांचा बिगड़ गया है, लेकिन इनके कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है।

हिरासत में लिए 11 किसानों को पुलिस लाई रोड़ी थाना

ओढां (सच कहूँ/राजू)। सरसा में भाजपा नेताओं का विरोध करने वाले किसानों को पुलिस ने हिरासत में लेकर अलग अलग पुलिस थानों में भेज दिया। 11 किसानों को रोड़ी थाना में लाए जाने की सूचना मिलते ही क्षेत्र के काफी किसान थाने के बाहर एकत्रित हो गए। किसान सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए गेट पर धरना लगाकर बैठ गए। उन्होंने कहा की जब तक पुलिस हिरासत में लिए गए किसानों को नहीं छोड़ती तब तक वे यहीं धरना लगाकर बैठे रहेंगे। वहीं देर सांय किसानों को रिहा कर दिया गया।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।