बिजनेस: आर्थिक आंकड़ों, तिमाही परिणामों पर होगी निवेशकों की नजर

0
313
Economy

नई दिल्ली (सच कहूँ डेस्क)। कोविड-19 वायरस के डेल्टा वेरिएंट की चिंता में बीते सप्ताह विदेशी बाजारों में नरमी रही जिसका असर घरेलू शेयर बजारों पर भी दिखा। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 98.48 अंक यानी 0.19 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट के साथ शुक्रवार को 52,386.19 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी सप्ताह के दौरान 32.40 अंक यानी 0.21 फीसदी टूटकर सप्ताहांत पर 15,789.80 अंक पर रहा।

बुधवार को थोक महँगाई के जून के आँकड़े आएंगे

आने वाले सप्ताह में 12 मई को मई के औद्योगिक उत्पादन और जून के खुदरा महँगाई के आँकड़े जारी होने हैं। बुधवार को थोक महँगाई के जून के आँकड़े आयेंगे। इन सबका असर बाजार पर दिखेगा। साथ ही कई बड़ी कंपनियों के पहली तिमाही के वित्तीय परिणामों पर भी निवेशकों की नजर रहेगी। सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में इंफोसिस का तिमाही परिणाम 14 जुलाई को और विप्रो का 15 जुलाई को आयेगा।

गत सप्ताह सोमवार और बुधवार को सेंसेक्स तथा निफ्टी में तेजी रही जबकि अन्य तीन दिन ये लाल निशान में बंद हुये। इस दौरान बुधवार को सेंसेक्स 53,054.76 अंक और निफ्टी 15,879.65 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया था।

शुक्रवार को नये रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुए

बड़ी कंपनियों के विपरीत मझौली तथा छोटी कंपनियों में निवेशकों का विश्वास बना रहा और ये शुक्रवार को नये रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुये। बीएसई का मिडकैप 307.85 अंक यानी 1.37 प्रतिशत की साप्ताहिक बढ़त में 22,813.67 अंक पर और स्मॉलकैप 307.14 अंक यानी 1.20 प्रतिशत चढ़कर सप्ताहांत पर 25,874.40 अंक पर पहुँच गया।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramlink din , YouTube  पर फॉलो करें।