राइस मिल के मालिक के खिलाफ मामला दर्ज, तलाश जारी

0
183
police

5300 के करीब बोरियां व नया गेहूँ की तीस ढेरियां हुई थी बरामद

  • दूसरे राज्यों से सस्ती गेहूँ खरीदकर महंगे भाव में बेचना चाहता था

बरनाला (सच कहूँ/जसवीर गहल)। जिले के कस्बा हंडिआया में विजिलेंस विभाग चंडीगढ़ की टीम ने दस अप्रैल को दबिश देकर सुमन फ्लोर मिल से 5300 के करीब गेहूं की बोरियां व नया गेहूँ की तीस ढेरियों को लक्ष्मी राइस मिल से बरामद की थीं। लक्ष्मी राइस मिल में दस्तावेज चेकिग के दौरान आसपास के किसानों ने विजिलेंस विभाग की टीम को घेर लिया था। विजिलेंस विभाग के अधिकारी कार्रवाई की प्रक्रिया को मार्किट कमेटी बरनाला की टीम को सौंपकर चले गए थे।

थाना सिटी दो बरनाला के प्रभारी इंस्पेक्टर जसकरन सिंह ने बताया कि मार्किट कमेटी बरनाला के सेक्रेट्री सरबजीत सिंह की शिकायत के आधार पर पुलिस ने पिछले बीस वर्ष से बंद पड़ी लक्ष्मी राइस मिल के मालिक सुरेन्द्र कुमार निवासी बरनाला पर 420 के तहत बाहरी राज्यों से सस्ती गेहूं लाकर स्टोर करने व महंगे भाव पर बेचने के आरोप में केस दर्ज करके उसकी तलाश शुरू कर दी है। विजिलेंस विभाग चंडीगढ़ के अधिकारी राजवंत सिंह वालिया ने बताया कि बरामद की गई गेहूं को बाहरी राज्यों से सस्ती खरीद कर महंगे रेट पर बेचकर पंजाब सरकार को चूना लगाया जा रहा था।

यह था मामला:

विजिलेंस विभाग चंडीगढ़ के अधिकारी राजवंत सिंह वालिया ने अपनी टीम के साथ दस अप्रैल को गुप्त सूचना के आधार पर सुमन राइस मिल में दबिश दी थी। चेकिंग के दौरान बठिडा-चंडीगढ़ रोड पर स्थित पिछले बीस वर्ष से बंद पड़े लक्ष्मी राइस मिल में वर्ष 2019-20 की गेहूं की बोरियों के 5300 बैग मिले थे। राइस मिल के मालिक से इस गेहूं के बैगों की खरीद-फरोख्त संबंधी रिकार्ड मांगा गया था। वहीं पर करीब 30 ढेरियां नई गेहूं की पाई गई थीं। जिसके बाद विजिलेंस विभाग द्वारा मार्केट कमेटी बरनाला को इस संबंधी सूचित किया व कमेटी के अधिकारियों को मौके पर बुलाकर अगली कानूनी प्रक्रिया के लिए आदेश दिए थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।