बदहाल महिला को डेरा श्रद्धालुओं ने परिजनों से मिलाया

सच कहूँ/कर्म थिन्द
सुनाम ऊधम सिंह वाला। डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालुओं द्वारा किए जा रहे मानवता भलाई के कार्य समाज के लिए भी प्रेरणास्त्रोत बनते जा रहे हैं। मानवता भलाई के कार्यों की कड़ी को आगे बढ़ाते डेरा श्रद्धालुओं द्वारा सड़कों पर बेसहारा घूम रही एक मानसिक तौर पर परेशान महिला को उसके परिवार से मिलाकर एक प्रशंसनीय कार्य किया है। इस संबंधी जानकारी देते 15 मैंबर जसविन्दर मंगी इन्सां और 15 मैंबर करमजीत इन्सां माडल टाऊन ने कहा कि एक मानसिक तौर पर परेशान महिला गांव मॉडल टाऊन में घूम रही थी। उसे बेसहारा घूमते देख गाँव माडल टाऊन के डेरा श्रद्धालु चमकौर सिंह इन्सां और उसकी पत्नी जसवीर कौर इन्सां उसे अपने घर ले आए। उसके पांच महीनों से घर से लापता होने के कारण उसके कपड़े और उसकी हालत बहुत ही बुरी थी। डेरा श्रद्धालु परिवार द्वारा उक्त महिला को नए कपड़े दिए गए और उसकी संभाल की गई। उस उपरांत डेरा श्रद्धालु चमकौर इन्सां ने बताया कि उक्त महिला ने अपने परिवार का फोन नम्बर दिया तो डेरा श्रद्धालु परिवार ने जिम्मेवारों से संपर्क कर उस मोबाईल नंबर पर संपर्क किया तो पता चला कि वह पंचकूला (हरियाणा) की रहने वाली है।

पाँच महीनों से घर से थी लापता  सड़कों पर घूम रही थी बेसहारा

जिम्मेवारों ने बताया कि उसके परिवार को उक्त महिला के मिलने का पता चला तो तुरंत उसके पारिवारिक सदस्य उसे लेने गाँव माडल टाऊन में पहुंच गए। उसके परिवार में उसका भाई, भाभी, बहन और उक्त महिला की बेटी उसे लेने आए। जिम्मेवारों ने बताया कि उसके परिवार के सदस्यों को देख उक्त महिला का चेहरा खुशी से खिल उठा। परिवार को मिलने की खुशी उसके चेहरे पर साफ झलक रही थी। जिम्मेवारों ने बताया कि पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा चलाए जा रहे 142 मानवता भलाई के कार्यों में यह कार्य एक है और उन्होंने कहा कि पूज्य गुरू जी की पावन शिक्षाओं अनुसार अपने परिवार से बिछुड़े लोगों को परिवार के साथ मिलाकर उनको बहुत ही खुशी मिलती है और वह अब तक सुनाम ब्लॉक द्वारा अपने परिवारों से बिछुड़े 32 लोगों को परिवारों से मिला चुके हैं।

इन सेवादारों का जितनी धन्यवाद किया जाए, उतना कम : शमशेर

उक्त महिला के भाई शमशेर सिंह निवासी गांव ककराला, जिला मोहाली ने बताया कि उसकी बहन मानसिक तौर पर परेशान होने के कारण वह पिछले 5 महीनों से घर से लापता हो गई थी। हमने उसे ढूंढने की बहुत कोशिश की, परंतु वह कहीं नहीं मिली और परिवार भी इसे लेकर बहुत परेशान था। जब आज सुबह इन सेवादारों द्वारा उनको सूचना दी तो वह तुरंत अपनी बहन को लेने के लिए पहुंच गए। उन्होंने कहा कि वह पूज्य गुरू जी और इन सेवादारों का जितना भी धन्यवाद करें उतना ही कम है और वह बार-बार इन सेवादारों का धन्यवाद करते हैं। उन्होंने डेरा सच्चा सौदा द्वारा चलाए जा रहे मानवता भलाई के कार्यों की भी प्रशंसा की। इस मौके उपरोक्त जिम्मेवारों के अलावा सुखविन्दर बाबा इन्सां, चमकौर इन्सां, जसबीर कौर इन्सां, इन्दरजीत कौर और उक्त महिला के परिवारिक सदस्य उपस्थित थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here