झूठी साजिश का पर्दाफाश, नौकरानी और ड्राईवर ही निकले चोर, छह काबू

Fatehgarh Sahib News
झूठी साजिश का पर्दाफाश, नौकरानी और ड्राईवर ही निकले चोर, छह काबू

बंधक बनाकर चोरी करने की रची थी झूठी साजिश

अमलोह (सच कहूँ/अमित शर्मा)। श्रीफतेहगढ़ साहिब (Shri Fatehgarh Sahib News) स्थित एशिया की सबसे बड़ी लोहा नगरी मंडी गोबिंदगढ़ में करीब एक महीने पहले कारोबारी के घर हुई चोरी की घटना को पुलिस ने सुलझा लिया है। घटना को अंजाम देने वाली कारोबारी की पूर्व नौकरानी, उसके ड्राइवर और चार अन्य साथियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार आरोपियों से लाखों रुपए कीमत के सोने चांदी के जेवर, डायमंड, आई-फोन, चोरी की रकम से खरीदी कार, दो मोटरसाइकिल बरामद कर लिए गए। एसपी (आई) राकेश यादव ने बताया कि करीब एक महीने पहले मंडी गोबिंदगढ़ की चंद्रलोक कालोनी में रहते बड़े कारोबारी गौरव सिंगला व सौरव सिंगला के घर में चोरी हुई थी। 8 मई की शाम को दिल्ली में एक शादी में परिवार गया था। उन्होंने अपने नौकरों को घर की रखवाली के लिए छोड़ा था।

लाखों रुपऐ के गहने, चोरी के पैसों से खरीदी कार, दो बाइक बरामद

रात करीब 12 बजे चार अज्ञात युवक घर का पिछला दरवाजा तोड़कर घर में घुस आए थे, जिन्होंने दोनों नौकरों को बंधक बना लिया और बेडरूम में घुस गए थे। लॉकर तोड़कर लाखों रुपये, दो चांदी के डिनर सेट, सोने-चांदी, हीरे के आभूषण, कीमती धातुएं, चांदी की मूर्तियां और एक आईफोन 15 प्रो चुरा लिया था। दोनों नौकरों को बंधक बनाने के बाद वे फरार हो गए थे। गौरव सिंगला ने दिल्ली से वापस लौट 9 मई को मंडी गोबिंदगढ़ थाने में केस दर्ज कराया था।

चोरी के बाद ऐशप्रस्ती करने लगे आरोपी

चोरी करने के बाद आरोपी ऐशप्रस्ती में लग गए थे। रफीक खान ने चोरी की रकम में से इंडिका कार खरीदी। करणवीर ने नया मोटरसाइकिल खरीदा। गुरदीप सिंह ने यामहा खरीद लिया। नन्नू के हिस्से 3 लाख रुपए आए थे जो उसने अपने एचडीएफसी बैंक खाते में जमा करवा दिए थे। पुलिस ने इस खाते को फ्रीज करवा दिया है। सभी आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

ऐसे पकड़े गए चोर

एसपी यादव ने बताया कि गुरदीप सिंह उर्फ बूटा निवासी तरलोकपुरी मंडी गोबिंदगढ़, करणवीर सिंह निवासी बीड़ कुंबड़ा, सुनील कुमार निवासी फोकल प्वाइंट अजनाली, रकीब खान निवासी गांधी नगर मंडी गोबिंदगढ़ को गिरफ्तार किया। गुरदीप सिंह बूटा के किराए के कमरे से चोरी का सामान मिला। जांच में सामने आया कि गौरव सिंगला के घर नन्नू निवासी दालोमाजरा काम करती थी। नन्नू का पिता तेजिंदर सिंह इनके पास ड्राइवर था। नन्नू ने अपने पिता से मिलकर साजिश रची। उन्होंने घर पर निगरानी रखी। जैसे ही परिवार दिल्ली शादी समारोह में गया तो बाद में अपने साथियों संग मिलकर वारदात कर दी। Shri Fatehgarh Sahib News

Sunam: शैलर की दीवार गिरने से तीन मजदूरों की मौत, दो गंभीर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here