ग्रीवेंस कमेटी की बैठक में गृह मंत्री अनिल विज ने फिर दिखाए तीखे तेवर

Anil Vij on

हिसार (सच कहूँ न्यूज)। गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने शुक्रवार को जिला लोक संपर्क एवं जन परिवाद समिति की बैठक में शिकायतें सुनते हुए सहकारी समितियों के सहायक रजिस्ट्रार तथा हांसी के नायब तहसीलदार को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए। नायब तहसीलदार पर गिरवी रखी गई प्रॉपर्टी को आगे रजिस्ट्री करने का आरोप है। जब गृहमंत्री ने नए तहसीलदार को सस्पेंड किया तो ने तहसीलदार ने कहा थैंक यू सर। दूसरी तरफ सहायक रजिस्ट्रार को काम के प्रति लापरवाही बरतने तथा पुलिस का सहयोग न करने को लेकर सस्पेंड करने के आदेश दिए हैं।

थानों में रेवड़ियां मिलेगी

विज की कार्यशैली की ग्रीवेंस कमेटी में उपस्थित लोगों ने प्रशंसा की। विज ने हल्के फुल्के अंदाज में मजाक में कहा कि आज मकर संक्राति है, गुनाहगारों को रेवड़ियां मूंगफलियां थानों में मिलेगी। इतना ही नहीं, जब विज मीटिंग खत्म करने के बाद बाहर आए तो उन्होंने शिकायतकर्ताओं से खुद ही शिकायतें ली। शिकायतकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया और अनिल विज जिंदाबाद के नारे लगाए। बैठक में कुल 12 शिकायतें रखी गई थी। सबसे ज्यादा शिकायतें हिसार तथा हांसी पुलिस से जुड़ी हुई थी।

गृहमंत्री अनिल विज ने करीब 4 साल से पेंडिंग शिकायतों पर कड़ा संज्ञान लिया और अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि 4 साल से तारीख पर तारीख लगा देते हो यह चल क्या रहा है। मुझे तारीख नहीं नतीजा चाहिए। उन्होंने कहा कि जन परिवार समिति की बैठक में वे लोग आते हैं जो सब जगह से चक्कर काटकर तंग आ चुकी होते हैं। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि मेरी बैठक में तैयार होकर आएं। यहां तारीख नहीं फैसला होगा हर चीज का उत्तर चाहिए मेरी रेपुटेशन कहीं भी पूछ लो। कुछ मामलों में स्थानीय अधिकारियों ने हेड आॅफिस को लिखे जाने की बात गृहमंत्री के सामने रखी तो उन्होंने कहा कि लिखा लिखी तो 77 साल से चल रहा है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। मुझे नतीजे चाहिए।

प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री करवाकर हड़प लिए 1 करोड़ 32 लाख

शिकायतकर्ता अशोक कुमार ने बताया कि उसने अपनी जमा पूंजी दि आदर्श सहकारी समिति एनएटीसी समिति हांसी में जमा करवाई थी। तब विज ने जांच अधिकारी से पूछा कि कितना पैसा है। डीएसपी ने बताया कि 114 एफडीआर है। 1 करोड़ 32 लाख हड़पे गए हैं। वहीं नायब तहसीलदार जयवीर सिंह ने बताया कि सुनीता ने तथ्य छिपाकर रजिस्ट्री करवाई। इसमें एफआईआर दर्ज करवाई गई है। डीएसपी हांसी ने जवाब दिया कि सुनीता के खिलाफ एफआईआर है। विज ने कहा कि नायब तहसीलदार ने अपना रिकार्ड क्यों नहीं देखा। हांसी एसपी नितिका गहलोत ने कहा कि हम जांच में लगे हुए हैं। 10 से 15 दिनों तक गिरफ्तार कर लेंगे।

ऐसे तो रेलवे स्टेशन की रजिस्ट्री करवा दोगे

तब विज ने पूछा कि नायब तहसीदार कहां है। प्रॉपर्टी पलैज हुई है, नायब तहसीलदार ने चेक क्यों नहीं किया। तब नायब तहसीलदार जयवीर सिंह ने कहा कि रिकॉर्ड पटवारी के पास है। विज ने कहा कि आपने वेरीफाई किया? कोई फर्जी रजिस्ट्री लेकर आए तो रिकार्ड चेक क्यों नहीं किया। विज ने कहा कि कोई रेलवे स्टेशन का रिकॉर्ड दे दो तो रजिस्ट्री कर दोगे? विज ने कहा कि एनओसी कहां से ली। नायब तहसीलदार ने कहा कि आरोपी हमारे साथ ठगी कर गया। विज ने कहा कि तुमने सुविधा शुल्क लिया होगा। विज ने नायब तहसीलदार को सस्पेंड करने के आदेश दिए। साथ ही एडीसी की अध्यक्षता में जांच कमेटी बनाने के आदेश दिए।

यह भी पढ़ें:– Volleybal में दाहा ने नंगला मदौड़ को हराकर ट्राफी कब्जाई

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here