हरियाणा को सीएम मनोहर लाल ने नए साल पर दिया तोहफा

खट्टर ने किया 1882 करोड़ रुपए की 167 परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास

चंडीगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गत आठ वर्षों में क्षेत्रवाद, जातिवाद, भाई-भतीजावाद को छोड़कर सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में एक समान काम विकास की कवायद शुरू कर एक नई परिपाटी की शुरूआत की कड़ी में आज गुरुग्राम से 1882 करोड़ रुपए की 167 परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। खट्टर ने ‘हरियाणा एक-हरियाणवी एक’ के अपने विजन के तहत गुरुग्राम के धनवापुर में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम से प्रदेश के सभी जिलों को वर्चुअली सम्बोधित करते हुए कहा कि वित्त मंत्री के रूप में सरकार ने अपने बजट का सही नियोजन किया है और इसका 34.5 प्रतिशत पूंजीगत खर्च के रूप में ढांचागत विकास पर किया है।

यह भी पढ़ें:– डिलीवरी ब्वॉय को टक्कर मारने के बाद 500 मीटर तक घसीटा, मौत

1882 करोड़ रुपए की 167 परियोजनाओं

उन्होंने कहा कि विकास कार्यों के लिए किसी भी प्रकार के बजट की कमी न आये, इसके लिए हमने एक नई पहल करते हुए मीडियम टर्म खर्च आरक्षित कोष बनाया है। इसी प्रकार एक और नई पहल करते हुए गांवों और शहरों में भी विकास कार्यों में तेजी लाने के लिए ग्राम दर्शन एवं नगर दर्शन पोर्टल शुरू किया है, जिन पर नागरिक अपने इलाके की आवश्यकताओं के अनुसार विकास कार्यों की मांग पोर्टल पर कर सकते हैं तथा चुने हुए नए जनप्रतिनिधि भी अपने क्षेत्रों में नागरिकों द्वारा दर्ज की गई विकास कार्यों की मांग को प्राथमिकता अनुसार सरकार तक पहुँचा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हाल ही में पंचायतों के चुनाव सम्पन्न हुए और नये जनप्रतिनिधि छोटी सरकार के रूप में चुनकर आये हैं। अब सरपंच दो लाख रुपए तक के कार्य निविदाओं के आधार पर कर सकेंगे। कामों में पारदर्शिता रहे, इसके लिए सरकार ने इंजीनियरिंग वर्क्स पोर्टल भी बनाया है, जिसके माध्यम से ऐसे सभी कार्यों की प्रशासनिक, वित्तीय और तकनीकी मंजूरी आॅनलाइन मिलती है। अब जनता भी इन कामों पर निगरानी रख सकती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सरकारी विभागों में रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया पर काम कर रही है और इस वर्ष ग्रुप सी की 35 हजार और ग्रुप डी की 15 हजार पदों की भर्ती प्रक्रिया आरंभ की जाएगी।

इसके अलावा केंद्र सरकार भी बड़े स्तर पर भर्तियां करने जा रही है जिसका लाभ हरियाणा के युवाओं को भी मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कांग्रेस नेता और पूर्व प्रधानमंत्री का उल्लेख करते हुए कहा कि वर्ष 1990 में वे कहा करते थे कि केंद्र सरकार से एक रुपया भेजा जाता है तो उसमें से केवल 15 पैसे ही जमीनी स्तर तक पहुँचते हैं, उसी को रोकने के लिए हमने आॅनलाइन सिस्टम से इस पर अंकुश लगाया है और काफी हद तक हम सफल भी हुए हैं। पिछली सरकारों में अलग-अलग इलाकों को महत्व दिया जाता था लेकिन मौजूदा सरकार ने किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया है और सभी 90 विधानसभाओं का एक समान विकास सुनिश्चित किया है।

राज्य सरकार 500 करोड़ रुपए का अतिरिक्त खर्च वहन करेगी

उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि गरीब का हक पहले हो, इसलिए अंत्योदय की भावना से काम करते हुए आगे बढ़े हैं। सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए व्यवस्थाएं बदली हैं जिससे लोगों को घर बैठे ही सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है। राज्य सरकार ने परिवार पहचान पत्र के माध्यम से पात्र व्यक्तियों को लाभ पहुँचाने का काम किया है और इसके कारण जिन लोगों के व्यक्तिगत हित थे, उनको चोट लगी है, उनका धंधा बंद हुआ है।

उन्होंने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वे हमारी सरकार को पोर्टल सरकार कहते हैं, लेकिन हमने पोर्टल के माध्यम से लोगों की पहुँच सरकार तक सुलभ कराई है। गरीब व्यक्तियों को स्वास्थ्य लाभ देने के लिए चिरायु हरियाणा योजना के माध्यम से पांच लाख रुपये तक के इलाज की सुविधा दी जा रही है, जिस पर राज्य सरकार 500 करोड़ रुपए का अतिरिक्त खर्च वहन करेगी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here