पुंछ में घुसपैठ की कोशिश नाकाम, एक आतंकवादी मारा गया

Encounter in Anantnag

जम्मू (एजेंसी)। जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के समीप घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करते हुये सेना ने सोमवार को एक आतंकवादी को मार गिराया। जम्मू में रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि आज तड़के एक आतंकवादी ने नियंत्रण रेखा के पार से पुंछ सेक्टर में घुसपैठ करने की कोशिश की। उन्होंने कहा, ‘सेना के सतर्क जवानों ने एकीकृत निगरानी ग्रिड के प्रभावी उपयोग के जरिये इस घुसपैठ की कोशिश का पता लगाया। प्रवक्ता ने बताया कि इस दौरान सेना के जवानों के साथ मुठभेड़ में आतंकवादी मारा गया। इसके बाद आतंकवादी का शव बरामद किया गया और उसके पास से एक एके-47 राइफल भी बरामद हुई है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में सेना का अभियान अभी भी जारी है।

सीमावर्ती इलाके में रहने वाले लोग सैनिकों की तरह करते हैं सीमाओं की रक्षा: जितेंद्र

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने रविवार को कहा कि सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोग वास्तव में सलाम के पात्र हैं, क्योंकि वे उसी तरह सीमाओं की रक्षा करते हैं, जिस तरह हमारे वर्दी वाले सैनिक। डॉ. सिंह ने यहां सीमा जागरण मंच, सेवा भारती और एनएचपीसी द्वारा आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा, ‘इन लोगों को पिछली गैर-भाजपा सरकारों ने वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया और उनकी कोई परवाह नहीं की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में सरकार बनने के बाद, इन लोगों को अब न्याय मिल रहा है। उन्होंने कहा, ‘जल्द ही केंद्र सरकार सीमावर्ती इलाकों में जीरो लाइन पर सुरंगों का पता लगाने की तकनीक भी हासिल कर लेगी।

डॉ. सिंह ने कहा कि इस समय सीमा पर दो तरह की चुनौतियां हैं। उन्होंने कहा, ‘पहली सीमा पार से घुसपैठ है, इसे या तो सुरक्षा बलों ने या सीमा पर बाड़ लगाकर नियंत्रित किया गया है। अब सीमा पर सैटेलाइट के जरिये भी नजर रखी जा रही है। डॉ. सिंह ने कहा कि सबसे बड़ी चुनौती उन लोगों से है जो समाज के भीतर रहते हैं और घुसपैठ करने वालों या करवाने वालों के समर्थक हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में सीमावर्ती लोगों की हर मांग को पूरा करने का हर संभव प्रयास किया गया है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।